scorecardresearch
 

सपा नेतृत्व से खफा आजम खान, कहा- सही से साथ खड़ी नहीं हुई पार्टी

जेल में मुलाकात के बाद आजम खान के रिश्तेदार जमीर अहमद खान ने मीडिया से बातचीत में बताया कि आजम खान को लगता है कि जब यूपी की योगी आदित्यनाथ की सरकार ने विभिन्न मामलों में उनके खिलाफ केस दर्ज किए तो पार्टी साथ खड़े होने में नाकाम रही है.

पार्टी के रवैये से नाराज हैं आजम खान (फोटो-Getty Images) पार्टी के रवैये से नाराज हैं आजम खान (फोटो-Getty Images)

  • जेल में मुलाकात के बाद आजम के रिश्तेदार का दावा
  • दर्ज किए गए केस के मामले में पार्टी साथ खड़ी नहीं हुई

जेल में बंद समाजवादी पार्टी (सपा) के सांसद आजम खान पार्टी नेतृत्व के रवैये से खफा हैं. आजम खान को लगता है कि मुस्लिम होने की वजह से उन्हें निशाना बनाया जा रहा है. जेल में मुलाकात करने के बाद आजम खान के एक रिश्तेदार ने यह दावा किया.

जेल में मुलाकात के बाद आजम खान के रिश्तेदार जमीर अहमद खान ने मीडिया से बातचीत में बताया, 'आजम खान को लगता है कि जब यूपी की योगी आदित्यनाथ की सरकार ने विभिन्न मामलों में उनके खिलाफ केस दर्ज किए तो पार्टी साथ खड़े होने में नाकाम रही है. वह बहुत नाराज दिखे और जेल में मिलने के लिए आ रहे सपा के वरिष्ठ नेताओं से मिलना नहीं चाहते हैं. उन्हें लगता है कि मुस्लिम होने की वजह से उन्हें निशाना बनाया जा रहा है.'

ये भी पढ़ेंः आजम खान के वकील ने कहा- बदले की भावना से हुई कार्रवाई

जमीर अहमद खान ने बताया, 'आजम खान के मामले को ईमानदार तरीके से निपटाने के बाद रामपुर के एसपी का ट्रांसफर कर दिया गया. आजम खान और उनके परिजनों के साथ जेल अधिकारी तमीज से पेश नहीं आ रहे हैं.'

ये भी पढ़ेंः योगी सरकार पर बरसे शिवपाल यादव- क्या आजम खान गाय-बकरी चुराएंगे

सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने आजम खान और उनके परिजनों से पिछले सप्ताह सीतापुर जेल में मुलाकात की थी. तब अखिलेश यादव ने बीजेपी पर निशाना साधा था. उन्होंने आरोप लगाया था कि आजम खान को राजनीतिक साजिश के तहत निशाना बनाया जा रहा है.

बता दें कि आजम खान ने अपनी पत्नी तंजीन फातिमा और बेटे अब्दुल्ला के साथ पिछले सप्ताह बुधवार को रामपुर कोर्ट में आत्मसमर्पण कर दिया था. अब्दुल्ला आजम के दोहरे जन्म प्रमाण पत्र से संबंधित जालसाजी के एक मामले में उनके खिलाफ गैर-जमानती वारंट था. रामपुर की अदालत ने खान परिवार को 2 मार्च तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया था.

बाद में आजम खान, उनकी पत्नी और बेटे को 27 फरवरी को सीतापुर जेल भेज दिया गया था. असल में, समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं के प्रोटेस्ट के मद्देनजर आजम खान को सीतापुर जेल ट्रांसफर करने का फैसला किया गया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें