scorecardresearch
 

'कभी-कभी बुलडोजर उल्टा भी चलता है...', यूपी कैबिनेट में बवाल पर अखिलेश का तंज, मायावती ने भी घेरा

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर ये निशाना मंत्री दिनेश खटीक के इस्तीफे को लेकर साधा है. दरअसल, योगी सरकार में जलशक्ति विभाग के राज्यमंत्री दिनेश खटीक ने सरकार में दलितों को उचित मान-सम्मान न मिलने का आरोप लगाते हुए अपना इस्तीफा केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को भेजा है.

X
अखिलेश यादव और योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो)
अखिलेश यादव और योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • तबादलों में गड़बड़ी को लेकर कार्रवाई से नाराज हैं योगी के कुछ मंत्री
  • योगी सरकार में मंत्री दिनेश खटीक ने भेजा इस्तीफा

उत्तर प्रदेश में तबादलों में भ्रष्टाचार को लेकर हुई कार्रवाई से योगी सरकार के कई मंत्री नाराज बताए जा रहे हैं. अब इसे लेकर अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर तंज कसा है. वहीं मायावती ने भी योगी सरकार को घेरा है. अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कहा कि कभी-कभी बुलडोजर उल्टा भी चलता है. वहीं मायावती ने कहा कि दलित मंत्री की उपेक्षा दुर्भाग्यपूर्ण है.

इतना ही नहीं अखिलेश यादव ने योगी सरकार में मंत्री दिनेश खटीक को इस्तीफा देने की भी सलाह दे डाली. अखिलेश यादव ने कहा, जहां मंत्री होने का सम्मान तो नहीं परंतु दलित होने का अपमान मिले. ऐसी भेदभावपूर्ण भाजपा सरकार से त्यागपत्र देना ही अपने समाज का मान रखने के लिए सही उपाय है. 

 

 

दलित होने के कारण नहीं मिलता सम्मान- दिनेश खटीक

अखिलेश यादव ने योगी सरकार मंत्री दिनेश खटीक के इस्तीफे के सामने आने के बाद ये निशाना साधा है. दरअसल, योगी सरकार में जलशक्ति विभाग के राज्यमंत्री दिनेश खटीक ने सरकार में दलितों को उचित मान-सम्मान न मिलने का आरोप लगाते हुए अपना इस्तीफा केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को भेजा है.

पूर्व सीएम मायावती ने भी इस मसले पर यूपी सरकार को घेरा. उन्होंने लिखा कि उत्तर प्रदेश भाजपा मंत्रिमण्डल के भीतर भी दलित मंत्री की उपेक्षा अति-निन्दनीय व दुर्भाग्यपूर्ण है. सरकार अपनी जातिवादी मानसिकता व दलितों के प्रति उपेक्षा, तिरस्कार, शोषण व अन्याय को त्याग कर उनकी सुरक्षा व सम्मान का ध्यान रखने का दायित्व जरूर निभाए.

दिनेश खटीक ने अपना इस्तीफा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राजभवन को भी भेजा है. जलशक्ति विभाग के राज्यमंत्री दिनेश खटीक ने आरोप लगाया है कि दलित होने की वजह से विभाग में उनकी सुनवाई नहीं होती और न ही किसी बैठक की सूचना उन्हें दी जाती है. उन्होंने आरोप लगाया कि राज्यमंत्री के अधिकार के तौर पर सिर्फ गाड़ी दे दी गई है. 

जितिन प्रसाद भी नाराज!

दरअसल, यूपी में डॉक्टरों के तबादलों और लोक निर्माण विभाग में तबादलों में भ्रष्टाचार का मामला सामने आया था. इसके बाद योगी सरकार ने बड़ी कार्रवाई करते हुए उत्तर प्रदेश में लोक निर्माण विभाग के मंत्री जितिन प्रसाद के विशेष कार्याधिकारी ओएसडी अनिल कुमार पांडे को हटा दिया गया था. इसके अलावा PWD के पांच अफसरों-कर्मचारियों को निलंबित कर दिया गया था. बताया जा रहा है कि जितिन प्रसाद इसी कार्रवाई को लेकर नाराज हैं. वे आज दिल्ली में बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा से भी मिल सकते हैं. इससे पहले वे मंगलवार को सीएम योगी से भी मिले थे.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें