scorecardresearch
 

गणतंत्र दिवस की परेड में शामिल होने वाले रामफोसा दूसरे द.अफ्रीकी राष्ट्रपति

देश आज 70वां गणतंत्र दिवस मना रहा है. दिल्ली के राजपथ से आज पूरी दुनिया हिंदुस्तान की ताकत देखेगी. दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सायरिल रामफोसा इस बार के परेड के चीफ गेस्ट हैं. रामफोसा दक्षिण अफ्रीका के दूसरे राष्ट्रपति हैं जो बतौर मुख्य अतिथि परेड में शिरकत कर रहे हैं. इससे पहले दक्षिण अफ्रीका से 1995 में नेल्सन मंडेला मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल हुए थे.

सायरिल रामफोसा  (फोटो- Reuters) सायरिल रामफोसा (फोटो- Reuters)

देश आज 70वां गणतंत्र दिवस मना रहा है. दिल्ली के राजपथ से आज पूरी दुनिया हिंदुस्तान की ताकत देखेगी. दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सायरिल रामफोसा इस बार की परेड के चीफ गेस्ट हैं. रामफोसा दक्षिण अफ्रीका के दूसरे राष्ट्रपति हैं जो बतौर मुख्य अतिथि परेड में शिरकत कर रहे हैं. इससे पहले दक्षिण अफ्रीका से 1995 में नेल्सन मंडेला मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल हुए थे.

रामफोसा का गणतंत्र दिवस में मुख्य अतिथि होना खास है, क्योंकि देश इसी साल राष्ट्रपति महात्मा गांधी की 150वीं जयन्ती मना रहा है. सायरिल रामफोसा को महात्मा गांधी और दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्ट्रपति नेल्सन मंडेला का समर्थक माना जाता है.

रामफोसा नेल्सन मंडेला के प्रिय लोगों में से एक रहे हैं. मंडेला जब राष्ट्रपति का पद छोड़ रहे थे तो वो चाहते थे कि रामफोसा उनकी जगह लें. लेकिन अफ्रीकन नेशनल कांग्रेस ने उनकी जगह थाबो मबेकी को राष्ट्रपति बनाया. इससे वह निराश हुए और सियासत से किनारा कर लिया.

'रामफोसा का स्वागत करना खास बात'

पीएम मोदी खुद कह चुके हैं कि ऐसे समय जब भारत महात्मा गांधी की 150वीं जयन्ती मना रहा है, 2019 गणतंत्र दिवस समारोह में राष्ट्रपति रामफोसा का मुख्य अतिथि के रूप में स्वागत करना हमारे लिए सम्मान की बात है. दक्षिण अफ्रीका से बापू का करीबी संबंध जगजाहिर है.

रामफोसा की यात्रा दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों को और मजबूत करेगी. भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच व्यापारिक तथा लोगों के बीच संबंधों को और मजबूत करेगा.

जैकब जुमा के इस्तीफे के बाद बने थे द.अफ्रीका के राष्ट्रपति

75 वर्षीय जैकब जुमा के इस्तीफे के बाद 65 वर्षीय नेता सायरिल रामफोसा को अफ्रीकन नेशनल कांग्रेस (एएनसी) का नया अध्यक्ष चुना गया था. 15 फरवरी 2018 में उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति पद की शपथ ली. रामफोसा नेल्सन मंडेला के बाद राष्ट्रपति पद के दावेदार भी थे, लेकिन उनकी जगह थाबो मबेकी राष्ट्रपति बनने में कामयाब रहे.

27 अप्रैल 1994 रामफोसा पहली बार बने सांसद बने. उन्हें संवैधानिक सभा के अध्यक्ष के रूप में चुना गया. संविधान मसौदा प्रक्रिया के पूरा होने पर उन्होंने संसद और एएनसी के महासचिव के रूप में अपना पद छोड़ दिया और व्यवसाय में कदम रखने के लिए न्यू अफ्रीका इन्वेस्टमेंट्स लिमिटेड में शामिल हो गए. उनकी गिनती देश के सबसे धनी लोगों में होती है.

2014 में बने उप राष्ट्रपति

साल 2010 में उन्हें राष्ट्रीय योजना आयोग का उपाध्यक्ष नियुक्त किया गया. जिसे दक्षिण अफ्रीका के लिए दीर्घकालिक राष्ट्रीय विकास योजना का मसौदा तैयार करने के लिए बनाया गया था. 25 मई 2014 को उन्हें दक्षिण अफ्रीका का उप राष्ट्रपति नियुक्त किया गया. दिसंबर 2017 में, वह जोहान्सबर्ग में 54 वें राष्ट्रीय सम्मेलन में 13 वें एएनसी अध्यक्ष चुने गए थे.

गौरतलब है कि भारत ने गणतंत्र दिवस में बतौर मुख्य अतिथि शामिल होने के लिए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को न्योता भेजा था. ट्रंप ने अपनी व्यस्तता के कारण भारत का निमंत्रण अस्वीकार कर दिया था.

2015 से अब तक गणतंत्र दिवस के मेहमान

2015 - तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा

2016 - फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद

2017 -प्रिंस मोहम्मद बिन जायद अल नाहन

2018 आसियान देशों के 10 राष्ट्राध्यक्ष

2019 -सिरिल रामाफोसा, राष्ट्रपति, द.अफ्रीका

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें