scorecardresearch
 

रोहित के परिवार ने ठुकराई मदद की राशि, PM मोदी से मांगे जवाब

यूनिवर्सिटी परिसर पहुंची वेमुला की मां राधिका, बहन नीलिमा और भाई राजू ने मांग की कि उसकी मौत के लिए जिम्मेदार लोगों पर मामला दर्ज किया जाना चाहिए. नीलिमा ने कहा, 'एचसीयू से आठ लाख नहीं, बल्कि आप आठ-आठ करोड़ रुपये भी देंगे तो वो भी मंजूर नहीं है.'

X
रोहित वेमुला रोहित वेमुला

हैदराबाद यूनिवर्सिटी के छात्रावास में कथित तौर पर खुदकुशी करने वाले दलित छात्र रोहित वेमुला के परिजनों ने शनिवार को विश्वविद्यालय की तरफ से दी गई अनुग्रह राशि की पेशकश को ठुकरा दिया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी की आलोचना करते हुए परिजनों ने कहा कि सरकार को जवाब देने में पांच दिन का समय क्यों लग गया.

यूनिवर्सिटी परिसर पहुंची वेमुला की मां राधिका, बहन नीलिमा और भाई राजू ने मांग की कि उसकी मौत के लिए जिम्मेदार लोगों पर मामला दर्ज किया जाना चाहिए. नीलिमा ने कहा, 'एचसीयू से आठ लाख नहीं, बल्कि आप आठ-आठ करोड़ रुपये भी देंगे तो वो भी मंजूर नहीं है.' बता दें कि एचसीयू ने शुक्रवार को परिवार को आठ लाख रुपये अनुग्रह राशि देने की घोषणा की थी.

उन्होंने स्मृति ईरानी पर हमला करते हुए कहा, 'आपको पांच दिन क्यों लगे? आप भी एक औरत हैं, आप भी एक मां हैं. परिवार को फोन करने और मौत पर शोक जताने में आपको पांच दिन लग गए? मैं जानना चाहती हूं क्यों उसकी मौत हुई, आपने मारा या उसकी मौत हुई, उसे क्यों निलंबित किया गया? जिम्मेदार लोगों को गिरफ्तार कर दंडित किया जाना चाहिए. केवल यही चीज मुझे चाहिए.'

'कायर नहीं था मेरा भाई'
रोहित के भाई राजू ने कहा, 'प्रधानमंत्री ने कहा कि वह मां भारती का बेटा था. मैं इतना बड़ा नहीं हूं कि प्रधानमंत्री के बारे में बोलूं, लेकिन वह पांच दिन तक क्यों नहीं बोले?' रोहित की बहन ने कहा कि वह 'कायर' आदमी नहीं था. उन्होंने खुदकुशी को हत्या करार दिया. परिजनों ने मांग की कि रोहित और चार अन्य छात्रों पर पिटाई करने का आरोप लगाने वाले एबीवीपी नेता सुशील कुमार और विश्वविद्यालय के कुलपति अप्पा राव पोडिले को सजा मिलनी चाहिए.

'हम हत्या की वजह जानना चाहते हैं'
परिजनों ने कहा, 'हम रोहित की हत्या के पीछे की वजहों को जानना चाहते हैं. यह आत्महत्या नहीं है. उसे आत्महत्या के लिए उकसाया गया. हत्या के लिए जो जिम्मेदार हैं, उसे सजा मिलनी चाहिए. एक सुशील कुमार और दूसरे कुलपति को.' उन्होंने यह भी जानना चाहा कि परिवार को रोहित के निलंबन के बारे में क्यों नहीं सूचित किया गया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें