scorecardresearch
 

नीतीश ने नोटबंदी का समर्थन किया तब पीएम ने शराबबंदी को सराहा : रघुवंश प्रसाद सिंह

प्रकाश पर्व के बेहतर आयोजन को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की जमकर प्रशंसा हो रही है. आम तीर्थ यात्री से लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल तक उनके मुरीद हो चूके हैं, लेकिन उनके गठबंधन में शामिल आरजेडी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह इससे खुश नहीं.

पटना में गुरुगोविंद सिंह के 350वें प्रकाश पर्व के दौरान पीएम मोदी के साथ नीतीश कुमार पटना में गुरुगोविंद सिंह के 350वें प्रकाश पर्व के दौरान पीएम मोदी के साथ नीतीश कुमार

प्रकाश पर्व के बेहतर आयोजन को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की जमकर प्रशंसा हो रही है. आम तीर्थ यात्री से लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल तक उनके मुरीद हो चुके हैं, लेकिन उनके गठबंधन में शामिल आरजेडी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह इससे खुश नहीं. उनका मानना है कि प्रकाश पर्व के इस सफल आयोजन का श्रेय अकेले नीतीश कुमार को देना ठीक नहीं, बल्कि सूबे में सत्तारूढ़ महागठबंधन सरकार को दिया जाना चाहिए.

रघुवंश प्रसाद यूं तो हमेशा नीतीश कुमार के खिलाफ बयान देते हैं, लेकिन इस बार मंच पर अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को जगह ना मिलने से विचलित दिख रहे थे. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार गठबंधन की उपेक्षा कर रहे हैं और इससे लोगों में नाराजगी है. वरिष्ठ आरजेडी नेता ने कहा कि बिहार में महागठबंधन की सरकार है, व्यवस्था महागठबंधन सरकार की है, ऐसे में केवल नीतीश कुमार को क्रेडिट क्यों दिया जा रहा है.

प्रकाश पर्व के मुख्य समारोह के दौरान मंच पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी , बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल और बिहार के राज्यपाल के अलावा दो केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान और रविशंकर प्रसाद भी मौजूद थे. वहीं आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव अपने दोनों बेटे उपमुख्यमंत्री तेजस्वी और स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव के साथ समारोह में तो आए, लेकिन उन्हें मंच पर जगह नहीं मिली.

लालू समारोह में वीआईपी के लिए बैठने की जगह ही दर्शक की तरह बैठे रहे. उनके साथ वहां बिहार के कुछ मंत्रियों के अलावा पटना साहिब से सासंद शत्रुघ्न सिन्हा, पंजाब के उपमुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल, केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर भी बैठी थीं.

यहां मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने संबोधन में आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव का नाम लिया, लेकिन प्रधानमंत्री ने उनका नाम भी नहीं लिया. शत्रुघ्न सिन्हा का कहीं कोई जिक्र नहीं हुआ, जबकि वह पटना साहिब के सांसद हैं और उन्हीं के संसदीय क्षेत्र में यह भव्य आयोजन हो रहा था.

ऐसे में पूर्व केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह को मौका मिला गया और उन्होंने नीतीश कुमार पर अपनी भड़ास निकाल ली. दरअसल मंच पर कौन-कौन बैठेंगे, इसके लिए प्रोटोकॉल तय होता है और उसी नियम के तहत इंतजाम किया गया था. लेकिन इससे भड़के रघुवंश प्रसाद सिंह ने यहां तक कह दिया कि नीतीश कुमार ने नोटबंदी का समर्थन किया, इसलिए प्रधानमंत्री ने शराबबंदी का समर्थन किया है. हालांकि रघुवंश बाबू ने अंत में यह भी कहा कि लालू प्रसाद यादव को नीचे बैठाना आम लोगों ने पसंद नहीं किया, लेकिन इससे क्या होता है वह करोडों लोगों के दिल में बसते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें