scorecardresearch
 

वन रैंक वन पेंशन: PMO ने उठाया कदम, 10 दिन तक आंदोलन तेज नहीं करेंगे पूर्व सैनिक

वन रैंक वन पेंशन की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे पूर्व सेनाकर्मियों को शांत करने के लिए प्रधानमंत्री कार्यालय ने मंगलवार को प्रदर्शनकारियों के प्रतिनिधियों से बात की. जिसपर वह अगले 10 दिन तक अपना आंदोलन तेज न करने पर सहमत हो गए हैं.

X
Symbolic Image
Symbolic Image

वन रैंक वन पेंशन की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे पूर्व सेनाकर्मियों को शांत करने के लिए प्रधानमंत्री कार्यालय ने मंगलवार को प्रदर्शनकारियों के प्रतिनिधियों से बात की. जिसपर वह अगले 10 दिन तक अपना आंदोलन तेज न करने पर सहमत हो गए हैं.

जंतर मंतर पर तीसरे पूर्व सेनाकर्मी के आमरण अनशन में शामिल होने के बाद प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव नृपेंद्र मिश्र ने पीएम कार्यालय में प्रदर्शनकारियों से मुलाकात की. पूर्व सेनाकर्मी वन रैंक वन पेंशन (ओआरओपी) को जल्द क्रियान्वित करने की मांग को लेकर जंतर मंतर पर 65 दिन से प्रदर्शन कर रहे हैं.

इंडियन एक्स सर्विसमेन मूवमेंट के अध्यक्ष लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत) बलबीर सिंह ने कहा, 'हमने मंगलवार सुबह नृपेंद्र मिश्र से मुलाकात की. उन्होंने सामान्य स्थिति बहाल करने पर जोर दिया. जब उनसे पूछा गया कि उनका मतलब क्या है, उन्होंने कहा कि आमरण अनशन खत्म किया जाना चाहिए. हमने उनसे कहा कि यदि कोई ठोस आश्वासन मिलता है तो हम इसे रोक देंगे.' उन्होंने कहा कि रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर से पहले ही बात हो चुकी है. उन्होंने प्रधानमंत्री से मुद्दे पर चर्चा करने के लिए 10 दिन का वक्त मांगा है. इसलिए '10 दिन तक आंदोलन को तेज नहीं किया जाएगा.

-इनपुट भाषा

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें