scorecardresearch
 

कन्हैया से जबरन लिखवाई गई चिट्ठी, कोर्ट में योजना बनाकर हुई मारपीट: NHRC

एनएचआरसी की रिपोर्ट में कहा गया है अपील वाली चिट्ठी कन्हैया ने अपनी मर्जी से नहीं लिखी थी, बल्कि यह पुलिस के दबाव में लिखवाई गई थी.

X
कन्हैया को कोर्ट ले जाती पुलिस
कन्हैया को कोर्ट ले जाती पुलिस

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार को लेकर अपनी रिपोर्ट में चौंकाने वाली बातें रखी हैं. शुक्रवार को जारी इस रिपोर्ट में कहा गया कि ऐसा लगता है जैसे पटियाला हाउस कोर्ट में कन्हैया पर योजनाबद्ध तरीके से हमला किया गया था. यही नहीं, रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि कन्हैया के हवाले से पुलिस द्वारा जारी की गई अपील उनसे जबरदस्ती लिखवाई गई थी.

एनएचआरसी की रिपोर्ट में कहा गया है यह अपील वाली चिट्ठी कन्हैया ने अपनी मर्जी से नहीं लिखी थी, बल्कि यह पुलिस के दबाव में लिखवाई गई थी. रिपोर्ट यह भी बतलाती है कि पुलिस ने हिरासत में कन्हैया से किसी तरह की मारपीट तो नहीं की, लेकिन पूछताछ के दौरान उन पर मनोवैज्ञानिक दबाव जरूर डाला गया.

गौरतलब है कि एनएचआरसी ने जेएनयू में छात्रों के खिलाफ कार्रवाई के मामले में केंद्रीय गृह सचिव, दिल्ली के मुख्य सचिव, पुलिस कमिश्नर और यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार को नोटिस जारी कर 2 हफ्ते में रिपोर्ट देने को कहा है. आयोग ने इस घटना के बारे में मीडिया में आई रिपोर्ट्स का संज्ञान लेते हुए ये नोटिस जारी किए.

तिहाड़ पहुंची आयोग की टीम
आयोग की टीम ने शुक्रवार को तिहाड़ जेल का दौरा किया और कन्हैया से मुलाकात की. कन्हैया ने इस बात को माना कि उसके साथ पुलिस पूछताछ में किसी तरह का टॉर्चर नहीं किया गया, लेकिन उसने कहा कि उसे मानसिक दबाव में लिया गया. इससे पहले कन्हैया की मेडिकल रिपोर्ट में कहा गया था कि पटियाला हाउस कोर्ट में हमले के दौरान उन्हें बाहरी चोटें आईं. मेडिकल रिपोर्ट में इस बात की पुष्टि पुलिस के दावों के ठीक उलट है.

कन्हैया और उसके परिवार की सुरक्षा चिंता का विषय
रिपोर्ट में कोर्ट परिसर में कन्हैया पर हमले को पुलिस की ओर से सुरक्षा में बड़ी चूक माना गया है. आयोग ने कहा गया है कि घटनाक्रम को देखते हुए कन्हैया और उसके परिवार की सुरक्षा चिंता का विषय है.

बता दें कि कन्हैया को तीन दिन की पुलिस हिरासत खत्म होने के बाद बुधवार को अदालत में पेश किया गया था. वहां वकीलों ने कन्हैया और अन्य लोगों पर हमला किया. इस दौरान वहां मौजूद पत्रकारों को भी पीटा गया. इससे पहले सोमवार को भी JNU के छात्र , प्रोफेसर और कई पत्रकारों की वकीलों के इसी समूह ने पिटाई की थी. दिल्ली पुलिस ने 17 तारीख को कन्हैया के हवाले से एक अपील जारी की थी. कन्हैया ने इस अपील में माना है कि जेएनयू में 9 फरवरी की घटना दुर्भाग्यपूर्ण थी और इसकी निंदा भी की.

मंगलवार 9 फरवरी को जेएनयू में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान कथि‍त तौर देशविरोधी नारे लगाए जाने के बाद दिल्ली में सियासी माहौल भी पूरी तरह गर्म है. हाल ही इस घटना का एक वीडियो भी लीक हुआ, जिसके बाद से मामला बढ़ गया. पुलिस ने कार्रवाई करते हुए जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार को गिरफ्तार किया है.

कन्हैया की अपील वाली चिट्ठी-

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें