scorecardresearch
 

गुजरात में पटेल आरक्षण पर और बढ़ा बवाल, PM मोदी बोले- हिंसा से किसी का भला नहीं होता

पटेल आरक्षण की आग अब गुजरात के कई शहरों तक पहुंच चुकी है. सूरत और मेहसाणा के बाद अहमदाबाद के कई इलाकों में कर्फ्यू लगा दिया गया है. केंद्र सरकार ने हालात पर काबू पाने के लिए अर्द्धसैनिक बल के 5000 जवान गुजरात भेजे हैं.

X
गुजरात के कई शहरों तक पहुंची हिंसा की आग गुजरात के कई शहरों तक पहुंची हिंसा की आग

पटेल आरक्षण की आग अब गुजरात के कई शहरों तक पहुंच चुकी है. सूरत और मेहसाणा के बाद अहमदाबाद के कई इलाकों में कर्फ्यू लगा दिया गया है. केंद्र सरकार ने हालात पर काबू पाने के लिए अर्द्धसैनिक बल के 5000 जवान गुजरात भेजे हैं. इस बीच अहमदाबाद के मोटेरा में प्रदर्शनकारियों पर काबू पाने के लिए पुलिस ने फायरिंग की है. हिंसक आंदोलन में अभी तक 6 लोगों की मौत हो गई है.

जानकारी के मुताबिक, अभी तक अहमदाबाद में तीन, पालनपुर में दो और महेसाणा में एक की मौत हो चुकी है. अहमदाबाद के अखबारनगर इलाके में बुधवार दोपहर को झड़प भी हुई है. विरोध प्रदर्शन के हिंसक होने के बाद वहां भी हवाई फायरिंग की गई. सूरत में भी प्रदर्शनकारियों की भीड़ पर कार्रवाई की गई है. हिंसक हो रही भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा और आंसूगैस के गोले छोड़ने पड़े.

हिंसा से किसी का भला नहीं होता: PM मोदी
गुजरात में आरक्षण आंदोलन से भड़की हिंसा पर PM नरेंद्र मोदी ने अपनी प्रतिक्रिया दी है. मोदी ने कहा कि हिंसा से किसी का भला नहीं होता.

जारी रहेगा हमारा आंदोलन: हार्दिक पटेल
पटेल आरक्षण की अगुवाई कर रहे युवा नेता हार्दिक पटेल ने आजतक से खास बातचीत में कहा, 'हमारा आंदोलन जारी रहेगा. हम जनता से शांति बनाए रखने की अपील करते हैं. हमारी तरफ से हिंसा की शुरुआत नहीं हुई. सरकार हमारी मांग माने, नहीं तो बाद में जो कुछ होगा, उसके लिए सरकार जिम्मेदार होगी.'

हालात काबू में करने के लिए शहर में पारा मिलिट्री फोर्स की तैनाती की गई है. हिंसा प्रभावित इलाकों में BSF और RAF की 6 कंपनियां लगाई गई हैं. केंद्र ने अर्द्धसैनिक बलों के 5000 से अधिक जवान भेजे हैं.

प्रदर्शनकारियों ने फूंका गृहमंत्री का घर
हालात किस हद तक बेकाबू हो चुके हैं, इसका अंदाज इस बात से लगाया जा सकता है कि प्रदर्शनकारियों ने मेहसाणा में गृहमंत्री का घर तक फूंक दिया.

आज गुजरात बंद की अपील
गुजरात आरक्षण की आग में  बुरी तरह झुलस रहा है. राज्य के कई इलाकों में कर्फ्यू लगा दिया गया है. इन सबके बीच हार्दिक पटेल ने बुधवार को गुजरात बंद का आह्वान किया है.

राजनाथ सिंह ने की CM से बात
केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने गुजरात की मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल से हालात के मद्देनजर बात की है.

 

लाठीचार्ज के आरोपों की जांच के लिए कमेटी
पटेल समाज के अहमदाबाद में हुए आंदोलन के बाद मंगलवार देर शाम अचानक हिंसा भड़क उठी. हालांकि पटेल समाज के नेता हार्दिक पटेल और सीएम की अपील के बाद हालात कुछ काबू में आए, लेकिन तनाव बरकरार है. सीएम ने जीएमडीसी ग्राउंड मामले की पूरी रिपोर्ट तलब की है. हार्दिक पटेल पर लाठीचार्ज के आरोपों की जांच के लिए कमेटी बना दी गई है.

सड़कों पर आए लोग
अहमदाबाद में पाटीदार नेता हार्दिक पटेल को गिरफ्तार करने से पूरे गुजरात में तंगदिली फैल गई है. सूरत के वराछा, पांडेसरा, पूणागाम, कपोदरा इलाके में लोग सड़क पर आ गए. कपोदरा पुलिस की जीप पर भी हमला किया गया. इतना ही नहीं, वराछा रोड पर आए हीराबाग सर्कल के पास लोगों ने बस में आग लगा दी. पूणागाम सीतानगर चौराहे पर एक टेम्पो को भी आग लगाई जाने की खबर है.

पाटीदार समुदाय संयम रखे: हार्दिक पटेल
हार्दिक पटेल ने लोगों से अपील की है, 'पटीदार समुदाय के लोग संयम और शांति बनाए रखें. कानून व्यवस्था बनाए रखें. जिन लोगों को पकड़ा गया था, उन्हें छोड़ दिया गया है. क्राइम ब्रांच ने मुझे घर तक पहुंचा दिया है. गुजरात में कोई माहौल खराब न हो. सभी को सोशल नेटवर्क के जरिए लोगों को हमारी बातों को पहुंचाना होगा. सभी लोग घरों में रहें.'

गुजरात विधानसभा का सत्र बुधवार से
इस बीच गुजरात विधानसभा के सत्र की शुरुआत बुधवार से हो रही है. इसमें सबसे पहले दिवंगत पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम को श्रद्धांजलि दी जाएगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें