scorecardresearch
 

भूकंप से थर्राया उत्तर प्रदेश, अब तक 12 लोगों की मौत

नेपाल में आए भीषण भूकंप का असर उत्तर प्रदेश में भी दिखा. लखनऊ समेत राज्य के बाकी शहरों में भूकंप से मरने वालों की संख्या 9 तक पहुंच गई है. भूकंप के कारण छत और दीवार गिरने की घटनाओं में 12 लोगों की मौत हो गई है. 

भूकंप से हिली धरती भूकंप से हिली धरती

नेपाल में आए भीषण भूकंप का असर उत्तर प्रदेश में भी दिखा. लखनऊ समेत राज्य के बाकी शहरों में भूकंप से मरने वालों की संख्या 12 तक पहुंच गई है. भूकंप के कारण छत और दीवार गिरने की घटनाओं में 12 लोगों की मौत हो गई और करीब 15 अन्य घायल हो गए. भूकंप का वीडियो

प्रदेश के लगभग सभी जिलों में कई बार आए भूकंप की वजह से पूरे प्रदेश में भय और अफरातफरी का माहौल पैदा हो गया और घबराए लोग अपने-अपने घरों, दफ्तरों और दुकानों से बाहर निकल आए. बार-बार भूकंप आने से दहशतजदा अनेक लोगों ने खुले मैदानों में शरण ले ली और वहां काफी देर तक रुके रहे. जलजले से कई मकानों और इमारतों में दरारें आ गई और टेलीफोन, इंटरनेट समेत दूरसंचार सेवाओं पर असर पड़ा.

'मुआवजे का हुआ ऐलान'
मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से फोन पर बात करके भूकंप से प्रदेश में उत्पन्न स्थिति से अवगत कराया और प्रशासन को चौकस रहने के आदेश दिए. साथ ही उन्होंने जलजले के कारण हुए हादसों में मारे गए लोगों के परिजन को सात-सात लाख और घायलों को 20-20 हजार रुपये सहायता देने का ऐलान किया है. इसके अलावा वरिष्ठ अधिकारियों को भूकंप से हुए नुकसान का आकलन करने के निर्देश भी दिए.

मौसम विभाग के सूत्रों के मुताबिक लखनऊ में 11:45 AM पर करीब 30 सेकेंड और फिर करीब 12:15 PM पर लगभग 10 सेकेंड तक भूकंप के झटके महसूस किए गए. अमेरिकी भूगर्भ सर्वेक्षण के मुताबिक भूकंप की तीव्रता 7.9 थी और उसका केंद्र नेपाल में था.

'भूकंप से इन लोगों ने गंवाई जान'
बाराबंकी से पुलिस थाना प्रभारी रविन्दर सिंह के हवाले से प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक मोहम्मदपुर खाला थाना क्षेत्र के वसंतापुर गांव में भूकम्प के दौरान उदल यादव नामक व्यक्ति के मकान की निर्माणाधीन दीवार ढहने से मलबे में दबकर श्यामा देवी (60) और शांति (06) और खुशबू (08) की मौत हो गई. इस हादसे में आठ अन्य लोग भी घायल हुए हैं जिन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

बाराबंकी के अपर जिलाधिकारी प्रेम प्रकाश पाल ने मृतकों के परिजन को दैवीय आपदा राहत कोष से सात-सात लाख और घायलों को 45-45 हजार रुपये सहायता देने की घोषणा की है. गोरखपुर से थानाध्यक्ष जयवर्धन सिंह के हवाले से प्राप्त रिपोर्ट के मुताबिक गुलहरिया थाना क्षेत्र के ठाकुरपुर में भूकंप के कारण दीवार गिरने से ढाई साल के एक बच्चे की मृत्यु हो गई. इसके अलावा छावनी थाना क्षेत्र के मोहद्दीपुर इलाके में भूकंप से एक स्कूल की छत ढह गई जिसके मलबे में दबकर राजू (06) नामक छात्र की मौत हो गई और एक शिक्षक और तीन छात्रों को चोटें आईं.

इसके अलावा उनवल थाना क्षेत्र के एक गांव में एक महिला भूकंप आने के बाद भयवश छत से कूद गई जिससे वह घायल हो गई. इसके अलावा मियां बाजार, रेती चौक, नक्खास और धर्मशाला बाजार जैसे पुराने इलाकों में बड़ी संख्या में मकानों की दीवारें और छतों में दरारें आ गईं. संतकबीर नगर से थाना प्रभारी दिनेश यादव के हवाले से प्राप्त खबर के मुताबिक मेहदावल थाना क्षेत्र के पुरवा गांव में भूकंप से कच्चा मकान ढहने से मलबे में दबकर खुशबू (08) नामक लड़की की मौत हो गयी तथा दो अन्य लोग घायल हो गए.

'अखिलेश यादव ने किया छुट्टी का ऐलान'
मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भूकंप की सूचना मिलने पर स्कूलों में तत्काल छुट्टी करने का आदेश दे दिए. अखिलेश ने ‘ट्वीट’ के जरिए बताया कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से फोन पर हुई बातचीत में भूकम्प से प्रदेश में उत्पन्न स्थिति से अवगत कराया है.

'इन शहरों में महसूस किए गए भूकंप के झटके'
लखनऊ के अलावा प्रदेश के फिरोजाबाद, प्रतापगढ़, हरदोई, बलरामपुर, जालौन, नोएडा, बलिया, सीतापुर, फर्रुखाबाद, अमेठी, मैनपुरी, गाजियाबाद, हाथरस, सिद्धार्थनगर, लखीमपुर खीरी, बरेली, वाराणसी, सुल्तानपुर, रायबरेली समेत अनेक अन्य जिलों में भी भूकम्प के झटके महसूस किए गए. इनमें से अनेक स्थानों पर जलजले के कारण इमारतों में दरारें पड़ गईं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें