scorecardresearch
 

भूकंप के कहर से नेपाल में मातम, अब तक 2500 से ज्यादा की मौत

नेपाल में शनिवार दोपहर को अाए जबरदस्त भूकंप  में मरने वालों की तादाद अब 2500 तक पहुंच चुकी है और 4718 लोग घायल हैं. नेपाल के गृह मंत्रालय ने इन आंकड़ों की पुष्टि की है.

भूकंप भूकंप

नेपाल में शनिवार दोपहर को अाए जबरदस्त भूकंप  में मरने वालों की तादाद अब 2500 से ज्यादा पहुंच चुकी है और 6329 लोग घायल हैं. नेपाल के गृह मंत्रालय ने इन आंकड़ों की पुष्टि की है. रविवार को नेपाल में सुबह 6 बजे से लेकर दोपहर 12.40 तक चार बार भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए.

इससे पहले शनिवार को करीब 35 मिनट के अंदर 9 बार भूकंप के झटके महसूस किए गए. करीब 1 मिनट तक भूकंप के तेज झटके आते रहे. भूकंप के झटकों का केंद्र नेपाल के लामजुम में बताया जा रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भूकंप के मद्देनजर इमरजेंसी मीटिंग बुलाई थी जिसमें नेपाल को हरसंभव मदद दिए जाने का फैसला लिया गया. भारत की ओर से NDRF की 15 टीमें रविवार तक नेपाल भेजी जाएंगी. भारतीय वायुसेना ने अपने C-130J सुपर हरक्यूलिस एयरक्राफ्ट को भी नेपाल भेजा. नेपाल में मौत का आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है.

वहीं पाकिस्तान ने भारत और नेपाल को मदद की पेशकश की है. भारत में भी मौत की खबर आ रही है. अब तक बिहार में 32, उत्तर प्रदेश में 12 और पश्चिम बंगाल में तीन व्यक्ति की मौत हुई है. दिल्ली-एनसीआर, उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्च‍िम बंगाल, उड़ीसा व नॉर्थ-ईस्ट समेत कई राज्यों में तेज भूकंप आया. भूकंप का पता चलते ही लोग घरों और ऑफिसों से बाहर निकलकर सड़कों पर आ गए.

देखिए भूकंप की पहली तस्वीरें

बताया जा रहा है कि भूकंप के सबसे ज्यादा झटके पश्चिम बंगाल में महसूस किए गए. पहली बार झटके लगातार एक मिनट तक महसूस हुए. दोबारा आने वाला भूकंप भी करीब 20 सेकेंड तक रहा. देर रात तक नेपाल में भूकंप के झटके महसूस किए गए. शनिवार सुबह से रात तक 58 भूकंप के झटके महसूस किए गए.

भूकंप के चलते लोग काफी डरे सहमे हुए हैं. सड़कों पर लगी स्ट्रीट लाइड से लेकर घरों के टीवी और अन्य सामान भी हिलते नजर आए. काठमांडू में भूकंप के चलते कई घरों को नुकसान पहुंचा है. तेज भूकंप से नेपाल की राजधानी काठमांडू स्थित भारतीय वाणिज्य दूतावास परिसर में एक पुरानी इमारत के गिर जाने से दूतावास में काम करने वाले एक भारतीय कर्मचारी की बेटी की मौत हो गई वहीं उनकी पत्नी की हालत गंभीर बताई जा रही है.

बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने कहा, 'नेपाल सीमा से लगी बहुत बड़ी पट्टी पर भूकंप आया है. भूकंप की तीव्रता 7.5 मापी गई, जो बहुत ज्यादा है. हम सभी हालात का जायजा लेने में लगे हुए हैं.'

बिहार में मुजफ्फरपुर के रहने वाले शशि भूषण कुमार सिन्हा ने बताया, ‘मैं खाली पैर बाथरूम में गया था, तभी मुझे पैरों के नीचे तेज कंपन महसूस हुआ. मुझे तेज झटके महसूस हुए. इसके तुरंत बाद मैंने अपने परिवार के अन्य लोगों से संपर्क करने की कोशिश की, तो मालूम पड़ा कि मोबाइल सेवा भी ठप पड़ गई है. हालांकि थोड़ी देर बाद ही मेरे कॉल लगने लगे.’

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अभी दिल्ली में हैं. उन्होंने बताया कि वो पटना लौट रहे हैं साथ ही उन्होंने यह भी सूचना दी, ‘सभी संबंधित अधिकारियों से बातचीत की गई है. भूकंप के प्रभाव का जायजा लिया जा रहा है. चीफ सेक्रेटरी क्राइसिस मैनेजमेंट मीटिंग ले रहे हैं.’

भूकंप का असर ये रहा कि कोलकाता में मेट्रो सेवा रोक दी गई थी, हालांकि बाद में इसे चालू कर दिया गया. बताया जा रहा है कि पाकिस्तान के लाहौर में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए.



बिहार के बेगूसराय में भी भूकंप के झटके करीब एक मिनट तक महसूस हुए. स्थानीय निवासी प्रणव कुमार ने बताया कि अचानक धरती हिलने लगी तो लोग सड़क पर आ गए और देखते ही देखते अफरातफरी मच गई. हालांकि किसी तरह के नुकसान की सूचना नहीं है.

यूपी के फिरोजाबाद जिले में रहने वाले मनोज कुमार ने बताया कि वहां भी भूकम्प के झटके महसूस किए गए. इस तरह के झटके फिरोजाबाद में पहली बार महसूस किए गए हैं. वहीं,फतेहपुर जिले में करीब 2 मिनट तक झटके महसूस हुए. काफी देर तक भूकंप के झटकों से लोग सहम गए और घरों से बाहर भागे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट के जरिए लिखा कि नेपाल से भूकंप की खबर आई है. भारत के कई इलाकों से भी भूकंप की खबरे आ रही हैं.

उन्होंने आगे लिखा, 'हम और जानकारी जुटा रहे हैं. देश में और नेपाल में हम मदद के लिए लोगों तक पहुंचने की कोशिश में लगे हैं.'

 

भूकंप की खबर के तुरंत बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार और सिक्किम के मुख्यमंत्रियों से बातचीत की.

 

भूकंप से प्रभावित यूपी के शहरों का हाल
यूपी की राजधानी लखनऊ समेत सूबे के अधिकांश हिस्सों में भूकम्प के झटके महसूस किए गए. इससे कई शहरों में अफरातफरी मच गई और घबराए लोग अपने-अपने दफ्तरों तथा दुकानों से बाहर निकल आए.

मौसम विभाग के सूत्रों के मुताबिक, लखनऊ में दोपहर 11 बजकर 45 मिनट पर करीब 20 सेकेंड तक भूकम्प के झटके महसूस किए गए. हालांकि विस्तृत पड़ताल जारी है. लखनऊ के अलावा प्रदेश के फिरोजाबाद, फर्रुखाबाद, अमेठी, मैनपुरी, बाराबंकी, गाजियाबाद, हाथरस, गोरखपुर, वाराणसी, सुलतानपुर, रायबरेली समेत अनेक जिलों में भूकम्प के झटके महसूस किए गए.

जलजले से घबराए लोग अपने-अपने दफ्तरों और प्रतिष्ठानों से बाहर निकल आए और सड़कों पर जमा हो गए, जिससे कई जगह ट्रैफिक जाम हो गया. हालांकि थोड़ी देर बाद भूकम्प खत्म होने पर लोगों ने राहत की सांस ली.

भूकंप से प्रभावित उत्तराखंड के इलाकों का हाल
उत्तराखंड में भी हर जगह भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए, जिससे राज्य के लोग दहशत में आ गए. मौसम विभाग के निदेशक डॉ. आनंद शर्मा ने बताया कि दोपहर 11:41 बजे आए भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 7.5 थी और उसका केंद्र नेपाल में था. देहरादून और पिथौरागढ़ सहित उत्तराखंड के लगभग सभी जिलों में कुछ सेकेंड के लिए झटके महसूस किए गए. झटके काफी तेज होने के कारण लोग दहशत में आ गए. राज्य आपदा प्रबंधन केंद्र से मिली जानकारी के अनुसार, अभी प्रदेश के किसी हिस्से से बड़े नुकसान की कोई खबर नहीं मिली है.


पश्चिम बंगाल में भूकंप का हाल
भूकंप से पूरा पश्चिम बंगाल कांप उठा, जिससे लोगों के बीच दहशत फैल गई. कोलकाता मौसम विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी डीके दास ने बताया, ‘शहर में और पूर्वी क्षेत्र के अन्य भागों में भूकंप के झटके महसूस किए गए. हम और ब्योरे का इंतजार कर रहे हैं.’

कोलकाता के लेक टाउन, साल्ट लेक, डलहौजी और पार्क स्ट्रीट इलाके सहित कई इलाके में भूकंप आया. जिलों से मिली खबर के मुताबिक, पुरुलिया, बांकुरा, बर्धमान, पूर्वी मेदनीपुर और नादिया जिले में भी भूकंप महसूस किया गया.

भूकंप के बाद पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने कहा, 'भूकंप के झटके महसूस हुए हैं. हालात की समीक्षा की जा रही हैं.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें