scorecardresearch
 

कांग्रेस का सरकार पर विफलता का आरोप, बीजेपी ने कहा कांग्रेस से विरासत में मिला आतंकवाद

पठानकोट हमले को लेकर बीजेपी ने कांग्रेस पर हमला बोला तो बीजेपी ने भी जमकर पलटवार किया. बीजेपी ने कहा कि देश को कांग्रेस से आतंकवाद विरासत में मिला है.

पठानकोट हमले को लेकर कांग्रेस और बीजेपी में आरोप-प्रत्यारोप पठानकोट हमले को लेकर कांग्रेस और बीजेपी में आरोप-प्रत्यारोप

पंजाब के पठानकोट में आतंकी हमले पर देश में सियासत भी तेज हो गई है. विपक्षी दल कांग्रेस ने संवाददाता सम्मेलन कर सरकार को घेरने की कोशिश की तो बीजेपी ने कांग्रेस के इस कदम की निंदा करते हुए कहा कि देश को कांग्रेस से आतंकवाद विरासत में मिला है.

सबसे पहले कांग्रेस नेता और पूर्व गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे सामने आए और पठानकोट हमले और आतंकियों की घुसपैठ को लेकर सरकार पर पांच सवाल दागे. शिंदे ने मोदी सरकार को कटघरे में रखते हुए पूछा कि अलर्ट के बाद भी कैसे हमला हो गया . क्या सरकार सो रही थी?

कांग्रेस के सरकार से पांच सवाल:

1. पाकिस्तानी उच्चायुक्त को बुलाकर अंतरराष्ट्रीय मंच पर पठानकोट हमले का मामला क्यों नहीं उठाया?
2. गृहमंत्री ने गलत ट्वीट क्यों किया और बाद में डिलीट क्यों किया? पीएम या गृहमंत्री या रक्षा मंत्री ने ऑपरेशन का नियंत्रण अपने हाथों में क्यों नहीं लिया? स्पष्ट कमांड और कंट्रोल संरचना का गठन क्यों नहीं किया?
3. सुरक्षा में खामी का जिम्मेदार कौन? प्रधानमंत्री बताएं कि इंटेलिजेंस अलर्ट के बावजूद पठानकोट एयरबेस में आतंकवादी कैसे घुस गए? आतंकियों की पहली घटना और एयरबेस में मुठभेड़ के बीच 20 से 24 घंटे का वक्त बीता. इस घातक चूक का कारण क्या है?
4. क्या रक्षा मंत्री आतंकवादियों के एयरबेस तक पहुंचने के लिए गृह मंत्रालय और पंजाब पुलिस को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं? इस चूक से जवानों की शहादत का जिम्मेदार कौन है?
5. क्या ये ड्रग्स से संबंधित आतंकवाद है और क्या घुसपैठ करने वाले आतंकियों ने उसी रास्ते, तरीके और लॉजिस्टिक सपोर्ट का इस्तेमाल किया है, जो ड्रग्स तस्कर पंजाब प्रशासन के अधिकारियों की मिलीभगत के साथ करते हैं?

इसके बाद पलटवार में बीजेपी ने राष्ट्रीय सचिव श्रीकांत शर्मा को उतारा. श्रीकांत शर्मा ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी इस मामले पर सियासत कर रही है. शर्मा ने कहा कि देश को कांग्रेस से आतंकवाद विरासत में मिली है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें