scorecardresearch
 

'चमकी बुखार' से दुनिया के 24 देश परेशान, भारत में 8 साल में 11 हजार मौतें

एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम  यानी चमकी बुखार से सिर्फ भारत में बच्चों की जान नहीं जा रही बल्कि इसकी जद में दक्षिण-पश्चिम एशिया और पश्चिमी प्रशांत के 24 देश भी हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के अनुसार इन 24 देशों के करीब 300 करोड़ लोगों पर इसके संक्रमण का खतरा रहता है.

बिहार के मुजफ्फरपुर में एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (AES) से पीड़ित बच्चा. (फोटो-गेटी) बिहार के मुजफ्फरपुर में एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (AES) से पीड़ित बच्चा. (फोटो-गेटी)

एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (AES) यानी चमकी बुखार से सिर्फ भारत में बच्चों की जान नहीं जा रही बल्कि इसकी जद में दक्षिण-पश्चिम एशिया और पश्चिमी प्रशांत के 24 देश भी हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की रिपोर्ट के अनुसार इन 24 देशों के करीब 300 करोड़ लोगों पर इसके संक्रमण का खतरा रहता है. अगर सिर्फ भारत की बात करें तो राष्ट्रीय वैक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के अनुसार 2011 से अब तक यानी आठ साल में एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (AES) और जैपेनीज इंसेफेलाइटिस (JE) यानी चमकी बुखार के 91968 मामले सामने आए हैं. इनमें से 11254 लोगों की मौत हो चुकी है. इनमें से 99% पीड़ित 15 साल से कम उम्र के बच्चे थे.  

देश के 20 राज्यों में 178 जिलों में एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (AES) और जैपेनीज इंसेफेलाइटिस (JE) का प्रकोप करीब-करीब हर साल फैलता है. ये राज्य है - आंध्र प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, असम, बिहार, दिल्ली, गोवा, हरियाणा, झारखंड, कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र, मणिपुर, मेघालय, नगालैंड, पंजाब, त्रिपुरा, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और पश्चिम बंगाल.

map-japanese-encephalitis_061819013457.jpg

एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (AES) और जैपेनीज इंसेफेलाइटिस (JE) से संक्रमित देश.

मच्छरों की वजह से होता है एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (AES)

एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (AES) क्यूलेक्स मच्छरों की वजह से होता है. एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम जैपेनीज इंसेफेलाइटिस का घातक रूप है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की रिपोर्ट के अनुसार इसकी वजह से हर साल दुनिया के 24 देशों में 13600 से 20400 बच्चों की मौत होती है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने वर्ष 2006 में AES शब्द को एक ऐसे रोग समूह के रूप में दर्शाया, जिसमें कई बीमारियों के लक्षण दिखते हैं, इनमें अंतर करना मुश्किल होती है, इसलिए इलाज भी मुश्किल हो जाता है. जैपेनीज इंसेफेलाइटिस पहली बार 1871 में जापान में खोजा गया था.

ये बीमारियां भी बन सकती हैं एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (AES) का कारण

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार हर्पीस सिम्प्लेक्स वायरस, निपाह वायरस, जीका वायरस, इन्फ्लुएंजा ए वायरस, वेस्ट नाइल वायरस, चंडीपुरा वायरस, मम्प्स, खसरा, डेंगू, स्क्रब टाइफस, एस. न्यूमोनिया भी AES का कारण बन सकती हैं. इंसेफलाइटिस को प्राय: जापानी बुखार भी कहा जाता है, क्योंकि यह जापानी इंसेफलाइटिस (जेई) नामक वायरस के कारण होता है. यह एक प्राणघातक संक्रामक बीमारी है, जो फ्लैविवायरस (Flavivirus) के संक्रमण से होती है. यह मुख्य रूप से बच्चों को प्रभावित करती है, जिनकी प्रतिरक्षा वयस्कों की तुलना में काफी कमज़ोर होती है.

एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (AES) से बिहार में 108 बच्चों की मौत

बिहार के मुजफ्फरपुर में सैकड़ों बच्चे एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (AES) यानी चमकी बुखार की चपेट में हैं. मुजफ्फरपुर में इस बुखार से मरने वालों की संख्या बढ़कर 108 हो गई है, वहीं अस्पतालों में भर्ती बीमार बच्चों की संख्या बढ़कर 414 हो गई है. चमकी बुखार से पीड़ित ज्यादातर मरीज मुजफ्फरपुर के सरकारी श्रीकृष्णा मेडिकल कॉलेज एंड अस्पताल (एसकेएमसीएच) और केजरीवाल अस्पताल में एडमिट हैं. अब तक एसकेएमसीएच हॉस्पिटल में 89 और केजरीवाल अस्पताल में 19 बच्चों की मौत हो गई है.

चमकी बुखार के लक्षण क्या हैं?

चमकी बुखार के लक्षण क्या है? लोग ये कैसे अंतर कर पाएंगे कि उनके बच्चे को चमकी बुखार है आम बुखार नहीं. मुजफ्फरपुर के चाइल्ड स्पेशलिस्ट डॉक्टर अरुण शाह ने बताया कि चमकी बुखार में बच्चे को लगातार तेज बुखार चढ़ा ही रहता है. बदन में ऐंठन होती है. बच्चे दांत पर दांत चढ़ाए रहते हैं. कमजोरी की वजह से बच्चा बार-बार बेहोश होता है. यहां तक कि शरीर भी सुन्न हो जाता है. कई मौकों पर ऐसा भी होता है कि अगर बच्चों को चिकोटी काटेंगे तो उसे पता भी नहीं चलेगा. जबकि आम बुखार में ऐसा नहीं होता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें