scorecardresearch
 

मैली गंगा पर सिंघवी का ट्वीट, 'अकबर से मिलना हो तो पिएं गंगाजल'

आपको बता दें कि बीते कई बरसों में गंगा सफाई पर सरकार के करोड़ों रुपए खर्च हो चुके हैं. हालांकि, गंगा का पानी लगातार बद से बदतर ही होता गया है, सुप्रीम कोर्ट-NGT समेत कई संस्थानों ने इस पर कड़ी टिप्पणी की है.

अभिषेक मनु सिंघवी (फाइल फोटो) अभिषेक मनु सिंघवी (फाइल फोटो)

2014 में गंगा की सफाई के वादे के साथ सत्ता में आई भारतीय जनता पार्टी पर अब विरोधी इसको लेकर निशाना साध रहे हैं. कांग्रेस नेता और वरिष्ठ वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने मंगलवार सुबह ट्वीट किया और गंगा के हाल पर मोदी सरकार पर तंज कसा.

सिंघवी ने ट्वीट किया कि एक ऐतिहासिक तथ्य है कि अकबर सिर्फ गंगा का पानी पीता था, क्योंकि उसे लगता था कि गंगा का पानी पीने से सभी प्रकार की बीमारियां खत्म हो जाती हैं. लेकिन आज ऐसा हाल है कि अगर आपको अकबर से मिलना है, तो आपको गंगा का पानी पीना पड़ेगा.

गौरतलब है कि गंगा सफाई का मुद्दा मोदी सरकार के लिए नाक की लड़ाई बनता जा रहा है. सरकार के शुरुआती कार्यकाल में उमा भारती को गंगा सफाई की जिम्मेदारी दी गई थी, लेकिन अच्छा रिजल्ट ना आता देख नितिन गडकरी को मंत्रालय दिया गया.

 

नितिन गडकरी ने लगातार दावा किया है कि अगले साल तक गंगा सफाई का लगभग 80 फीसदी काम पूरा हो जाएगा. सरकार की ओर से गंगा के कई हिस्सों में क्रूज़ चलाने की भी योजना है, ताकि गंगा से कमाई भी हो सके.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें