scorecardresearch
 

राजस्थानः निगम चुनाव में कोरोना पर वोटरों का जोश हावी, 62 फीसदी से ज्यादा मतदान

जयपुर में बने दो नगर निगम में से एक नगर निगम हेरिटेज के 100 वार्डों के लिए गुरुवार को वोटिंग पूरी होने के साथ ही 430 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला भी ईवीएम में बंद हो गया. 

प्रतीकात्मक तस्वीर. प्रतीकात्मक तस्वीर.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • जयपुर हेरिटेज में सबसे कम वोटिंग
  • कोरोना पर हावी दिखा लोगों का जोश
  • 3 नवंबर को होनी है मतगणना

राजस्थान के 3 नगर निगमों में हुए चुनाव में कोरोना पर लोगों का जोश हावी दिखा. सूबे में करीब 62 फीसदी से ज्यादा मतदाताओं ने वोट डाले. कोटा उत्तर में सबसे ज्यादा 65 प्रतिशत मतदान हुआ. यह आंकड़ा पिछली बार से ज्यादा है.जोधपुर उत्तर में 62.44 प्रतिशत मतदान हुआ. सबसे कम वोटिंग जयपुर हेरिटेज में रही, यहां केवल 57.42 फीसदी मतदान ही हुआ.

जयपुर में बने दो नगर निगम में से एक नगर निगम हेरिटेज के 100 वार्डों के लिए गुरुवार को वोटिंग पूरी होने के साथ ही 430 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला भी ईवीएम में बंद हो गया. सुबह 7.30 से शाम 5.30 बजे चली इस मतदान प्रक्रिया में 57.42 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया. जयपुर में पिछले चुनाव की तुलना में  इस बार वोटिंग प्रतिशत 3.6 फीसदी कम रहा.

पिछले नगर निगम चुनावों में जयपुर में एक ही नगर निगम था, जिसमें कुल 91 वार्ड थे. इनमें से 41 वार्ड पांच विधानसभा क्षेत्र सिविल लाइन्स, किशनपोल, आदर्श नगर के वार्डों का नया सीमांकन करते हुए नगर निगम हेरिटेज जयपुर का गठन किया, जिसमें कुल 100 वार्ड बनाए गए है. पिछले साल की तुलना करें तो इन 41 वार्ड में कुल मतदान 60.05 फीसदी वोटिंग हुई थी.

देखें- आजतक LIVE TV

पीपीई किट में मतदान करने पहुंचे कोरोना पॉजीटिव

कोरोना वायरस संक्रमण के बाद भी लोग बेखौफ नजर आए. इस दौरान 14 कोरोना संक्रमित लोगों ने भी पीपीई किट पहनकर शाम 5.30 के बजे बाद पोलिंग बूथ पर जाकर अपना वोट डाला. मतदान खत्म होने के बाद सभी ईवीएम मशीनें जयपुर में जेएलएन मार्ग स्थित कॉमर्स कॉलेज लाई गईं. बता दें कि जयपुर, कोटा और जोधपुर के एक-एक नगर निगमों के चुनाव 1 नवंबर को कराए जाने हैं और 3 नवंबर को मतगणना होनी है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें