scorecardresearch
 

राजस्थान: वैक्सीन के लिए ग्लोबल टेंडर फेल, सुप्रीम कोर्ट में अर्जी लगाएगी गहलोत सरकार!

जानकारी दी गई है कि ग्लोबल टेंडर की प्रक्रिया में वैक्सीन कंपनियों के बजाय उनके डिस्ट्रीब्यूटर्स ने हिस्सा लिया था और उनकी तरफ से वैक्सीन के जो दाम बताए गए थे, उस पर सरकार वैक्सीन खरीदने को तैयार नहीं थी.

X
राजस्थान सरकार का वैक्सीन के लिए ग्लोबल टेंडर औंधे मुंह गिरा ( फोटो-ANI) राजस्थान सरकार का वैक्सीन के लिए ग्लोबल टेंडर औंधे मुंह गिरा ( फोटो-ANI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • वैक्सीन के लिए ग्लोबल टेंडर औंधे मुंह गिरा
  • राज्य सरकार ने बताया- दाम ज्यादा ले रहे
  • सुप्रीम कोर्ट में डाली जाएगी याचिका

राजस्थान देश का पहला राज्य था जिसने ऐलान कर दिया था कि वो कोरोना वैक्सीन के लिए ग्लोबल टेंडर निकालेगा. उस समय खुद सीएम अशोक गहलोत की तरफ से इस ऐलान को काफी उत्साह के साथ किया गया था. लेकिन अब सरकार की ये पहल पूरी तरह फ्लॉप साबित हुई है और उनका वैक्सीन के लिए निकाला गया ग्लोबल टेंडर भी फेल हो गया है. खुद राजस्थान सरकार की तरफ से इस बारे में विस्तार से बताया गया है.

 वैक्सीन के लिए ग्लोबल टेंडर औंधे मुंह गिरा

जानकारी दी गई है कि ग्लोबल टेंडर की प्रक्रिया में वैक्सीन कंपनियों के बजाय उनके डिस्ट्रीब्यूटर्स ने हिस्सा लिया था और उनकी तरफ से वैक्सीन के जो दाम बताए गए थे, उस पर सरकार वैक्सीन खरीदने को तैयार नहीं थी. उदाहरण के लिए ऐस्ट्राजेनेका वैक्सीन की डोज की कीमत 11 सौ रुपये रखी गई थी तो वहीं स्पूतनिक का दाम 900 बताया गया था. अब राज्य सरकार का तर्क है कि भारत को पहले से ही ये वैक्सीन इससे कम दाम में मिल रही हैं. ऐसे में वे ज्यादा पैसे क्यों खर्च करेंगे.

राजस्थान सरकार सुप्रीम कोर्ट क्यों जा रही है?

अब इसी कड़ी में कहा जा रहा है कि राजस्थान सरकार बहुत जल्द सुप्रीम कोर्ट का रुख करने जा रही है. वहां पर उनकी तरफ से अपील की जाएगी कि राज्यों के बजाय केंद्र की तरफ से कोरोना वैक्सीन के लिए ग्लोबल टेंडर निकाला जाए. वहीं जो टेंडर इस प्रक्रिया में हिस्सा ले रहे हैं, वे सही है या नहीं, इसकी जांच की जिम्मेदारी भी केंद्र सरकार की ही होती है. ऐसे में अब वैक्सीन के लिए ग्लोबल टेंडर भारत सरकार की तरफ से निकाला जाना चाहिए. राज्य के स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा की मानें तो 2 दिन के अंदर सुप्रीम कोर्ट में इस सिलसिले में याचिका डाली जा सकती है.

किस वजह से फेल हुआ टेंडर?

बता दें कि राजस्थान सरकार की तरफ से एक करोड़ वैक्सीन आयात के लिए ग्लोबल टेंडर निकाला गया था. स्पूटनिक, एस्ट्राजेनेका, कोवीशील्ड जैसी कंपनियों के डिस्ट्रीब्यूटर्स ने प्रक्रिया में हिस्सा लिया था. अब सरकार का मानना है कि उनकी ये पहल इसी पहलू पर फेल हो गई क्योंकि जिस प्रक्रिया में सीधे कंपनियों को भाग लेना चाहिए था, वहां पर उनकी जगह डिस्ट्रीब्यूटर्स को भेजा गया और फिर उन डिस्ट्रीब्यूटर्स ने वैक्सीन के औने-पौने दाम लगा दिए जिस वजह से ग्लोबल टेंडर फेल हो गया.

क्लिक करें- कोरोना: विदेशी कंपनियों का राज्यों को वैक्सीन देने से इनकार? 18+ के वैक्सीनेशन पर संकट 

राजस्थान के कोरोना मीटर की बात करें तो राज्य में अब संक्रमण कम होता दिख रहा है. पिछले 24 घंटे में राज्य में कोरोना के 3554 मामले सामने आए हैं और 85 मौत हुई है. एक महीने में पहली बार मौतों का आंकड़ा सौ के नीचे आया है. इस समय राज्य में एक्टिव मरीजों की संख्या 71,099 रह गई है.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें