scorecardresearch
 

गुर्जरों का सरकार को अल्टीमेटम- कल से पूरे राजस्थान में सड़क और रेल मार्ग करेंगे जाम

आरक्षण की मांग कर रहे गुर्जर (Gurjar) नेताओं ने सरकार को चेतावनी दी है कि रविवार शाम तक अगर उनकी मांगें नहीं मानी गईं तो सोमवार से पूरे राजस्थान में रेल से लेकर सड़क तक हर जगह चक्का जाम कर देंगे.

X
Gurjar Agitation In Rajasthan: गुर्जर आंदोलन
Gurjar Agitation In Rajasthan: गुर्जर आंदोलन
स्टोरी हाइलाइट्स
  • आरक्षण की मांग कर रहे गुर्जर समुदाय के लोग
  • राजस्थान में रेल की पटरियों पर बैठे आंदोलनकारी
  • गुर्जर आंदोलन के कारण रेल यातायात प्रभावित

राजस्थान में आरक्षण की मांग को लेकर गुर्जर समुदाय का आंदोलन पिछले कई दिन से लगातार जारी है. रेल की पटरियों पर डटे गुर्जर नेताओं ने सरकार को चेतावनी दी है कि रविवार शाम तक अगर उनकी मांगें नहीं मानी गईं तो सोमवार से पूरे राजस्थान में रेल से लेकर सड़क तक हर जगह चक्का जाम कर देंगे.

पूरे राजस्थान में चक्का जाम करने के लिए गुर्जर नेताओं ने आज यानी रविवार को बैठक बुलाई. कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला (Gurjar Leader Bainsla) चक्का जाम पर अंतिम निर्णय लेंगे. इसकी तैयारी के लिए उन्होंने हिंडौन से लेकर दौसा और सिकंदरा तक बैठक की हैं. जिसमें गुर्जर समाज के लोगों ने कहा कि अगर रविवार शाम तक सरकार की तरफ से कोई ठोस प्रस्ताव नहीं आया या फिर कोई वार्ता के लिए नहीं आया तो कल यानी सोमवार सुबह से पूरे राजस्थान में हर जगह चक्का जाम कर दिया जाएगा.

देखें: आजतक LIVE TV 

बैंसला ने कहा कि सरकार हमें आंदोलन करने के लिए मजबूर कर रही है. हमारी 6 मांगे हैं, अगर सरकार उन्हें मान लेती है तो हम आंदोलन नहीं करना चाहते. उन्होंने रहा कि सरकार की दोहरी नीति से करीब 35 हजार गुर्जरों को नौकरी नहीं मिल पा रही है.

बता दें कि बैंसला के बंद कमरों में पंच पटेलों के साथ शनिवार को दिनभर की मीटिंग की खबर जैसे ही फैली राजस्थान में कई जगहों पर गुर्जरों ने कई घंटों तक सड़क पर जाम लगाया. जिसकी वजह से लोग दिन भर परेशान होते रहे. बयाना और सवाई माधोपुर में 10 से 12 घंटे तक सड़क पर जाम रहा.

इस बीच माना जा रहा है कि बैंसला के उग्र रूप को देखते हुए सरकार वार्ता के लिए तैयार हो गई है. गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति के संयोजक बैंसला से बातचीत करने के लिए खेल मंत्री अशोक चांदना को सरकार दोबारा भेज सकती है. बता दें कि गुर्जर आंदोलन की वजह से अभी भी भरतपुर, करौली और दौसा जिले में आम जीवन बुरी तरह से प्रभावित है. 

गुर्जर आंदोलन की वजह से रेलवे ने कई ट्रेनों के रूट डायवर्ट कर दिए हैं. वहीं, कुछ गाड़ियों को रद्द भी किया जा चुका है. राजस्थान रोडवेज की बसें बंद होने से लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. इसके अलावा इंटरनेट की सेवाएं बंद होने से भी जनजीवन प्रभावित हुआ है.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें