scorecardresearch
 

Pegasus विवाद पर BJP-कांग्रेस में आर-पार, CM योगी बोले- जाकी रही भावना जैसी...

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि विपक्ष की मंशा पूरी नहीं होगी. जनता इसका जवाब देगी. राफेल जैसे मुद्दे को लेकर साल 2019 में भी माहौल खराब करने की कोशिश हुई लेकिन तब जनता ने विपक्ष को जवाब दिया था. इस बार भी जनता ही जवाब देगी.

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो) यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • झूठे आरोप लगा बदनाम करने की कोशिश कर रहा विपक्ष- योगी
  • मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज, देवेंद्र फडणवीस ने भी बोला हमला

पेगासस सॉफ्टवेयर के जरिए विपक्षी दलों के नेताओं और पत्रकारों की जासूसी के मसले पर विपक्ष हमलावर है. संसद के मॉनसून सत्र में विपक्ष की घेरेबंदी के बीच भारतीय जनता पार्टी की ओर से राज्य स्तर पर नेताओं ने मोर्चा संभाल लिया है. यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर विपक्ष, खासकर कांग्रेस पर जोरदार हमला बोला.

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि पेगासस सॉफ्टवेयर को लेकर विपक्ष जिस तरह का वातावरण बनाने की कोशिश कर रहा है, ये विपक्ष की कुत्सित मंशा को उजागर करता है. जाकी रही भावना जैसी, प्रभु मूरत देखी तिन तैसी. उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन के नाम पर किसान को मजहब के साथ जोड़कर भड़काने, देश विरोधी काम करने के लिए विपक्ष सहयोग देता है. सीएम योगी ने कहा कि ये कोशिशें भारत की छवि को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खराब करेंगी. तथ्यहीन और झूठे आरोप लगाकर देश के नेतृत्व को बदनाम करने की कोशिश करने का काम विपक्ष कर रहा है.

ये भी पढ़ें- Pegasus ही नहीं, इजरायली कंपनी Candiru के स्पाईवेयर से भी हो रही जासूसी!

उन्होंने कहा कि जब एक साहसिक निर्णय संसद सत्र को लेकर किया जाता है, तब संसद सत्र शुरू होने से ठीक एक दिन पहले सनसनीखेज आरोप लगाया गया. यह राजनीति के गिरते स्तर को प्रदर्शित करता है. विपक्ष नकारात्मक भूमिका में अंतरराष्ट्रीय साजिश का शिकार हो रहा है. ये भारत को अस्थिर करने की चाल है. यूपी के सीएम ने कहा कि ये पहली घटना नहीं है.

साल 2020 के शुरू में अमेरिकी राष्ट्रपति के भारत दौरे से ठीक पहले साजिशन दंगा कराया गया. उन्होंने कहा कि भारत में कोरोना प्रबंधन को दुनियाभर के देश सराह रहे थे लेकिन विपक्ष ऐसा माहौल बना रहा था जैसे सरकार सच्चाई से रूबरू ही नहीं है. कई ऐसे मौके आए हैं जब देश में बड़ा आयोजन होता है तब विपक्ष साजिश का शिकार होकर भारत के खिलाफ साजिश का भाग बन जाता है.

कोरोना काल में विपक्ष ने की नकारात्मक राजनीति

यूपी के सीएम ने कहा कि कांग्रेस जो करती रही है, आज भी उन्हीं मंसूबों के साथ आगे बढ़ रही है. कोरोना काल में विपक्ष ने नकारात्मक राजनीति की है. लोगों को संबल देने की बजाए वातावरण खराब करने की कोशिश की गई. उन्होंने कहा कि संसद आम नागरिक की आवाज को रखने की जगह है और संसद की परंपरा रही है कि मंत्रिमंडल के पुनर्गठन के साथ नए मंत्रियों का परिचय संसद में कराया जाता है. योगी आदित्यनाथ ने कहा कि इस बार अनूसूचित जाति, जनजाति और पिछड़े वर्ग से आने वाले मंत्रियों का परिचय विपक्ष को रास नहीं आया और शोरगुल किया गया. संसद में जो हुआ वह लोकतंत्र का गला घोंटने जैसा है.

पूरी नहीं होगी विपक्ष की मंशा, जनता देगी जवाब

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि विपक्ष की मंशा पूरी नहीं होगी. जनता इसका जवाब देगी. राफेल जैसे मुद्दे को लेकर साल 2019 में भी माहौल खराब करने की कोशिश हुई लेकिन तब जनता ने विपक्ष को जवाब दिया था. इस बार भी जनता ही जवाब देगी. उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी और जनता के मुद्दों पर संसद में चर्चा हो सकती थी लेकिन विपक्ष ने संसद को शोरगुल का केंद्र बना दिया है. विपक्ष को जनता से माफी मांगनी चाहिए. 

शिवराज ने बताया भारत को बदनाम करने की साजिश

मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भी विपक्ष पर जोरदार हमला बोला और कहा कि पेगासस स्पाईवेयर से जासूसी कराने का मामला भारत को बदनाम करने की साजिश है. उन्होंने कहा कि जब कंपनी यह साफ कर चुकी है कि उसके ग्राहक पश्चिमी देशों से हैं तो फिर भारत को बदनाम क्यों किया जा रहा है. सच यह है कि मोदी जी के नेतृत्व में समृद्ध और शक्तिशाली भारत का निर्माण हो रहा है लेकिन विदेशी ताकतें और कांग्रेस इसे पचा नहीं पा रहे. सोच समझकर मॉनसून सत्र की शुरुआत से ठीक एक दिन पहले इसे लाया गया ताकि देश के विकास के लिए जिन विधेयकों पर चर्चा होनी है, वो न हो सके.

ये भी पढ़ें- Pegasus जासूसी मामले की जांच करेगा फ्रांस, कई लोगों को बनाया गया था निशाना

शिवराज ने कहा कि बीजेपी के लिए राष्ट्र प्रथम है. जो कांग्रेस और राहुल गांधी जो खुद शून्य हैं, ऐसे लोगों का फोन टैप करवाकर हम क्या करेंगे. इतिहास देखें तो तीन मूर्ति भवन से लेकर सफदरजंग रोड तक रहने वाले नेता हमेशा जासूसों से घिरे रहे. कामरान थे या लाल बहादुर शास्त्री हों, उस समय इंदिरा गांधी ने जासूसी कराकर इन्हें निपटाया. नरसिम्हा राव को जासूसी करके निपटने वाली सोनिया गंधी हैं. मध्य प्रदेश में भी कमलनाथ को निपटाने का काम दिग्विजय सिंह ने किया. दिग्विजय एक-एक पल की जानकारी रखते थे और पीछे से खुद ही सरकार चलाते थे.

राहुल गांधी चीनी अधिकारियों से मिलने क्यों गए

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री ने राहुल गांधी को निशाने पर लिया और कहा कि वे देर रात को गुपचुप तरीके से चीन के अधिकारियों से मिलने क्यों गए? मणिशंकर अय्यर पाकिस्तान के नेताओं से विदेश में जाकर क्यों मिले? उन्होंने आरोप लगाया कि यूपीए की सरकार के समय नौ हजार फोन हर महीने टैप होते थे. मुलायम सिंह यादव, जयललिता यह वो लोग हैं जिन्होंने फोन टैपिंग के आरोप लगवाए थे. तब मनमोहन सिंह ने कहा था कि सरकार ने नहीं, निजी कंपनी ने टैप किए हैं. उन्होंने कांग्रेस की ओर से लगाए गए आरोप का खंडन किया.

बिन सत्ता के तड़प रही है कांग्रेस- रुपाणी

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा है कि कांग्रेस लंबे समय तक सत्ता में रही है. वह इस समय सत्ता के बिना छटपटा रही है. उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस भारत की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाकर सत्ता में आना चाह रही है. सकारात्मक विपक्ष की भूमिका निभाने की जगह कांग्रेस विकास की राजनीति का विरोद कर रही है. गुजरात के सीएम ने कहा कि फोन टैपिंग का मुद्दा जिस एजेंसी ने उठाया है, उसके पास भी पेगासस के भारत में इस्तेमाल का कोई डेटा नहीं है. भारत के टुकड़े-टुकड़े करने के नारे लगाने वाली गैंग, सेना को बदनाम करने वाले अर्बन नक्सल गैंग और आतंकी अफजल की फांसी पर सुप्रीम कोर्ट को हत्यारा कहने वाले गैंग के समर्थन से इस तरह के आरोप लगाए जा रहे हैं.

फडणवीस ने बताया संसद सत्र डिरेल करने की कोशिश

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने पेगासस मामले को संसद सत्र को डिरेल करने और कार्यवाही को प्रभावित करने की कोशिश बताया. उन्होंने आरोप बेबुनियाद बताते हुए कहा कि एनएसओ भी रिपोर्ट को आधारहीन बता चुकी है. पेगासस का मुद्दा 45 देशों को लेकर चल रहा है लेकिन आज हर कोई भारत के संदर्भ में बात कर रहा है. पहले भी हमने देखा कि कुछ मीडिया संस्थानों को चीन से फंडिंग हो रही थी. भारत को बदनाम करने की कोशिश ठीक नहीं है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें