scorecardresearch
 

Gujarat Next CM: नए सीएम के नाम पर अटकलों का दौर! सीआर पाटिल ने खुद को बताया रेस से बाहर

आजतक से बात करते हुए सीआर पाटिल ने साफ कर दिया है कि वे किसी भी तरह की सीएम रेस का हिस्सा नहीं हैं. उन्हें ये पोस्ट नहीं चाहिए. अब उनका खुद को इस रेस से बाहर करना इस मुकाबले को और ज्यादा कड़ा बना देता है.

X
सीआर पाटिल ने किया खुद को मुकाबले से बाहर सीआर पाटिल ने किया खुद को मुकाबले से बाहर
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सीआर पाटिल बोले- सीएम रेस में नहीं
  • मुश्किल होती जा रही गुजरात सीएम रेस
  • मंडाविया-नितिन में कड़ी टक्कर

गुजरात की राजनीति में विजय रुपाणी के इस्तीफे के बाद से राजनीतिक भूचाल तो पहले ही आ चुका है, अब नया सीएम कौन होगा, इसको लेकर भी अटकलों का दौर लगातार जारी है. इस रेस में कई नाम शामिल हैं. कोई केंद्र में मंत्री है, कोई राज्य अध्यक्ष है तो किसी के साथ जातीय समीकरण सटीक बैठ रहे हैं. अब इस बीच खबर है कि गुजरात बीजेपी अध्यक्ष सीआर पाटिल ने खुद को सीएम रेस से बाहर कर लिया है.

सीआर पाटिल बोले- सीएम रेस में नहीं

आजतक से बात करते हुए सीआर पाटिल ने साफ कर दिया है कि वे किसी भी तरह की सीएम रेस का हिस्सा नहीं हैं. उन्हें ये पोस्ट नहीं चाहिए. अब उनका खुद को इस रेस से बाहर करना इस मुकाबले को और ज्यादा कड़ा बना देता है. अभी तक मंडाविया, नितिन पटेल और सीआर के नाम पर सबसे ज्यादा चर्चा हो रही थी. कहा जा रहा था कि इन तीनों में किसी की भी ताजपोशी की जा सकती है. लेकिन अब जब खुद ही सीआर पाटिल ने अपने आप को इस मुकाबले से बाहर कर लिया है, ऐसे में ये मुकाबला मंडाविया और नितिन के बीच सिमटता दिख रहा है.

वैसे इस सब के अलावा पुरुषोत्तम रुपाला, गोरधन जडाफिया के नाम पर भी चर्चा है. अब असल में किसे गुजरात का मुख्यमंत्री बनाया जाता है, ये कल सुबह तय हो जाएगा जब बीजेपी विधयक दल की बैठक होगी. बैठक के बाद ही नए सीएम का ऐलान कर दिया जाएगा.

रुपाणी का इस्तीफा क्यों?

जानकारी के लिए बता दें कि विजय रुपाणी का इस्तीफा देना एक बार के लिए हैरान कर सकता है, लेकिन ऐसी खबर है कि बीजेपी ने ऐसा करने का मन काफी पहले बना लिया था. खुद पुरुषोत्तम रुपाला ने बताया था कि बीजेपी ऐसे एक्सपेरिमेंट लगातार करती रहती है. समय-समय पर नेतृत्व परिवर्तन करना जरूरी रहता है. कहा जा रहा है कि कोरोना मिसमैनेजमेंट, पाटीदारों की नाराजगी, और बेरोजगारी की वजह से रुपाणी को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा. ये सभी वो मुद्दे रहे जिन पर कई महीनों से चर्चा चल रही थी. कार्यकर्ता भी नाराज थे, लेकिन अब जाकर इसका परिणाम देखने को मिला है. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें