scorecardresearch
 

सरकार ने लोकसभा में मानी पेट्रोल-डीजल से खूब कमाई की बात, वित्त मंत्री बोलीं-GST में लाने का प्रस्ताव नहीं

देश में पेट्रोल और डीजल की कीमतें 27 फरवरी से अपरिवर्तित बनी हुई हैं. चुनावी माहौल में एक तरफ ये सरकार के लिए राहत की बात है. लेकिन आज लोकसभा में सरकार ने स्वीकार किया कि पेट्रोल-डीजल से उसकी अच्छी खासी कमाई हो रही है. जानें क्या कहा सरकार ने...

ईंधन की कीमतें देश में उच्च स्तर पर बनी हुई हैं (सांकेतिक फोटो) ईंधन की कीमतें देश में उच्च स्तर पर बनी हुई हैं (सांकेतिक फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • विपक्ष का सवाल ‘चुनावी माहौल में क्यों नही बढ़ रही कीमत?’
  • पिछले साल जनवरी से अब तक 13 रुपये की बढ़त
  • दूसरे देशों के तुलनात्मक आंकड़े नहीं सरकार के पास

देश में पेट्रोल और डीजल की कीमतें 27 फरवरी से अपरिवर्तित बनी हुई हैं. चुनावी माहौल में एक तरफ ये सरकार के लिए राहत की बात है. लेकिन आज लोकसभा में सरकार ने स्वीकार किया कि पेट्रोल-डीजल से उसकी अच्छी खासी कमाई हो रही है. जानें क्या कहा सरकार ने...

पेट्रोल से 33, डीजल से 32 रुपये लीटर की कमाई
सरकार ने लोकसभा में एक सवाल के जवाब में स्वीकार किया कि 6 मई 2020 के बाद से पेट्रोल और डीजल पर उत्पाद शुल्क, उपकर और अधिभार से क्रमश: 33 रुपये और 32 रुपये प्रति लीटर की कमाई हो रही है. जबकि मार्च 2020 से 5 मई 2020 के बीच उसकी ये आय क्रमशः 23 रुपये और 19 रुपये प्रति लीटर थी.

पिछले साल जनवरी से अब तक 13 रुपये की बढ़त
सरकार ने लोकसभा में कहा कि एक जनवरी से 13 मार्च 2020 के बीच सरकार की पेट्रोल और डीजल से प्रति लीटर क्रमश: 20 रुपये और 16 रुपये की कमाई हो रही थी. इस तरह अगर 31 दिसंबर 2020 से तुलना की जाए तो सरकार की पेट्रोल से कमाई 13 रुपये और डीजल से 16 रुपये प्रति लीटर बढ़ी है.

चुनावी माहौल में क्यों नहीं बढ़ रही कीमत?
विपक्ष लगातार सरकार से सवाल कर रहा है कि देश में चार राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश में विधानसभा चुनावों के बीच पेट्रोल औरी डीजल की कीमतें स्थिर कैसे हैं, जबकि बाजार इनकी तय कीमत तय करता है. इस पर लोकसभा में सरकार की ओर से चुप्पी देखी गई. केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने कहा कि अन्य देशों की तुलना में देश के भीतर ईंधन की ऊंची-नीची कीमतें कई कारणों पर निर्भर करती हैं. इसमें अन्य देशों की सरकारों द्वारा दी जाने वाली रियायतें भी शामिल हैं. सरकार इनका रिकॉर्ड नहीं रखती.

राजकोषीय स्थिति के चलते पेट्रोल-डीजल पर ऊंचा कर
केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने ईंधन पर ऊंचे उत्पाद शुल्क को सही ठहराया. उन्होंने लोकसभा का सूचित किया कि मौजूदा राजकोषीय स्थिति को देखते हुए इन्फ्रास्ट्रक्चर और अन्य विकास कार्यों पर खर्च  के लिए संसाधन जुटाने हैं. इसलिए पेट्रोल और डीजल पर इस तरह से उत्पाद शुल्क तय किया गया है.

GST में लाने की योजना नहीं
इस बीच देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि पेट्रोलियम उत्पादों कच्चा तेल, पेट्रोल डीजल, विमान ईंधन और प्राकृतिक गैस को अभी GST के दायरे में लाने की कोई योजना नहीं है.

दिल्ली में पेट्रोल 91 रुपये पर
देश में पेट्रोल और डीजल की कीमतें भले 27 फरवरी से ना बदली हों. लेकिन ये अभी भी अपने सर्वकालिक उच्च स्तर पर हैं. दिल्ली में पेट्रोल की कीमत 91.17 रुपये और डीजल की कीमत 81.47 रुपये प्रति लीटर है. जबकि मुंबई में इनकी कीमत क्रमश: 97.57 रुपये और 88.60 रुपये प्रति लीटर है.
फरवरी में देश के कुछ इलाकों में पेट्रोल की कीमत 100 रुपये प्रति लीटर को पार कर गई थी.

ये भी पढ़ें:

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×