scorecardresearch
 

राहुल गांधी अपने साथ लेकर चल रहे 'चलता-फिरता गांव', 3570 KM की 'भारत जोड़ो यात्रा' ऐसे होगी पूरी

Bharat Jodo yatra: 2024 के लोकसभा चुनाव से डेढ़ साल पहले कांग्रेस नेता राहुल गांधी भारत जोड़ो यात्रा शुरू कर रहे हैं, इस यात्रा के जरिए वह लोगों के बीच पहुंचने और कार्यकर्ताओं में जोश भरने की कोशिश करेंगे. राहुल के साथ करीब 300 लोग यात्रा करेंगे. राहुल गांधी किसी होटल में नहीं रुकेंगे. उनके लिए साथ चलने वाले लोग ही खाने-पीने का इंतजाम करेंगे.

X
राहुल गांधी आज से शुरू कर रहे हैं भारत जोड़ो यात्रा (फाइल फोटो-पीटीआई)
21:50
राहुल गांधी आज से शुरू कर रहे हैं भारत जोड़ो यात्रा (फाइल फोटो-पीटीआई)

लोकसभा चुनाव 2024 से पहले कांग्रेस को एकजुट करने और पार्टी कार्यकर्ताओं में नया जोश भरने के लिए राहुल गांधी बुधवार से 'भारत जोड़ो यात्रा' शुरू कर रहे हैं.  यह यात्रा कन्याकुमारी से शुरू होकर कश्मीर में समाप्त होगी. 150 दिनों तक चलने वाली कांग्रेस की 'भारत जोड़ो यात्रा' देश के 12 राज्यों से होते हुए गुजरेगी और 3570 किलोमीटर की दूरी तय करेगी. 

राहुल गांधी के साथ कांग्रेस नेता और सिविल सोसायटी से जुड़े करीब 300 लोग पदयात्रा में शामिल रहेंगे. कांग्रेस ने पहले ही साफ कर दिया था कि राहुल गांधी यात्रा के दौरान किसी होटल में नहीं रुकेंगे. पांच सितारा होटल के जरिए यात्रा नहीं होगी और राहुल गांधी साधारण तरीके से इस पूरी यात्रा को पूरा करेंगे. ऐसे में सवाल उठता है कि राहुल गांधी 'भारत जोड़ो यात्रा' के दौरान पांच महीने कहां और कैसे रहेंगे. वो कहां खाना खाएंगे और कहां पर रात में सोएंगे. ऐसे ही उनके साथ चलने वाले लगभग यात्रियों का खाना, रहना, सोना किस तरह से होगा. इन्हीं सारे सवालों पर लोगों की नजरें टिकी हुई हैं. 

राहुल का चलता-फिरता आशियाना

3570 किलोमीटर की 'भारत जोड़ो यात्रा ' के दौरान राहुल गांधी का आशियाना कंटेनर होगा, जो चलता फिरता होगा. वो 150 दिनों तक इसी कंटेनर में रहेंगे. सोने के लिए बेड, टॉयलेट और कुछ में एसी भी लगाया गया है. भारत जोड़ो यात्रा के दौरान कई इलाकों में तापमान और गर्मी बढ़ी हुई होगी, 3570 किमी यात्रा में कई इलाके ऐसे भी हैं जहां भीषण गर्मी और उमस होगी. इसलिए कंटेनर में एसी की व्यवस्था की गई है. इसके अलावा कंटेनर में ही सोने के लिए गद्दे और टॉयलेट भी बनवाए गए हैं.

भारत जोड़ो यात्रा का आशियाना

राहुल गांधी 'भारत जोड़े यात्रा' को आम लोगों से जुड़ने से कवायद कर रहे हैं. इसीलिए चमक-दमक से दूर साधारण तरीके से इस यात्रा को पूरा करना चाहते हैं. जाहिर-सी बात है राहुल गांधी इसे एक यात्रा कहते हैं, लेकिन राजनीतिक विश्लेषक इसे 2024 की तैयारी मानते हैं. ऐसे में राहुल गांधी किसी भी होटल में ठहरने के बजाय कंटेनर जिसे आशियाने में तब्दील किया गया है, उसी में रहेंगे और टेंट में पार्टी नेताओं के साथ खाना खाएंगे. 
 
हर रोज बसेगा एक नया गांव

कन्याकुमीर से कश्मीर तक 3570 किलोमीटर तक चलने वाली भारत जोड़ो यात्रा के दौरान हर रोज कंटेनर के जरिए एक नया गांव बसेगा, जहां राहुल गांधी और उनके साथ चलने वाले यात्री ठहरेंगे. इसके लिए करीब 60 कंटेनर को आशियाने के रूप में तैयार किया गया है, जिन्हें ट्रकों पर रखा गया है. यह सभी कंटेनर राहुल यात्रा के दौरान साथ नहीं चलेंगे बल्कि दिन के अंत में निर्धारित जगह पर यात्रा में शामिल लोगों के पास इन्हें पहुंचा दिया जाएगा. 

रात्रि विश्राम के लिए इन सारे कंटेनर को गांव की शक्ल में हर रोज एक नई जगह पर खड़ा किया जायेगा. राहुल गांधी सुरक्षा कारणों से एक अलग कंटेनर में सोएंगे जबकि बाकी अधिकतर कंटेनरों में 12 लोग सो सकते हैं. इसी कंटेनर के गांव में सभी यात्री एक टेंट में राहुल गांधी के साथ खाना भी खाएंगे, जो पूर्णकालिक यात्री राहुल गांधी के साथ रुकेंगे वे एक साथ खाना खायेंगे और आसपास ही रहेंगे.

कंटेनर में रात गुजारेंगे राहुल गांधी

हर रोज 22-23 किमी यात्रा होगी

कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा में अधिकतर लोग कन्याकुमारी से ही भारत जोड़ो यात्रा में शामिल हो जाएंगे. यह यात्रा 5 महीने तक चलेगी. इसलिए यात्रा में जाने वाले सभी नेताओं को बताया गया है कि कपड़े धोने की सुविधा 3 दिन में एक बार ही मिल पाएगी. यह यात्रा एक दिन में 22-23 किलोमीटर तक चलेगी. यह यात्रा हर रोज दिन के पहले पहर में सुबह 7 बजे शुरू होगी और सुबह 10 बजे तक चलेगी. इसके बाद कुछ घंटे के आराम के बाद यात्रा दूसरे पहर में 3:30 बजे शुरू होगी और शाम को 7 बजे तक चलेगी. 

राहुल की यात्रा में 300 लोग होंगे शामिल

कांग्रेस ने भारत जोड़ो यात्रा के लिए बड़े पैमाने पर तैयारियां की हैं. इस यात्रा की अगुवाई कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी कर रहे हैं जबकि उनके साथ पार्टी के 117 नेता भी यात्रा में शामिल होंगे. कांग्रेस के इन नेताओं में 28 महिलाएं भी हैं. महिलाओं को ठहरने और सोने के लिए अलग से कंटेनर बने हैं. कांग्रेस नेताओं के अलावा सिविल सोसायटी से जुड़े हुए लोग, सुरक्षाकर्मी, पार्टी की कम्युनिकेशन टीम के सदस्य जिनमें फोटोग्राफर, सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म संभालने वाले लोग और साथ ही मेडिकल टीम के लोग भी यात्रा में शामिल होंगे. इस तरह से सभी को मिलाकर यह संख्या 300 तक हो रही है.  

राहुल गांधी (फाइल फोटो)

यात्रा में शामिल नेता ही तैयार करेंगे खाना

भारत जोड़ा यात्रा में शामिल कांग्रेस नेता अपना नाश्ता और खाना खुद तैयार करेंगे. हालांकि कुछ जगहों पर राज्य कांग्रेस की इकाइयां भी यात्रा में शामिल कांग्रेस नेताओं के लिए खाने-पीने का इंतजाम करेंगी. कांग्रेस ने भारत जोड़ो यात्रा के लिए किसी तरह के कोई बाहरी लोगों को शामिल नहीं कर रही है. राहुल के साथ चलने वाली सभी यात्री एक साथ नाश्ता और भोजन एक ही जगह पर टेंट में बैठकर करेंगे.

कश्मीर से अरुणाचल तक नेता शामिल

भारत जोड़ो यात्रा में शामिल होने वाले नेताओं में जम्मू-कश्मीर से लेकर अरुणाचल प्रदेश तक शामिल हैं. अरुणाचल प्रदेश से आने वाले आजम जोम्बला 25 साल के सबसे युवा यात्री हैं. अरुणाचल प्रदेश से ही 25 साल के बेम बाई नाम के शख्स भी यात्रा में शामिल हो रहे हैं जबकि सबसे बुजुर्ग यात्री विजेंद्र सिंह महलावत राजस्थान के रहने वाले हैं. महालवत की उम्र 58 साल है. हालांकि, पार्टी के वरिष्ठ नेता भी यात्रा में समय-समय पर शामिल हो रहे हैं. इनमें कई नेता काफी बुजुर्ग भी है. इसके अलावा कांग्रेस संगठन से जुड़े हुए नेता और प्रवक्ता भी साथ चलेंगे. हाल ही में सामाजिक आंदोलन से कांग्रेस में आए नेता भी राहुल के साथ यात्रा में नजर आएंगे. 

यात्रा में टाइटल सॉन्ग बजेगा

कांग्रेस ने इस यात्रा के लिए टाइटल सॉन्ग बना रखा है, जो पूरे यात्रा के दौरान बजता रहेगा. इस टाइटल सॉन्ग को मंगलवार को तमिल में जारी किया गया जबकि 11 सितंबर को मलयालम में और 30 सितंबर को कन्नड़ में जारी किया जाएगा. इस तरह जब यह यात्रा किसी राज्य में पहुंचेगी तो यह टाइटल सॉन्ग उस राज्य की स्थानीय भाषा में जारी होता रहेगा और बजता रहेगा.

तिरंगा लेकर चलेंगे राहुल गांधी

राहुल गांधी महात्मा गांधी मंडपम पर भी जाएंगे जहां तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल उन्हें भारत का झंडा सौंपेंगे. यह झंडा भारत जोड़ो यात्रा के दौरान आगे लेकर पार्टी नेता लेकर चलेंगे. इसके अलावा बाकी कुछ नेता भी अपने हाथों में तिरंगा लेकर चलेंगे. ऐसे में देखना है कि पांच महीने राहुल गांधी भारत जोड़ो यात्रा के जरिए पदयात्रा कर कांग्रेस को संजीवनी दे पाएंगे?  

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें