scorecardresearch
 

बंगाल में आजादी के बाद से पहली बार लेफ्ट-कांग्रेस का एक भी MLA नहीं

देश की आजादी के बाद ऐसा पहली बार हुआ है जब बंगाल की विधानसभा में कांग्रेस और लेफ्ट फ्रंट का एक भी विधायक नहीं होगा. गौरतलब है कि पिछले चुनाव में कांग्रेस ने 44 और माकपा ने 26 विधानसभा सीटों पर जीत हासिल की थी.

बंगाल चुनाव में लेफ्ट और कांग्रेस ने किया था गठबंधन (प्रतीकात्मक तस्वीरः पीटीआई) बंगाल चुनाव में लेफ्ट और कांग्रेस ने किया था गठबंधन (प्रतीकात्मक तस्वीरः पीटीआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 1977 में 20 सीटों पर सिमटी थी कांग्रेस
  • 2016 के चुनाव में कांग्रेस थी दूसरे नंबर पर

बंगाल के चुनाव नतीजे आ गए हैं. 292 में से 213 सीटें जीतकर तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने बंगाल की सत्ता में लगातार तीसरी बार वापसी की है. टीएमसी ने प्रतिद्वंदी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की तुलना में करीब 10 फीसदी अधिक वोट प्राप्त किए. टीएमसी को करीब 48 और बीजेपी को करीब 38 फीसदी वोट मिले. इन सबके बीच चौंकाने वाला नतीजा ये रहा कि पिछले चुनाव में 44 सीटों के साथ दूसरी सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी कांग्रेस का खाता भी नहीं खुला.

कांग्रेस को 2.93 फीसदी वोट मिले लेकिन सीटें एक भी नहीं आईं. यही हाल लेफ्ट फ्रंट का भी रहा जिसने कांग्रेस और पीरजादा अब्बास सिद्दीकी की पार्टी इंडियन सेक्युलर फ्रंट के साथ गठबंधन कर चुनाव लड़ा. वाम मोर्चा-कांग्रेस गठबंधन शून्य सीटों पर सिमट गया. सूबे की सत्ता में लंबे समय तक काबिज रहे ये दोनों दल साथ भी आए लेकिन बंगाल की जनता ने इन्हें खारिज कर दिया.

बंगाल की जिन 292 सीटों पर मतगणना हुई, उनमें से 213 सीटें टीएमसी ने जीतीं. बंगाल में अब तक अपनी सियासी जमीन तलाशती रही बीजेपी को 77 सीटों पर जीत मिली. राष्ट्रीय सेक्युलर मजलिस पार्टी से एक और एक निर्दलीय उम्मीदवार भी चुनाव जीत विधानसभा पहुंचने में सफल रहा लेकिन कांग्रेस और वाम दलों का एक भी उम्मीदवार चुनाव नहीं जीत सका.

देश की आजादी के बाद ऐसा पहली बार हुआ है जब बंगाल की विधानसभा में कांग्रेस और लेफ्ट फ्रंट का एक भी विधायक नहीं होगा. गौरतलब है कि पिछले चुनाव में कांग्रेस ने 44 और माकपा ने 26 विधानसभा सीटों पर जीत हासिल की थी. साल 2011 के चुनाव में जब वाम दलों के लंबे शासनकाल का अंत हुआ था, तब भी कांग्रेस 42 सीटें जीतने में सफल रही थी.

साल 2011 के चुनाव में वाम मोर्चा भी 40 सीटें जीत तीसरे स्थान पर रहा था. 1977 से 2006 के चुनाव तक जब वाम मोर्चा की सरकार सत्ता में वापसी करती रही, तब भी कांग्रेस विधानसभा में शून्य पर नहीं पहुंची थी. कांग्रेस ने साल 2006 में 21, 2001 में 26, 1996 में 82, 1991 में 43, 1987 में 40, 1982 में 49 और 1977 के चुनाव में 20 विधानसभा सीटें जीती थीं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें