scorecardresearch
 

Taliban के नेता ने चीनी विदेश मंत्री से की मुलाकात, China से किया ये वादा

Taliban के नेता ने चीनी विदेश मंत्री से की मुलाकात, China से किया ये वादा

अमेरिका की रवानगी के साथ ही अब चीन अचानक से अफगानिस्तान में दिलचस्पी लेने लगा है.चीन के विदेश मंत्री वांग यी हाल ही में तालिबान के नेता मुल्ला बरादर से मिले. इस मुलाकात का क्या मतलब है और इसका क्या परिणाम होगा, इस पर सबकी नजर है. अमेरिकी सेनाओं के चीन से लौटने के बाद ये तालिबान की पहला चीन दौरा है. हालांकि तालिबानी नेता मुल्ला बरादर 2019 में भी चीन जा चुके हैं. जाहिर है इस मुलाकात के पीछे क्या तालिबान और क्या चीन दोनों के अपने-अपने हित हैं. तालिबान समूची दुनिया में अपना समर्थन बढ़ाना चाहता है. लिहाजा चीन पहुंचे तालिबान दल के नेता मुल्ला बरादर ने चीन से वादा किया है कि वो अफगान धरती का इस्तेमाल किसी भी देश की सुरक्षा के खिलाफ नहीं करने देंगे. हम चीन विरोधी उइगर लड़ाकों को अपने देश में शरण नहीं देंगे. देखें ये वीडियो.

With less than a month for the US military to move out of Afghanistan, a Taliban delegation was already in China on July 28 holding friendly 'talks' in Tianjin. Taliban seems to be China's new friend. Why? Because it makes for good business sense. China told a visiting Taliban delegation on Wednesday it expected the insurgent group to play an important role in ending Afghanistan's war and rebuilding the country, as per the Chinese foreign ministry. Nine Taliban representatives met Foreign Minister Wang Yi in the northern Chinese city of Tianjin on a two-day visit during which the peace process and security issues were discussed. Watch this video.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें