scorecardresearch
 

Taliban के हमलों से लाखों लोग बेघर, देखें Afghanistan में लड़ाई के 'साइड इफेक्ट'

Taliban के हमलों से लाखों लोग बेघर, देखें Afghanistan में लड़ाई के 'साइड इफेक्ट'

भूख, बेबसी, लाचारी, बीमारी और हर पल सिर पर मंडराता मौत का साया. क्या बच्चे, क्या बूढ़े, क्या जवान और क्या औरतें.सबका एक ही हाल है. अफ़ग़ानिस्तान के लाखों बेगुनाह शहरियों के लिए अब यही उनकी तक़दीर और यही उनका मुस्तकबिल है. सरकार और तालिबान के बीच जारी लड़ाई में आम लोग बुरी तरह पिस रहे हैं. इस मुल्क के हालात कितने नाज़ुक हैं, इसका अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि जनवरी से लेकर अब तक पूरे अफगानिस्तान में क़रीब 2 लाख 70 हज़ार लोगों को अपना घर बार छोड़ कर भागना पड़ा है और अगर तालिबान की शुरुआत से लेकर अब तक लेखा-जोखा निकाला जाए तो ये आंकड़ा 30 लाख 50 हज़ार के भी पार चला जाता है. अफगानिस्तान में अमन लौटा तो था, लेकिन उसकी उम्र काफ़ी छोटी साबित हुई. 20 साल बाद जैसे ही जैसे ही अमेरिकी और नाटो फ़ौज ने अफगानिस्तान से वापसी की राह ली, तालिबान के आतंकियों की तो मानों लॉटरी खुल गई. देखिए वारदात का ये एपिसोड.

Hunger, helplessness, diseases and the shadow of death hovering over the head every moment on innocent citizens of Afghanistan. Be it the children, old, young or the women, everyone is left helpless amid the ongoing war. About 2 lakh 70 thousand people have left their homes and ran away across Afghanistan. Watch this episode of Vardaat.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें