scorecardresearch
 

भारत अपने दोस्त रूस पर कैसे निर्भर, पुतिन का दौरा क्यों अहम; जान‍िए

भारत अपने दोस्त रूस पर कैसे निर्भर, पुतिन का दौरा क्यों अहम; जान‍िए

दुनिया ने देखा कि व्लादिमीर पुतिन और नरेंद्र मोदी ने कोरोना महामारी के दौर में भारत और रूस की दोस्ती को कैसे एक नया आयाम दिया। पुतिन..जी 20 समिट के लिए रोम नहीं गए थे। वो ग्लासगो में पर्यावरण और जलवायु पर हुए COP 26 सम्मेलन में भी शामिल नहीं हुए थे. हाल ही में उन्हें चीन का दौरा भी करना था जो कि बहुत महत्वपूर्ण था लेकिन पुतिन वहां भी नहीं गए, लेकिन पुतिन ने भारत को नज़रअंदाज़ नहीं किया. वो गर्मजोशी के साथ भारत आए इसलिए सिर्फ 6 घंटे का ये दौरा अपने आप में बहुत बड़ा संदेश है. 21वें भारत-रूस वार्षिक सम्मेलन में शामिल होने के लिए भारत आकर पुतिन ने संदेश दिया है कि रूस और भारत की दोस्ती अटूट है और दोनों देशों को एक दूसरे की सबसे ज़्यादा ज़रूरत है. इस साल ये पुतिन की दूसरी विदेश यात्रा है. देखिए ये वीडियो.

Russian President Vladimir Putin’s visit to India is a defining moment in the India-Russia relationship. Much is being made of the symbolism of the visit that this is only the second time that Putin has stepped out of his country since Covid-19 swept the world in March 2020, and the other time was to meet United States President Joe Biden in Geneva in summer this year. Watch this video.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×