scorecardresearch
 

16 साल का हुआ ट्विटर, काली, कंगना, मस्क और जुबैर, ये हैं 2021-22 की टॉप Twitter कंट्रोवर्सीज़

माइक्रोब्लॉगिंग साइट Twitter, जिसकी शुरूआत चार लोगों ने 16 साल पहले 15 जुलाई, 2006 में की थी, आज वो दुनियाभर में मशहूर है. इस सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर न केवल लोग अपने विचार साझा करते हैं, बल्कि अब ये एक ऐसा प्लेटफॉर्म भी बन गया है जहां हर दूसरे ट्वीट के साथ नई कंट्रोवर्सी खड़ी हो जाती है. ट्विटर पर ट्रेंड करता हर नया हैशटैग या तो किसी को सेलेब्रिटी बना देता है या फिर किसी को विवादों के घेरे में ला खड़ा करता है.

X
Twitter Controversies of the year
Twitter Controversies of the year
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 15 जुलाई, 2006 को हुआ था Twitter लॉन्च
  • एलन मस्क से लेकर कंगना तक ट्विटर की वो चर्चित कंट्रोवर्सीज़
  • 2021 में हुई थी ट्विटर की कानूनी सुरक्षा खत्म

इंसानों को विज्ञान की भाषा में जानवर बताया गया है. एक ऐसा जानवर जो डार्विन की इवॉल्यूशन थ्योरी के हिसाब से बाकी जानवरों से तेजी से विकसित हुआ और बेहतर होता चला गया. हम 'इंसानी जानवर' बाकी जानवरों से केवल वैज्ञानिक तौर पर बेहतर नहीं हैं, एक और आयाम है जो हमें बेहतर बनाता है और वो है हमारी अभिव्यक्ति की क्षमता. हम बोल सकते हैं, बता सकते हैं, समझा सकते हैं, बातचीत कर सकते हैं और विवाद भी. इंसानी अभिव्यक्ति के माध्यमों में कई तरह की क्रांतियां हुईं, लेकिन इस फेहरिस्त में एक अहम क्रांति हुई 16 साल पहले जुलाई की 15वीं तारीख को. जब 2006 में ट्विटर लॉन्च किया गया था. 

Twitter की स्थापना जैक डोर्सी, इवान विलियम्स, बिज़ स्टोन और नोआ ग्लास ने की थी. शुरुआती दिनों में उन्होंने एक-दूसरे को और परिचितों के साथ ट्वीट किया, जहां पहले दिन कुल 224 ट्वीट किए गए थे. आज की बात करें तो रिपोर्ट्स कहती हैं कि हर मिली सेकेंड औसतन 6,000 से भी ज्यादा ट्वीट किए जाते हैं. ट्विटर पर जितने ट्ववीट्स आप देखते हैं उसमें से कई केवल वाद नहीं होते, कई विवाद भी होते हैं. आइए एक नज़र डालते हैं 2021-2022 से अब तक की टॉप ट्विटर कंट्रोवर्सीज़ पर.

एलन मस्क की ट्विटर डील कंट्रोवर्सी

इस साल दुनिया के सबसे अमीर आदमी एलन मस्क के खिलाफ ट्विटर ने मुकदमा दायर कर दिया. यह केस अमेरिका की कोर्ट में किया गया. एलन मस्क ने 44 बिलियन डॉलर में ट्विटर खरीदने की डील की थी जिसको उन्होंने बाद में कैंसल कर दिया. उन्होंने आरोप लगाया था कि ट्विटर ने उनको इस बात की जानकारी नहीं दी थी कि ट्विटर पर कितने फर्जी और स्पैम अकाउंट हैं. Twitter.Inc ने इस महीने ही एलन मस्क पर डेलावेयर कोर्ट में ये मुकदमा दायर किया. डेलावेयर अनुबंध कानून के अधीन दोनों ही पक्ष अपना विचार बदलने, कंपनी को ट्रैश करने, इसके संचालन को बाधित करने, शेयरहोल्डर वैल्यू को नष्ट करने और छोड़ने के लिए स्वतंत्र हैं. 

जुबैर का विवादित ट्वीट

फैक्ट-चेकिंग वेबसाइट ऑल्ट न्यूज़ के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर अबतक के सबसे चर्चित व्यक्तियों में से एक रहे, वजह थी कंट्रोवर्शियल ट्वीट. दिल्ली पुलिस ने 2018 के एक ट्वीट में दो समुदायों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देने और धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के आरोप में मोहम्मद जुबैर को अरेस्ट कर लिया था, उसके बाद उन्हें जमानत तो मिल गई लेकिन अभी वे जेल से बाहर नहीं आए हैं.

जुबैर पर सात एफआईआर दर्ज हैं. इसमें से 6 उत्तर प्रदेश और एक दिल्ली में दर्ज है. वह कुल चार मामलों में हिरासत में लिए गए हैं. जेल से बाहर आने के लिए उनको लखीमपुर खीरी और हाथरस केस में जमानत लेनी बाकी है. सबसे चर्चित नूपुर शर्मा के केस में भी मोहम्मद जुबैर का नाम सामने आया था. जुबैर ने नूपुर शर्मा के वीडियो को सोशल मीडिया पर शेयर किया था, जिसमें नूपुर ने पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ विवादित टिप्पणी की थी. 

'काली' के धूम्रपान करते पोस्टर से भड़की चिंगारी 

हाल ही में माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर एक मामला काफी चर्चित रहा जहां एक फिल्म निर्माता लीना मणिमेकलाई के  'काली' पोस्टर पर विवाद छिड़ गया. 2 जुलाई को ट्वीट किए गए इस पोस्ट को विवादित ट्वीट बता कर हटा दिया गया. मणिमेकलाई ने एक ट्वीट के जरिए फिल्म काली का पोस्टर जारी किया था, जिससे देश में आक्रोश फैल गया था. उनकी फिल्म के इस पोस्टर में मां काली को धूम्रपान करते हुए दिखाया गया, जिसके बाद इसको लेकर देश में विवाद छिड़ गया. ट्विटर की कार्रवाई पर प्रतिक्रिया देते हुए, फिल्म प्रोड्यूसर लीना ने एक ट्वीट में पूछा कि क्या सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म "नफरत करने वालों" के पोस्ट को भी रोक देगा? इस मामले ने देश में आक्रोश के साथ राजनीतिक विवाद को भी बढ़ा दिया.

बग्गा- केजरीवाल कंट्रोवर्सी

दिल्ली बीजेपी के प्रवक्ता तेजिंदर बग्गा भी इस साल ट्विटर कॉन्ट्रोवर्सी का शिकार हुए. दिल्ली पुलिस ने बग्गा को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ विवादित ट्वीट करने के आरोप में मई में अरेस्ट कर लिया था. बग्गा के खिलाफ मोहाली में साइबर क्राइम ने केस दर्ज कर लिया था. उधर तेजिंदर बग्गा के पिता के बयान पर जनकपुरी में पंजाब पुलिस कर्मियों पर अपहरण का केस दर्ज हुआ था. बग्गा की गिरफ्तारी के बाद राजनीतिक विवाद भी काफी गर्माया था. 

‘द कंट्रोवर्सी क्वीन’ अकाउंट सस्पेंडेड

द कंट्रोवर्सी क्वीन बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रानावत का ट्विटर अकाउंट मई 2021 को सस्पेंड कर दिया गया था. अपने ट्वीट्स और विवादित टिप्पणियों को लेकर हमेशा सुर्खियों में रहीं कंगना के ट्विटर नियमों के बार-बार उल्लंघन किए जाने पर ट्विटर ने उनका अकाउंट स्थायी रूप से सस्पेंड कर दिया गया था. यह कदम पश्चिम बंगाल में चुनाव के बाद की हिंसा पर कंगना की कटु टिप्पणी के बाद लिया गया, जो हिंसा के आह्वान की तरह लग रहा था. कई लोगों ने कंगना के ट्वीट पर उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग भी की थी.

बंद किया गया ट्रंप का ट्विटर अकाउंट

ट्विटर प्लेटफॉर्म पर साल 2021 का एक और विवाद अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का ट्विटर अकाउंट स्थायी रूप से सस्पेंड होना था. ट्विटर ने ट्रंप के अकाउंट से किए गए ट्वीट के बाद हिंसा के और भड़कने के जोखिम के चलते ये कदम उठाया था. अकाउंट सस्पेंड होने से पहले तक ट्रंप के ट्विटर अकाउंट पर लगभग 88.7 मिलियन फॉलोअर्स थे. 
 
‘#boycotthyundai’ ट्विटर विवाद

क्या आपको याद है इस साल का ‘#boycotthyundai’ ट्विटर ट्रेंडिंग टॉपिक. दरसल, ऑटोमोबाइल कंपनी हुंडई मोटर का एक ट्वीट था जो उसके लिए मुसीबत बन गया था, जिस पर सोशल मीडिया पर जमकर बवाल भी खड़ा हुआ. ये तब हुआ जब हुंडई के पाकिस्तानी ट्विटर हेंडल से एक कंट्रोवर्शियल ट्वीट किया गया. इस ट्वीट में लिखा था- 'आइए हम अपने कश्मीरी भाइयों के बलिदान को याद करें और आजादी की लड़ाई में उनके समर्थन में खड़े हों.'  इस ट्वीट के बाद इंडिया में #boycotthyundai और #hyundaipakistan ट्रेंड करने लगा. 

ट्विटर की कानूनी सुरक्षा खत्म, मुकदमा दर्ज

जब से नए आईटी नियम लागू हुए, ट्विटर इंडिया भारत सरकार के जांच के दायरे में आ गया. 29 जून, 2021 को ट्विटर के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने माइक्रो ब्लॉगिंग साइट पर चाइल्ड पोर्नोग्राफी कंटेंट की उपलब्धता के लिए एफआईआर दर्ज की थी. यह नया मामला ऐसे समय में आया जब ट्विटर ने आपराधिक कार्रवाई से छूट खो दी थी. नए आईटी रूल्स का पालन नहीं करना ट्विटर को भारी पड़ गया है.

ट्विटर को भारत में मिलने वाली लीगल प्रोटेक्शन यानी कानून सुरक्षा खत्म हो गई. सरकार ने 25 मई को नए नियम लागू किए थे, लेकिन ट्विटर इन नियमों को लागू नहीं कर पाया था, जिसके बाद ये एक्शन लिया गया है. हालांकि, सरकार की ओर से कोई आधिकारिक बयान या आदेश जारी नहीं किया गया, लेकिन क्योंकि ट्विटर ने नए आईटी नियमों को लागू नहीं किया था, इसलिए उसका लीगल प्रोटेक्शन खुद-ब-खुद खत्म हो गया.

अब ट्विटर को किसी भी आपत्तिजनक कंटेंट के लिए उसे जिम्मेदार ठहराया जा सकता है. साइबर लॉ एक्सपर्ट बताते हैं, "आईटी एक्ट की धारा 79 के तहत सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को लीगल प्रोटेक्शन मिलता है. इसमें किसी भी आपराधिक गतिविधियों के लिए कंपनी की जिम्मेदारी नहीं होती, लेकिन अब अगर किसी कानून का उल्लंघन होता है तो उसके लिए ट्विटर के इंडिया हेड की जिम्मेदारी होगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें