scorecardresearch
 

'अंकल, इस अग्निपथ को बंद करवा दो, करियर खराब हो जाएगा', ड्यूटी मजिस्ट्रेट के गले लगकर रो पड़ा युवक

केंद्र सरकार की अग्निपथ योजना को लेकर पानीपत में प्रदर्शन के दौरान एक छात्र भावुक हो गया और ड्यूटी पर तैनात अधिकारी के ही गले लगकर रोने लगा. छात्र ने रोते हुए अधिकारी से बोला- अंकल, इस अग्निपथ को बंद करा दो. मेरा करियर खराब हो जाएगा. चार साल से फौज की तैयारी कर रहा हूं.

X
ड्यूटी मजिस्ट्रेट के गले लगकर रोता प्रदर्शनकारी. (फोटो:VideoGrab) ड्यूटी मजिस्ट्रेट के गले लगकर रोता प्रदर्शनकारी. (फोटो:VideoGrab)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • अग्निपथ स्कीम पर भावुक हुआ युवक, लग गया अधिकारी के गले
  • पानीपत की घटना, बोला- अंकल इसे बंद करा दो

केंद्र सरकार की अग्निपथ योजना का देशभर में विरोध हो रहा है. हजारों छात्र सड़कों से लेकर रेलवे ट्रैक पर प्रदर्शन और आगजनी कर रहे हैं. इसी बीच हरियाणा के पानीपत में एक प्रदर्शनकारी भावुक हो गया और अधिकारी के गले लगकर रोने लगा. प्रदर्शनकारी छात्र ने रुआंसे स्वर में मौके पर मौजूद अधिकारी से अग्निपथ योजना को बंद करवाने की गुहार लगाई. 

यह मामला पानीपत स्थित मिनी सचिवायल के सामने का है, जहां प्रदर्शन के दौरान एक छात्र ड्यूटी मजिस्ट्रेट के गले लग गया और रोते हुए कहने लगा, 'अंकल, इस अग्निपथ को बंद करवा दो. 4 साल से फौज की तैयारी कर रहा हूं. मेरा करियर खराब हो जाएगा.'

बता दें कि हरियाणा समेत पूरे हिंदुस्तान में अग्नीपथ योजना का जबरदस्त विरोध हो रहा है. पानीपत में दूसरे दिन अग्निपथ के विरोध के दौरान उस वक्त लोग हैरान रह गए, जब एक प्रदर्शनकारी ड्यूटी मजिस्ट्रेट के गले लगकर रोने लगा. 

वहीं,अधिकारी भी अपने आप को रोक नहीं पाए और युवक को आश्वासन देते हुए बोले- ''बेटा, तुम लिखित में ज्ञापन दो. सरकार तक पहुंचाएंगे.''

इस दौरान प्रदर्शनकारी युवाओं का कहना था कि सरकार ने उनके सपनों को चकनाचूर कर दिया है. सेना में 4 साल की नौकरी करने के बाद घर आकर युवा अपराध की तरफ अग्रसर होंगे. बता दें कि पिछले 2 दिन से पानीपत समेत पूरे हरियाणा में अग्निपथ योजना का विरोध हो रहा है.

बिहार में सबसे ज्यादा हिंसक प्रदर्शन

अग्निपथ स्कीम को लेकर सबसे कड़ा और हिंसक विरोध बिहार में हो रहा है. प्रदर्शनकारी दर्जनों ट्रेन को जला चुके हैं जबकि कई गाड़ियों को भी वो अब तक फूंक चुके हैं.

राजधानी पटना से लेकर लखीसराय तक और सुपौल से लेकर मधेपुरा तक में प्रदर्शनकारी बीते तीन दिनों से लगातार बवाल काट रहे हैं. अनुमान के मुताबिक अभी तक करीब 700 करोड़ रुपये की सार्वजनिक संपत्ति इस हिंसक प्रदर्शन की भेंट चढ़ चुकी है.

बिहार में प्रदर्शनकारी खासतौर पर बीजेपी नेताओं के आवास और दफ्तर को निशाना बना रहे हैं. यही वजह है कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बिहार के 12 बीजेपी नेताओं को सीआरपीएफ की सुरक्षा दी है. 

इन नेताओं में प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल, दोनों डिप्टी सीएम तार किशोर प्रसाद और रेणु देवी, बीजेपी के फायर ब्रांड विधायक हरि भूषण ठाकुर, दरभंगा से बीजेपी विधायक संजय सरावगी, दीघा से विधायक संजीव चौरसिया, दरभंगा सांसद गोपाल जी ठाकुर, बीजेपी एमएलसी अशोक अग्रवाल और बीजेपी एमएलसी दिलीप जयसवाल शामिल हैं. CRPF के 12 जवान इनकी सुरक्षा में रहेंगे. बिस्फी के विधायक हरिभूषण ठाकुर ने इसकी पुष्टि की है.

ये भी पढ़ें: 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें