scorecardresearch
 

आजतक के मंच पर जब-जब आए PM मोदी, हर मुद्दे पर राय-हर सवाल का जवाब

2019 के लोकसभा चुनाव कैंपेन या उससे पहले जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आजतक के मंच पर आए थे, तब उन्होंने ऐसे मसलों पर खुलकर अपनी बात रखी थी. उस दौरान की गई प्रधानमंत्री मोदी की बड़ी बातों को जानिए..

आजतक के साथ इंटरव्यू के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी (फोटो: आजतक) आजतक के साथ इंटरव्यू के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी (फोटो: आजतक)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जन्मदिन आज
  • आजतक के मंच पर रखी थी बेबाक राय
  • रोजगार से लेकर आतंकवाद पर दिए थे जवाब

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज 70 साल के हो गए हैं. पिछले 6 साल से देश के सबसे ऊंचे पद पर विराजमान नरेंद्र मोदी पहले ऐसे नॉन-कांग्रेसी प्रधानमंत्री हैं जो लगातार दो बार पूर्ण बहुमत के साथ सरकार में आए हों. पीएम मोदी के जन्मदिन के मौके पर विपक्ष अर्थव्यवस्था, रोजगार, सीमा सुरक्षा समेत कई मसलों पर जवाब मांग रहा है. 2019 के लोकसभा चुनाव कैंपेन या उससे पहले जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आजतक के मंच पर आए थे, तब उन्होंने ऐसे मसलों पर खुलकर अपनी बात रखी थी. उस दौरान की गई प्रधानमंत्री मोदी की बड़ी बातों को जानिए..

रोजगार और सीमा सुरक्षा पर क्या बोले मोदी?
2019 के लोकसभा चुनाव में आतंकवाद एक बड़ा मसला बनकर उभरा था, जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कैंपेन के दौरान अपना नामांकन भरने वाराणसी पहुंचे थे तब आजतक से खास बात की थी. अपने इंटरव्यू में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विपक्ष को आड़े हाथों लिया था. सीमा सुरक्षा के मसले पर पीएम मोदी ने कहा था, ‘कांग्रेस पार्टी को जवाब देना चाहिए कि उन्होंनी सीमा सुरक्षा जैसे मुद्दे को भूलने का काम क्यों किया, 2008 में जब मुंबई में आतंकी हमले हुए तब उसी साल देश के कई अन्य शहरों में भी हमले हुए थे. हमारे लिए आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई और सीमा सुरक्षा का मसला काफी अहम है.’

आज जब विपक्ष मोदी सरकार से रोजगार के आंकड़ों पर सवाल कर रहा है, तब इसी मसले पर बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा था कि आज रोजगार के आयाम बदल गए हैं, हर साल EPFO भरने वालों की संख्या बढ़ रही है, मुद्रा बैंक से लोग लोन ले रहे हैं, देश में इतनी जगह विकास का काम हो रहा है क्या रोजगार पैदा नहीं हो रहा है. पीएम ने कहा था कि सरकारी मापदंड में रोजगार के मायने अभी भी पुरानी नीति से तैयार किए जा रहे हैं, जिसमें बदलाव की जरूरत है. इसी वजह से रोजगार और बेरोजगारी के सही आंकड़े सामने नहीं आ पाते हैं. 

पूरा इंटरव्यू देखें...



बालाकोट सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पहला भाषण
मार्च 2019 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में हिस्सा लिया था. पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद पीएम मोदी का ये पहला संबोधन था. तब प्रधानमंत्री ने कहा था कि जब मैं शुरू में दिल्ली आया था, तो लोग कहते थे कि ये नया है इसलिए ज्यादा जानकारी नहीं होगी. पुलवामा हमले पर विपक्ष के द्वारा खड़े किए गए सवालों पर पीएम मोदी ने कहा था कि जब पूरा देश सेना के साथ खड़ा है. तब सेना पर सवाल उठाए जा रहे हैं. उन्होंने यह भी कहा कि पूरा देश बोल रहा है कि अगर आज राफेल होता तो परिणाम कुछ और होता. पीएम ने कहा देश के अंदर और बाहर लोगों में भारत का डर बैठ गया है. यह डर देश के लिए अच्छा है. 

70 साल के हुए पीएम मोदी, 7 तस्वीरों में देखें 7 दशकों की कहानी

विपक्षी नेताओं पर पीएम मोदी ने निशाना साधा था कि कुछ लोग अपने ही देश का मजाक उड़ा रहे हैं और अपनी रोजी-रोटी चला रहे हैं. पीएम के संबोधन का फोकस पूरी तरह से सेना पर रहा और उन्होंने कहा कि हमने अपने कार्यकाल में सेना की जरूरतों, बॉर्डर पर मजबूती से जवाब देने का काम किया. 

पूरा संबोधन सुनें...



सफाईगीरी पर PM मोदी का मंत्र
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2014 में सत्ता में आने के बाद से ही स्वच्छता अभियान का बीड़ा उठाया. पीएम मोदी की ओर से इंडिया टुडे ग्रुप को भी इस अभियान में नॉमिनेट किया गया था. 2015 में आजतक के सफाईगीरी कार्यक्रम में पीएम मोदी शामिल हुए, तब उन्होंने कहा कि देश में सफाई रखना काफी जरूरी है, क्योंकि इससे ही गरीबों की आधी दुविधाएं खत्म हो सकती हैं. जिस तरह आजादी का आंदोलन चला था, उसी तरह आज लोगों को सफाई के लिए भी आंदोलन बनाना होगा.

प्रधानमंत्री मोदी ने इस दौरान सफाईगीरी अभियान के विजेताओं को सम्मानित भी किया था. सरकार में आने के बाद केंद्र की ओर से किसान, बैंक, निवेश और रोजगार को लेकर कई योजनाओं की शुरुआत की गई. जिसका जिक्र पीएम मोदी ने अपने संबोधन में किया. 

पूरा भाषण सुनें...
 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें