scorecardresearch
 

Hyderabad Horror Killing: 'नागाराजू मुस्लिम बनने को तैयार थे...', 11 साल की दोस्ती, 3 महीने पहले शादी, दुश्मन बन गया था परिवार

Nagaraju Killed in Hyderabad: नागाराजू और सुल्ताना पिछले 11 साल से एक दूसरे को जानते थे. धीरे-धीरे दोस्ती प्यार में बदली और उन्होंने शादी कर ली. लेकिन धर्म के बाहर जाकर की गई इस शादी को सुल्ताना का परिवार नहीं मान रहा था.

X
सुल्ताना और नागाराजू ने आर्य समाज मंदिर में शादी की थी सुल्ताना और नागाराजू ने आर्य समाज मंदिर में शादी की थी
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सुल्ताना और नागाराजू ने इसी साल शादी की थी
  • लड़की के भाई ने सड़क पर सबके सामने नागाराजू की जान ली

Nagaraju Killed in Hyderabad: मुझे क्यों मार रहे हो, मुझे छोड़ दो, जाने दो... हैदराबाद में बीच सड़क पर हत्या से पहले यह नागाराजू के आखिरी शब्द थे. बावजूद इसके नागाराजू के साले का दिल नहीं पसीजा. गैर धर्म में हुई शादी का गुस्सा इतना था कि उसने दोस्तों के साथ मिलकर अपनी ही बहन का सुहाग उजाड़ दिया.

नागाराजू और सुल्ताना करीब 11 साल से एक दूसरे को जानते थे. दोनों साथ स्कूल और कॉलेज में पढ़े. फिर दोस्ती प्यार में बदली और इसी साल जनवरी में दोनों ने शादी कर ली. इस शादी से सुल्ताना (उर्फ पल्लवी) के घरवाले नाराज थे. उनको गैर धर्म में बेटी का शादी करना ठीक नहीं लगा था. फिर 4 मई की रात को सुल्ताना के भाई ने ही बाकी साथियों के साथ मिलकर नागाराजू की हत्या कर दी.

इसी साल हुई थी शादी

नागाराजू (उम्र 25 साल) ने 23 वर्षीय सुल्ताना (उर्फ पल्लवी) से तीन महीने पहले 31 जनवरी को शादी की थी. मामले को लेकर नागाराजू के एक रिश्तेदार ने आरोप लगाते हुए कहा था कि वो दोनों (सुल्ताना और नागाराजू) अपने कॉलेज के दिनों से एक दूसरे के साथ प्यार में थे. दोनों ने दो महीने पहले पुराने शहर के आर्य समाज मंदिर में शादी की थी. दोनों ही अलग-अलग धर्मों के थे, इसलिए लड़की के परिवार ने नागाराजू की हत्या कर दी.

'नागाराजू धर्म बदलने को राजी थे, लेकिन...'

आजतक को दिये इंटरव्यू में सुल्ताना ने दावा किया है कि नागाराजू उनसे शादी के लिए इस्लाम कबूलने को तैयार थे बावजूद इसके उनका भाई मोबिन अहमद नहीं माना. उसने सुल्ताना को यह शादी करने से मना किया, लेकिन सुल्ताना नहीं मानी.

यह भी पढ़ें - जीजा के सिर पर मारता रहा रॉड, बहन को धक्का देकर दूर फेंका, हैदराबाद हॉरर किलिंग का नया वीडियो सामने

बता दें कि दलित हिंदू नागाराजू सिकंदराबाद के मररेडपल्ली का रहने वाला था. वह पुराने शहर के मलकपेट में एक कार शोरूम में सेल्समैन का काम करता था. अब सुल्ताना के दो भाइयों (सैयद मोबिन अहमद और मोहम्मद मसूद अहमद) को उसका मर्डर करने के आरोप में गिरफ्तार किया जा चुका है.

हैदराबाद के सरूरनगर में यह मर्डर हुआ था

एक महीने पहले, सुल्ताना के भाई ने नागराजू का पता लगाने की कोशिश की थी लेकिन विफल रहा. फिर 4 मई को आरोपियों ने नागाराजू का पीछा किया और पंजाला अनिल कुमार कॉलोनी, सरूरनगर में रेड लाइट पर नागाराजू को रोक लिया. जिसके बाद आरोपियों ने नागाराजू को लोहे की रॉड और चाकू से हत्या कर दी.

पति के मर्डर के बाद सुल्ताना ने रोते हुए घटना बयां की थी. वह बोलीं, 'मैं, हत्यारों से अपने पति की जान की भीख मांगती रही. लेकिन उन्होंने मेरे पति को चाकुओं से गोद दिया. मेरी आंखों के सामने मेरे पति की हत्या कर दी.'

नागाराजू ने कहा था- जियूं या मरूं साथ रहूंगा

सुल्ताना ने बताया कि शादी से पहले उन्होंने नागाराजू को कहा था कि उसके परिवारवाले इस शादी से खुश नहीं हैं और वे उसकी जान भी ले सकते हैं. सुल्ताना के मुताबिक, इसपर राजू ने कहा था कि उसे किसी बात की परवाह नहीं है. वह जिये या मरे सुल्ताना के साथ ही रहना चाहता है. सुल्ताना ने कहा कि राजू कहता था कि तुम्हारे साथ के लिए मैं मरने को तैयार हूं.

उस भयानक रात को याद करते हुए सुल्ताना कहती हैं कि वह अपने पति के साथ स्कूटी पर सड़क पार कर रही थीं. तब ही दो लोग बाइक पर उनके सामने आ गए. इसमें से एक उनका भाई मोबिन था. फिर उन्होंने नागाराजू को लोहे की रॉड से पीटा और चाकू से भी कई वार किये.

आजतक से बातचीत में सुल्ताना ने कहा कि यह हत्या किसी जंगल में नहीं हुई. बीच सड़क पर हुई, जहां आसपास काफी लोग मौजूद थे. लेकिन करीब 20 मिनट तक सब सिर्फ देखते रहे और किसी ने मदद नहीं की. अगर कोई आगे आ जाता तो शायद उनका राज (नागाराजू) शायद जिंदा होता.

सुल्ताना ने यह भी कहा कि पुलिस करीब आधे घंटे बाद मौके पर पहुंचे थी, तबतक हत्यारे भाग चुके थे.

राज्यपाल ने मांगी रिपोर्ट
नागाराजू की हत्या के मामले में तेलंगाना की राज्यपाल श्रीमती तमिलिसाई सौंदरराजन ने इस मामले में राज्य सरकार से डिटेल रिपोर्ट मांगी है. 


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें