scorecardresearch
 

India Today Conclave East 2022: 'जब पार्टी कहती है हम आपका ये काम करेंगे, तभी पोलराइजेशन शुरु हो जाता है'

India Today Conclave East 2022 के सेशन पॉलिटिकल चेसबोर्ड में टीएमसी से राज्यसभा सांसद सुष्मिता देव, मणिपुर के भाजपा विधायक आरके इमो सिंह और TIPRA के चेयरमैन प्रद्युत बिक्रम माणिक्य देब बर्मा ने पॉलिटिकल परफॉर्मेंस और पोलराइजेशन पर बात की.

X
इंडिया टुडे कॉनक्लेव ईस्ट में बात करते सुष्मिता देब, इमो सिंह और प्रद्युत बिक्रम. (फोटोः चंद्र दीप कुमार) इंडिया टुडे कॉनक्लेव ईस्ट में बात करते सुष्मिता देब, इमो सिंह और प्रद्युत बिक्रम. (फोटोः चंद्र दीप कुमार)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • परफॉर्मेंस सही नहीं होगी तो नेता अगली बार चुना ही नहीं जाएगा
  • विकास हुआ पर नॉर्थ-ईस्ट की एकता और संस्कृति बचाना जरूरी

मणिपुर के भाजपा विधायक इमो सिंह ने कहा कि पोलराइजेशन परफॉर्मेंस की तरफ होना चाहिए. अगर परफॉर्मेंस नहीं होती तो लोग दोबारा चुनकर नहीं आता. TIPRA के चेयरमैन प्रद्युत बिक्रम माणिक्य देब बर्मा ने कहा कि भारत इंडिया शाइनिंग लेकर आई, नहीं चली. जब सरकार किसी नए बिल के साथ आती है. कहती है कि हम आपको बचाएंगे. हम आपके ये काम करेंगे. तभी पोलराइजेशन शुरु हो जाता है. अगर भाजपा सच में लोगों को बचाना चाहती है तो उसे संविधान में बदलाव करना होगा. किसी को भय से जीत सकते हैं उसे सुरक्षित नहीं महसूस करा सकते. 

इमो सिंह ने कहा कि हम इतने छोटे राज्य से आते हैं कि हमारे काम दिखते नहीं है. हम इनर लाइन परमिशन मांग रहे थे. सभी नेताओं के पास गए. माइनोरिटी को बचाने के लिए. लेकिन अब केंद्र सरकार ने ये काम किया. इस पर प्रद्युत ने कहा कि सरकार ने ये काम अच्छा किया है. लेकिन कई राज्य है जो अंतरराष्ट्रीय सीमाओं से जुड़े हैं पर वहां पर इनर लाइन परमिट नहीं है. लेकिन आमतौर पर सरकार या लोग नॉर्थ ईस्ट से जुड़ नहीं पाते. क्योंकि ये काफी दूर है. 

एक सरकार काम शुरु करती है, दूसरी पूरीः सुष्मिता देव

टीएमसी से राज्यसभा सांसद सुष्मिता देव ने कहा कि उत्तर-पूर्वी राज्यों में इंफ्रास्ट्रक्चर विकसित हुआ है. विकास एक सतत चलने वाली प्रक्रिया है. कांग्रेस के समय भी असम में काम हुआ था. बीजेपी ने अपना काम किया है. साथ ही उसका सही पीआर भी किया. पिछली सरकार प्रोजेक्ट शुरु करती है. अगली सरकार उसका उद्घाटन करती है. जो नॉर्थ-ईस्ट को समझता है वो ये जानता है कि हमें एकता चाहिए. हमें एकसाथ रहना होगा. ये बात सही है कि हम रिमोट इलाके में है. हमें विकास की और जरूरत है. नॉर्थ-ईस्ट एशिया का गेटवे हो सकता है. ये राज्य बेहद संवेदनशील हैं. सिर्फ रोड और रेलवे लाने से काम नहीं चलता. लोगों को संभालना जरूरी है. अरुणाचल प्रदेश में जितना घुसपैठ इस समय हुआ है वो पहले नहीं होता था. 

परफॉर्मेंस किसी भी नेता के लिए जरूरी होता है, नहीं तो अगली बार उसे कोई चुनता नहीं है. (फोटोः चंद्र दीप कुमार/इंडिया टुडे)
परफॉर्मेंस किसी भी नेता के लिए जरूरी होता है, नहीं तो अगली बार उसे कोई चुनता नहीं है. (फोटोः चंद्र दीप कुमार/इंडिया टुडे)

आजादी के बाद विकास हुआ पर भाजपा सरकार में ज्यादाः इमो सिंह 

इमो सिंह ने कहा कि मैं इससे मना नहीं करता कि आजादी के बाद से विकास नहीं हुआ. लेकिन पिछले कुछ सालों में प्रधानमंत्री और गृहमंत्री के समय में ज्यादा काम हुआ है. मणिपुर में लगातार विकास कार्य हो रहा है. लोगों को सुविधाएं मिल रही हैं. पिछले 60-70 सालों से पाकिस्तान, चीन, बांग्लादेश और म्यांमार से दिक्कतें आती रहती हैं. पिछले 8 सालों में भारत ने अंतरराष्ट्रीय सीमाओं को लेकर काफी मजबूती से काम किया है. 

जो पार्टी बेसिक कामों को लेकर आगे बढ़ेगी, हम उसके साथः प्रद्युत

प्रद्युत बिक्रम ने कहा कि विकास हुआ है सिर्फ पीआर नहीं हुआ है. जैसे- उड़ान प्रोजेक्ट. लेकिन इससे लोगों की शांति, एकता और संस्कृति को संभालना होगा. हम किसी पार्टी के एजेंडे की तरह नहीं काम करते. अगर बेसिक बातें पूरी नहीं होंगी तो हम किसी के साथ नहीं जाएंगे. हम किसी ऐसी पार्टी के पास नहीं जाएंगे जो हमें लिखित में यह देंगे कि हम बेसिक काम करेंगे. 

टीएमसी बंगाली पार्टी नहीं है, भाजपा संस्थापक भी तो बंगाली थेः सुष्मिता

इमो सिंह ने कहा कि ग्रेटर त्रिपुरा या ग्रेटर नगालैंड की मांग बेहद जटिल है. मैं सारे डिमांड्स नहीं जानता. लेकिन अगर संवैधानिक मांगें होंगी तो उन्हें जरूर पूरा किया जाएगा. त्रिपुरा में क्या होगा. इसे लेकर सुष्मिता देव ने कहा कि हम गोवा में चार महीने में 8 फीसदी मतदाता लेकर आए. टीएमसी बंगाली पार्टी नहीं है. यहां 40 फीसदी नॉन बंगाली हैं. भाजपा को भी तो श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने खड़ा किया था. वो भी तो बंगाली थे. लेकिन अब ये बातें नहीं चलती. अब हम त्रिपुरा के साथ मेघालय में भी हैं. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें