scorecardresearch
 

कोरोना के खिलाफ एक ही वैक्सीन का बूस्टर डोज कोई टिकाऊ उपाय नहीं... विशेषज्ञों ने बताया क्या हैं विकल्प

भारत में केंद्र सरकार ने पहले लिए गए टीके की वही खुराक बूस्टर या तीसरी प्रीकॉश्नरी खुराक के रूप में देने का फैसला किया है.

vaccine vaccine
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बहुसंयोजी टीका विकसित करने पर हो सकता है विचार
  • एक ही वैक्सीन का बूस्टर डोज कोई उपाय नहीं

WHO के तकनीकी सलाहकार समूह ने COVID-19 वैक्सीन संरचना पर अपने अंतरिम वक्तव्य में COVID-19 के ओमिक्रॉन वैरिएंट के टीकों के संचलन के संदर्भ में कहा - "मूल वैक्सीन संरचना की बार-बार बूस्टर खुराक की टीकाकरण रणनीति उचित या टिकाऊ होने की संभावना नहीं है."

इस दौरान यह भी कहा गया - COVID-19 टीकों की आवश्यकता है: उन वैरिएंट पर आधारित होना जो जेनेटिकली और एंटी- जेनेटिकली SARS-CoV-2 वेरिएंट के करीब हों, संक्रमण से सुरक्षा में अधिक प्रभावी हों और इस प्रकार कम्युनिटी ट्रांसमिशन को कम करें. कड़े सार्वजनिक स्वास्थ्य और सामाजिक उपायों की आवश्यकता है, हमें मजबूत और लंबे समय तक चलने वाली प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को प्राप्त करना है.

इस नजरिए के अनुसार विचार करने के लिए कई विकल्प हैं:

• एक मोनोवैलेंट वैक्सीन जो प्रमुख परिसंचारी वेरिएंट के खिलाफ एक इम्यून रेस्पांस प्राप्त करता है, हालांकि इस विकल्प को SARS-CoV-2 वेरिएंट के तेजी से उभरने और एक संशोधित या नए वैक्सीन को विकसित करने के लिए आवश्यक समय की चुनौती का सामना करना पड़ेगा.
• विभिन्न सार्स-सीओवी-2 वीओसी से एंटीजन युक्त एक बहुसंयोजी टीका.
• एक पैन SARS-CoV-2 वैक्सीन: एक अधिक टिकाऊ दीर्घकालिक विकल्प जो प्रभावी रूप से भिन्न-भिन्न प्रकार का होगा.

भारत में केंद्र सरकार ने पहले लिए गए टीके की वही खुराक बूस्टर या तीसरी प्रीकॉश्नरी खुराक के रूप में देने का फैसला किया है.

भारत की तीसरी खुराक नीति

-केंद्र सरकार ने पिछले साल दिसंबर में नए कोविड टीके - कॉर्बेवैक्स और कोवोवैक्स (नोवावैक्स एंड द कोएलिशन फॉर एपिडेमिक प्रिपेयर्डनेस इनोवेशन द्वारा विकसित) को मंजूरी दी थी.
-इसके नियामक और नैदानिक ​​पहलू हैं. एक नियामक और कानूनी दृष्टिकोण से, स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने कहा कि पिछली दो खुराक के समान वैक्सीन देना सही समझ में आता है जब तक कि तीसरी खुराक के रूप में एक अलग वैक्सीन का उपयोग करने पर नीतिगत निर्णय लेने के लिए पर्याप्त डेटा न हो.
-नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ वीके पॉल ने देश की बूस्टर नीति की घोषणा करते हुए कहा था कि भले ही तीसरी खुराक के लिए एक अलग वैक्सीन के लिए जाने में सैद्धांतिक रूप से कोई समस्या नहीं थी, लेकिन इस समय पर्याप्त डेटा उपलब्ध नहीं था.

तीसरी बूस्टर डोज के बारे में क्या कहना है विशेषज्ञों का?

बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, वाराणसी के आयुर्विज्ञान संस्थान में मॉलिक्यूलर इम्यूनोलॉजी और वायरोलॉजी के प्रोफेसर प्रो. सुनीत के. सिंह ने कहा, "मैं डब्ल्यूएचओ से कुछ हद तक सहमत हूं कि टीकों की प्राइमरी सीरीज के बूस्टर (दो खुराक की दो खुराक)  उभरते SARS-CoV2 वेरिएंट के खिलाफ एक बहुत ही तार्किक रणनीति नहीं हैं.  उन्होंने कहा- कम से कम स्पाइक में प्रमुख बदलावों के साथ-साथ वैरिएंट ऑफ़ कंसर्न के रिसेप्टर बाइंडिंग डोमेन के आधार पर मौजूदा टीकों को अपडेट करने की आवश्यकता हो सकती है.

“बहुसंयोजी टीका या टीके विकसित करने के बारे में सोचा जा सकता है जो प्रमुख वेरिएंट के खिलाफ हो. लेकिन यह सोचना चाहिए कि यह एक दिन का काम नहीं है क्योंकि अब तक वेरिएंट काफी तेजी से उभर रहे हैं. इस तरह की प्रक्रियाओं को ऐसे नए टीकों को विकसित करने और उसी की प्रभावकारिता और इम्यूनोजेनेसिटी का परीक्षण करने के लिए समय चाहिए. भविष्य में फ्लू शॉट्स के समान ही स्थिति हो सकती है, जिन्हें फ्लू वायरस के खिलाफ निरंतर सुरक्षा के लिए वार्षिक या द्विवार्षिक आधार पर अद्यतन करने की आवश्यकता होती है.  

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×