scorecardresearch
 

तेलंगाना के महानगर पालिका की पहल, 1 रुपये में हो रहा कोविड मृतकों का अंतिम संस्कार!

कोरोना संक्रमण से मौत होने के बाद लाशों के अंतिम संस्कार कराने के लिए परिजनों से मुंहमांगे दाम मांगे जा रहे हैं. महामारी के बीच मची लूट को देखते हुए तेलंगाना के करीमनगर म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन ने 1 रुपये में अंतिम संस्कार कराने का फैसला किया है.

गरीब परिवारों की महानगर पालिका कर रही मदद गरीब परिवारों की महानगर पालिका कर रही मदद
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कोरोना मरीजों की मौत पर मची है लूट
  • बड़ी रकम मांग रहीं अंतिम संस्कार कराने वाली टीमें
  • MCK ने शुरू की अलग पहल

कोरोना संक्रमण का कहर देश के कई राज्यों पर टूट रहा है. कोविड मरीजों की मौत से श्मशान घाटों और कब्रिस्तानों में जगहें कम पड़ रही हैं. मृतकों के परिजनों को शवदाह के लिए लंबा इंतजार करना पड़ रहा है. वहीं कब्रिस्तानों की स्थितियां भी ऐसी ही हैं. लाशों के अंबार के चलते जगहें कम पड़ने लगी हैं. अंतिम संस्कार भी कोरोना मरीजों का ठीक ढंग से नहीं हो पा रहा है.

तेलंगाना के करीमनगर म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन(एमसीके) ने गरीब परिवार के लोगों के अंतिम संस्कार को सम्मानजनक ढंग से कराने के लिए अलग पहल की है. इस महानगर पालिका ने मृतकों के अंतिम संस्कार कराने के लिए दरें कम कर दी हैं, जिससे महामारी से जूझते गरीब तबके को राहत मिले.

इस पहल को 'अंतिम यात्रा, आखिरी सफर' का नाम दिया गया है. इसे कोरोना संक्रमण की पहली लहर में जून 2019 में शुरू किया गया था, लेकिन जैसे-जैसे कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर ने कहर बरपाना शुरू किया, इसे फिर से शुरू कर दिया गया. महामारी से जूझते गरीब परिवार भी इसके जरिए अपने परिजनों को सम्मान पूर्वक अंतिम विदाई दे पा रहे हैं.

शव को मुर्दाघर से श्मशान तक ले जाने के लिए नगर निगम बॉडी फ्रीजर इस्तेमाल करता है, जिससे लाशों में सड़न न आने पाए, और उनका अंतिम संस्कार किया जा सके.
 

मंहगा हो गया है कोरोना मरीजों का अंतिम संस्कार

परिजनों से मोटी रकम वसूलती हैं प्राइवेट टीमें

एमसीके मेयर सुनील राय ने कहा, 'सामान्यत: कोरोना से मरने वाले मरीजों के शव का अंतिम संस्कार 10,000 रुपये लेकर कराया जाता था लेकिन प्राइवेट अंतिम संस्कार कराने वाली टीमें, इससे ज्यादा चार्ज करती हैं. महानगर पालिका के जरिए 1 रुपये वाली स्कीम के जरिए 150 लाशों का अंतिम संस्कार पिछले साल किया गया था.

 वहीं अब तक 100 से ज्यादा लाशों का अब तक अंतिम संस्कार कराया जा चुका है.करीमनगर म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन को इस पहल में करीमनगर मडिगा संघम का सहयोग भी मिला है, जिसके जरिए नगर के बाहरी इलाके में नदी के घाटों पर कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए अंतिम संस्कार कराया जा रहा है. इस दौरान परंपराओं का भी पालन किया जा रहा है.

ये भी पढ़ें- 
महाराष्ट्र में नहीं थम रहा कोरोना का कहर, एक दिन में सबसे ज्यादा 974 मौतें, 34,389 नए केस 
कोरोना से जंग के लिए आया एक और हथियार, कल से मरीजों को मिलेगी DRDO की एंटी-कोविड दवाई


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें