scorecardresearch
 

'क्या किसी महिला को RSS का सरसंघचालक चुना जाएगा?', दिग्विजय सिंह ने मोहन भागवत से पूछा

कांग्रेस के सीनियर नेता दिग्विजय सिंह ने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के दशहरा रैली में दिए गए बयान पर कई सवाल पूछे हैं. उन्होंने पूछा कि क्या कभी किसी महिला को आरएसएस के सरसंघचालक के रूप में चुना जाएगा? बता दें कि पहली बार संघ ने किसी महिला को दशहरा रैली कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित किया था.

X
कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह (फाइल फोटो)
कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह (फाइल फोटो)

कांग्रेस के सीनियर नेता दिग्विजय सिंह ने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के दशहरा रैली में दिए गए बयान पर पूछा है कि क्या कभी किसी महिला को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक के रूप में चुना जाएगा. भागवत ने नागपुर में आरएसएस मुख्यालय में महिला सशक्तिकरण के मुद्दे पर अपनी बात रखी थी. 

भागवत ने अपने संबोधन में कहा था कि महिलाएं जो काम कर सकती हैं, वो पुरुष नहीं कर सकते हैं, इसलिए उनका सशक्तिकरण किया जाना अहम है. दशहरा कार्यक्रम में भागवत की टिप्पणी पर इंडिया टुडे की रिपोर्ट को टैग करते हुए दिग्विजय सिंह ने पूछा, "क्या आरएसएस बदल रहा है? क्या एक तेंदुआ कभी अपनी जगह बदल सकता है? अगर वे आरएसएस के चरित्र की मूल बातें बदलने के लिए वास्तव में गंभीर हैं, तो मेरे पास मोहन भागवत जी से कुछ सवाल हैं? क्या वे हिंदू राष्ट्र के अपने एजेंडे को छोड़ देंगे?"  

एक और ट्वीट में दिग्विजय ने पूछा कि "क्या अगला सरसंघचालक एक गैर चितपावन ब्राह्मण हो सकता है? क्या ओबीसी, एससी और एसटी सरसंघचालक के रूप में स्वीकार किए जाएंगे, क्या उन्हें आरएसएस में जगह मिलेगी? क्या उन्हें आरएसएस में सामान्य सदस्यता मिलेगी और क्या वह अल्पसंख्यकों को सदस्यता देने की शुरुआत करेंगे?"  

'...तो भागवत के प्रशंसक बन जाएंगे' 

कांग्रेस नेता ने कई सवालों के बाद कहा कि अगर मेरे सभी सवालों और शंकाओं का जवाब सकारात्मक रूप से दिया जाएगा तो मुझे आरएसएस से कोई समस्या नहीं होगी. इसके साथ ही दिग्विजय सिंह ने कहा कि मोहन भागवत जी अगर आप ऐसा कर सकते हैं तो मैं आपका प्रशंसक बन जाऊंगा.   

भागवत ने महिलाओं के सशक्तिकरण की कही बात

बता दें कि मोहन भागवत ने महिलाओं को लेकर कहा कि हम उन्हें जगतजननी मानते हैं, लेकिन उन्हें पूजाघर में बंद कर देते हैं ये ठीक नहीं है. मातृशक्ति के जागरण का कार्यक्रम अपने परिवार से प्रारंभ करना होगा, फैसला लेने में महिलाओं को भी साबित करना होगा.   

दशहरा कार्यक्रम में पहली बार कोई महिला शामिल हुई

बता दें कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के दशहरा कार्यक्रम में पहली बार मुख्य अतिथि के रूप में पर्वतारोही संतोष यादव शामिल हुईं. आरएसएस की स्थापना दिवस पर उन्होंने कहा कि लोग मेरे हाव-भाव देखकर पूछते थे कि क्या तुम संघी हो? इसका जवाब देते हुए मैं उन्हें कहती थी कि वो क्या होता है. आज किस्मत मुझे सर्वोच्च मंच पर लेकर आई है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें