scorecardresearch
 

300 किलोमीटर दूरी, फ्लाइट रेट 31000! ज्योतिरादित्य सिंधिया ने दी सफाई

असम में भारी बारिश के बीच गुवाहाटी और सिलचर के बीच फ्लाइट रेट ने सभी को हैरत में डाल दिया है. 300 किलोमीटर की दूरी वाले रूट के लिए 31 हजार रुपये मांगे जा रहे हैं. अब केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने इस पर सफाई दी है.

X
केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया
स्टोरी हाइलाइट्स
  • असम में बाढ़ से जीवन अस्त व्यस्त
  • 1.97 लाख लोग इस बाढ़ से प्रभावित

असम में इस समय भारी बारिश का दौर जारी है. भयंकर बाढ़ की वजह से जीवन अस्त व्यस्त हो चुका है. अब वहां पर स्थिति इतनी विक्राल है कि सिलचर से गुवाहाटी तक की फ्लाइट का रेट 31 हजार रुपये पहुंच गया है. दूरी तो मात्र 300 किलोमीटर की है, लेकिन फेयर इतना ज्यादा आ रहा है. इस बात की जानकारी खुद बीजेपी सांसद राजदीप रॉय ने ट्वीट कर दी है.

बीजेपी सांसद का ये ट्वीट सोशल मीडिया पर वायरल हो चुका है. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा है कि भारी बारिश और लैंडस्लाइड की वजह से रेल और सड़क मार्ग प्रभावित हुआ है, लेकिन मैं ये देखकर हैरान हूं कि सिलचर से गुवाहाटी तक की फ्लाइट का रेट 31 हजार रुपये आ रहा है. यात्रा सिर्फ 25 मिनट की है और दूरी 300 किलोमीटर. टिकट के इस बढ़ते दाम पर ध्यान देने की जरूरत है.

अब उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने इस विवाद पर सफाई पेश की है. उन्होंने भी ट्वीट कर एक बयान जारी किया है. उनके मुताबिक 15 दिन के भीतर इस रूट पर फेयर कैप लग जाता है. उन्होंने लिखा है कि मैं ये साफ करना चाहता हूं कि गुवाहाटी से सिलचर वाले रूट पर 15 दिन के भीतर फेयर कैप लग जाता है. ऐसा इसलिए किया गया है जिससे यात्रियों से ज्यादा शुल्क ना लिया जाए. इस रूट से संचालित होने वाली एयरलाइंन से पता चला है कि सभी नियमों का पालन हो रहा है. फिर भी अगर कोई समस्या है तो एयर सेवा पोर्टल पर शिकायत डाल दी जाए.

असम में हो रही बारिश की बात करें तो कई इलाकों में बाढ़ और भूस्खलन से आम जन-जीवन अस्त-व्यस्त है. राज्य में करीब 20 जिलों के 1.97 लाख लोग इस बाढ़ से प्रभावित हैं. असम और पड़ोसी राज्यों- मेघालय, और अरुणाचल प्रदेश में पिछले कुछ दिनों से हो रही लगातार बारिश के कारण नदियों में पानी का स्तर बढ़ता जा रहा है. बाढ़ प्रभावित इलाकों में मदद के लिए सरकार ने भारतीय सेना, अर्धसैनिक बलों, अग्निशमन और आपातकालीन सेवाओं, एसडीआरएफ, नागरिक प्रशासन और प्रशिक्षित स्वयंसेवकों को लोगों के रेस्क्यू के लिए तैनात किया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें