scorecardresearch
 

Agnipath Scheme: महिलाएं भी बनेंगी अग्निवीर, सियाचिन में होगी तैनाती, इसी महीने शुरू होगा अनुशासन का इम्तिहान

लेफ्टिनेंट जनरल बंशी पुनप्पा ने कहा कि सेना में अग्निवीरों की भर्ती के लिए 1 जुलाई को नोटिफिकेशन जारी हो जाएगा. जिसके बाद लोग एप्लीकेशन रजिस्ट्रेशन शुरू कर सकते हैं. वहीं वायु सेना में 24 जून से बहाली शुरू होगी, जबकि नेवी में बहाली के लिए 25 जून को नोटिफिकेशन आएगा.

X
तीनों सेना के अधिकारियों की प्रेस कॉन्फ्रेंस तीनों सेना के अधिकारियों की प्रेस कॉन्फ्रेंस
स्टोरी हाइलाइट्स
  • जल्द शुरू होंगी तीनों सेनाओं में भर्ती 
  • अग्निवीरों के साथ कोई भेद-भाव नहीं होगा

अग्निपथ योजना को लेकर रविवार को तीनों सेनाओं की ओर से साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस की गई. दरअसल इस योजना के विरोध में युवाओं और राजनीतिक दल लगातार सवाल उठा रहे हैं. कई जगहों पर युवाओं का प्रदर्शन हिंसक भी हो गया. इसीलिए योजना को लेकर उठ रहे सवालों का जवाब सेना द्वारा दिया गया है. इसके साथ ही सेना ने ये भी स्पष्ट कर दिया है कि अग्निपथ योजना को वापस नहीं लिया जाएगा. 

सेना की ओर से बताया गया कि अगले 4-5 साल में हम 50-60 हजार सैनिकों की बहाली करेंगे और बाद में इसे बढ़ाकर 90,000- एक लाख तक किया जाएगा. हमने योजना का विश्लेषण करने के लिए 46,000 जवानों से छोटी शुरुआत की है.  

जल्द शुरू होंगी तीनों सेनाओं में भर्ती 

लेफ्टिनेंट जनरल बंशी पुनप्पा ने कहा कि सेना में अग्निवीरों की भर्ती के लिए 1 जुलाई को नोटिफिकेशन जारी हो जाएगा. जिसके बाद लोग एप्लीकेशन रजिस्ट्रेशन शुरू कर सकते हैं. भर्ती के लिए पहली रैली अगस्त के दूसरे सप्ताह से शुरू होगी. रैली में फिजिकल टेस्ट और मेडिकल होगा उसके बाद एंट्रेंस एग्जाम होगा फिर उन्हें कॉलम में मेरिट के हिसाब से भेजेंगे. अगस्त से लेकर नवंबर तक 2 बैच में रैलियां होंगी. पहले लॉट में 25000 अग्निवीर आएंगे. ये लोग दिसंबर के पहले सप्ताह में आएंगे. अग्निवीरों का दूसरा जत्था फरवरी में आएगा.‌ देशभर में कुल 83 भारतीय रैलियां होंगी जो देश के हर राज्य में हर हर आखिरी गांव तक होंगे.  

महिलाएं भी बनेंगी अग्निवीर 

वहीं वायु सेना में 24 जून से बहाली शुरू होगी, जबकि नेवी में बहाली के लिए 25 जून को नोटिफिकेशन आएगा. नेवी के अनुसार, अगले दो-तीन दिनों में 25 जून तक हमारा एडवर्टाइजमेंट इंफॉर्मेशन ब्रॉडकास्टर मिनिस्ट्री तक पहुंच जाएगा. हमारे टाइमलाइन के हिसाब से 21 नवंबर को हमारा पहला अग्निवीर का बैच आईएनएस चिल्का उड़ीसा में रिपोर्ट करना शुरू कर देगा. हम महिलाओं को भी अग्निवीर बना रहे हैं. मैं 21 नंवबर का इंतजार कर रहा हूं और मुझे आशा है कि महिला और पुरुष अग्निवीर आइएनएस चिल्का पर रिपोर्ट करेंगे. 
   
अग्निवीरों के साथ कोई भेद-भाव नहीं होगा

ले. अ. अनिल पुरी ने कहा कहा कि 'अग्निवीरों' को सियाचिन और अन्य क्षेत्रों जैसे क्षेत्रों में वही भत्ता मिलेगा जो वर्तमान में सेवारत नियमित सैनिकों पर लागू होता है. सेवा शर्तों में उनके साथ कोई भेदभाव नहीं होगा. जो कपड़े सेना के जवान पहनते हैं वहीं कपड़े अग्निवीर पहनेंगे, जिस लंगर में सेना के जवान खाना खाते हैं वहीं पर अग्निवीर खाएंगे. जहां पर सेना के जवान रहते हैं वहीं पर अग्निवीर भी रहेंगे. 

वापस नहीं होगी अग्निपथ स्कीम
    
अग्निपथ स्कीम को वापस लेने की किसी भी संभावना से सेना ने इनकार किया है. सेना ने कहा संयुक्त बयान में कहा है कि अग्निपथ स्कीम वापस नहीं होगी. सेना ने अपने अहम बयान में कहा है कि कोचिंग संस्थान छात्रों को भड़का और उकसा रहे हैं. ले. ज. अनिल पुरी ने कहा कि उन्हें हिंसा और प्रदर्शन में हिस्सा नहीं लेना चाहिए. पुलिस रिकॉर्ड पाए जाने पर उन्हें अग्निवीर नहीं बनाया जाएगा.

1989 से ही इस योजना पर विचार शुरू हुआ

सेना ने अपने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि सेना को युवा लोगों की जरूरत है. आज सेना की औसत उम्र 32 साल है, इसे हम कम करके 26 साल पर करने की कोशिश करने की कोशिश कर रहे हैं. लेफ्टिनेंट जनरल अनिल पुरी ने कहा कि युवा ज्यादा रिस्क ले सकते हैं ये हम सभी को पता है. अनिल पुरी डीएमए  (Dept of Military Affairs) ) में एडिशनल सेक्रेटरी हैं. उन्होंने कहा कि 1989 में इस योजना पर विचार करना शुरू हो गया. और इसे लागू करने से पहले कई देशों में सेना में नियुक्तियों और वहां के एग्जिट प्लान का अध्ययन किया गया. 

ये भी पढ़ें-  24 जून से एयरफोर्स, 25 से नेवी और एक जुलाई से आर्मी में शुरू होगी अग्निवीरों की भर्ती

4 साल बाद क्या करेंगे अग्निवीर? 

सेना की तरफ से कहा गया कि उन्हें 4 साल बाद मिलने वाले 11.7 लाख के साथ अग्निवीर जो चाहे वह कर सकते हैं. उनके लिए ब्रिजिंग कोर्स के प्रावधान पर विचार किया जा रहा है. इस पर भी तैयारी चल रही है. इसे कौन करवाएगा. इसकी फीस कौन भरेगा?
लेफ्टिनेंट जनरल अनिल पुरी ने कहा कि सरकार ने कहा है कि अग्निवीरों को सीएपीएफ में प्राथमिकता दी जाएगी. सीएपीएफ में आरक्षण देने का प्लान पहले से था, क्योंकि सरकार को पता था कि ये जो 75 फीसदी अग्निवीर 4 साल बाद निकलेंगे. ये देश की ताकत होंगे. राज्य की सरकारों ने स्पष्ट कहा है कि पुलिस में अग्निवीरों को प्राथमिकता दी जाएगी. चार राज्य तो ऐसे हैं, जिन्होंने स्पष्ट कहा है कि सभी अग्निवीरों को जॉब देंगे. इसके अलावा बैंक अग्निवीरों को प्राथमिकता देंगे. 

अग्निवीरों को मिलेगा 12वीं का सर्टिफिकेट

लेफ्टिनेंट जनरल अनिल पुरी ने कहा कि 21 साल के अंदर किस युवा की जॉब लगती है? लेकिन अग्निपथ स्कीम में भर्ती होने वाले 60 से 70 फीसदी युवा 10वीं पास होंगे. उन्हें 12 पास का सर्टिफिकेट दिया जाएगा. आज की तुलना में अग्निवीरों को ज्यादा अलाउंस दिए जा रहे हैं. लेफ्टिनेंट जनरल अनिल पुरी ने आगे कहा कि सबसे बड़ी बात है कि अग्निपथ स्कीम में आने वाला युवा डिसिप्लिन्ड होगा. किसी भी फील्ड में काम करने के सबसे पहले डिमांड यही होती है.
 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें