scorecardresearch
 

अग्निवीरों के लिए वरुण गांधी ने बतौर सांसद पेंशन छोड़ने की पेशकश की, दूसरे विधायक-सांसदों से भी की अपील

वरुण गांधी ने ट्वीट किया, अल्पावधि की सेवा करने वाले अग्निवीर पेंशन के हकदार नही हैं तो जनप्रतिनिधियों को यह सहूलियत क्यूं? राष्ट्ररक्षकों को पेंशन का अधिकार नहीं है, तो मैं भी खुद की पेंशन छोड़ने को तैयार हूं. क्या हम विधायक-सांसद अपनी पेंशन छोड़ यह सुनिश्चित नहीं कर सकते कि अग्निवीरों को पेंशन मिले?

X
बीजेपी सांसद वरुण गांधी बीजेपी सांसद वरुण गांधी
स्टोरी हाइलाइट्स
  • वरुण गांधी बोले- जब अग्निवीरों को पेंशन नहीं, तो प्रतिनिधियों को क्यों
  • वरुण गांधी बोले- मैं अपनी पेंशन छोड़ने के लिए तैयार

बीजेपी सांसद वरुण गांधी लगातार 'अग्निपथ योजना' पर सवाल उठा रहे हैं. वरुण गांधी ने अब अग्निवीरों के समर्थन में अपनी पेंशन तक छोड़ने का ऐलान कर दिया. वरुण गांधी ने ट्वीट कर कहा कि अगर कम समय की सेवा करने वाले राष्ट्ररक्षकों को पेंशन का अधिकार नहीं है, तो मैं भी पेंशन छोड़ने के लिए तैयार हूं. 

वरुण गांधी ने ट्वीट किया, अल्पावधि की सेवा करने वाले अग्निवीर पेंशन के हकदार नही हैं तो जनप्रतिनिधियों को यह सहूलियत क्यूं? राष्ट्ररक्षकों को पेंशन का अधिकार नहीं है, तो मैं भी खुद की पेंशन छोड़ने को तैयार हूं. क्या हम विधायक-सांसद अपनी पेंशन छोड़ यह सुनिश्चित नहीं कर सकते कि अग्निवीरों को पेंशन मिले?

 


पीलीभीत से बीजेपी सांसद वरुण गांधी लगातार बेरोजगारी और अग्नीपथ योजना को लेकर अपनी ही सरकार पर निशाना साध रहे हैं. उन्होंने हाल ही में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा था कि अग्नीपथ योजना के बारे में कई नौजवानों ने मुझे सोशल मीडिया पर लिखकर अपनी चिंताएं बताईं.

उन्होंने कहा, पूरे देश में एक करोड़ से ज्यादा खाली पद पड़े हैं. सिर्फ परीक्षा के फॉर्म की फीस से सरकार हर साल 1300 करोड़ रुपए कमाती है. मैं पीएम मोदी से अपील करता हूं कि 10 लाख नई नौकरियां बनाएं, ये 1 करोड़ खाली पद हैं, इन पदों की ही हम भरपाई करें, तो 5-10 करोड़ लोगों का भला होगा. 

वरुण गांधी ने कहा, जब एक नौजवान का सपना मरता है, तो पूरे देश का सपना मरता है. क्या 4 साल के बाद अग्निवीरों का सम्मानजनक पूनर्वास होगा? मेरा मानना है कि जब तक समाज के आखिरी व्यक्ति की आवाज न सुनी जाए, तब तक कोई भी कानून का निर्माण न हो. 

वरुण गांधी ने रक्षा मंत्री को लिखा था पत्र

इससे पहले वरुण गांधी ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को पत्र लिखकर अग्निपथ' योजना को लेकर युवाओं के कई सवालों को उठाया था. उन्होंने अपील की थी कि युवाओं को असमंजस की स्थिति से बाहर निकालने के लिए सरकार अतिशीघ्र योजना से जुड़े नीतिगत तथ्यों को सामने रख कर अपना पक्ष साफ करे. जिससे देश की युवा ऊर्जा का सकारात्मक उपयोग सही दिशा में हो सके. 
 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें