scorecardresearch
 

Ranchi violence: रांची में हिंसा के दौरान जख्मी दो लोगों की मौत, गोली लगने के बाद अस्पताल में थे भर्ती

Ranchi news: पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ विवादित टिप्पणी के विरोध में और नूपुर शर्मा की गिरफ्तारी की मांग को लेकर शुक्रवार को देशभर में प्रदर्शन किया गया था. इस दौरान कई राज्यों में माहौल भी बिगड़ गया था. यूपी में अभी तक 136 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है.

X
रांची में शुक्रवार को दोपहर तीन बजे के करीब बिगड़ गया था माहौल (फाइल फोटो) रांची में शुक्रवार को दोपहर तीन बजे के करीब बिगड़ गया था माहौल (फाइल फोटो)
3:06
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पुलिस ने किया था लाठीचार्ज, हवाई फायरिंग
  • प्रशासन ने शहर में लागू कर दी है धारा 144

रांची में शुक्रवार को उपद्रव के दौरान गोली लगने से जख्मी दो लोगों की शनिवार को इलाज के दौरान मौत हो गई. जानकारी के मुताबिक मरने वालों में एक की पहचान मुदस्सिर उर्फ ​​कैफी के रूप में हुई है. जबकि दूसरे का नाम मोहम्मद साहिल है. राजेंद्र आयुर्विज्ञान संस्थान (रिम्स) ने दो लोगों की मौत की पुष्टि की है. वहीं अभी 8 जख्मी लोगों का इलाज चल रहा है.

मालूम हो कि पैगंबर मोहम्मद को लेकर नूपुर शर्मा की आपत्तिजनक टिप्पणी के बाद शुक्रवार को लोग सड़कों पर उतर आए थे. मेन रोड इलाके में मुस्लिम समुदाय के लोगों ने जुलूस निकालकर नूपुर शर्मा के खिलाफ जमकर नारेबाजी की थी. पुतला भी जलाया था. इसके बाद देखते ही देखते प्रदर्शन हिंसक हो गया.

UP: देश में बवाल पर होने वाले TV डिबेट में नहीं शामिल होंगे सपा प्रवक्ता, अखिलेश ने लगाई रोक

पुलिस ने किया था लाठीचार्ज, हवाई फायरिंग

रांची में विरोध प्रदर्शन उग्र होने के बाद पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर करने के लिए लाठीचार्ज किया और हवाई फायरिंग की. इस दौरान भीड़ ने भी जमकर पत्थरबाजी की. इसमें कई पुलिसकर्मी घायल हो गए. पत्थरबाजी में पुलिस के कई जवानों को चोट लगी. बहरहाल पुलिस ने भीड़ पर काबू पा लिया. 

पूरे रांची शहर में लगा कर्फ्यू

प्रदर्शन के हिंसक होने के बाद प्रशासन ने पहले रांची शहर के कुछ इलाकों में कर्फ्यू लगाया गया था, जिसे बाद में पूरे शहर में लगा दिया गया है. कर्फ्यू के बाद लोगों ने हिंसा वाली जगहों पर कुछ लोगों ने हनुमान चालीसा का पाठ किया.  

रांची में स्थिति में शांत मगर तनावपूर्ण बनी हुई है. प्रशासन स्पीकर से घोषणा कर लोगों से घरों से बाहर न निकलने की अपील कर रहा है. प्रशासन के अनुसार ऐसा करने पर उन्हें कस्टडी में लिया जा सकता है. अफवाहों पर रोक लगाने के लिए शहर में इंटरनेट बंद कर दिया गया है. कल की घटना के बाद से आजतक शहर में हिंसा की कोई खबर नहीं है. आज कई संगठनों ने बंद का ऐलान किया है लेकिन धारा-144 लागू होने की वजह से बंद बेअसर है.    

दिल्ली: नूपुर शर्मा के समर्थन में हिंदू सेना शनिवार को निकालेगी मार्च

हेमंत सोरेन ने जनता से की अपील 

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने लोगों से अपील की है कि ऐसी किसी भी गतिविधि में भाग लेने से परहेज करें. उन्होंने कहा, मुझे अचानक इस चिंताजनक (विरोध) घटना के बारे में जानकारी मिली. झारखंड की जनता हमेशा से बहुत संवेदनशील और सहनशील रही है. घबराने की जरूरत नहीं है. मैं सभी से अपील करता हूं कि ऐसी किसी भी गतिविधि में भाग लेने से परहेज करें जिससे इस तरह के और अपराध हों.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें