scorecardresearch
 

J&K: इस साल ऑपरेशन ऑल आउट के तहत 151 आतंकी ढेर, घाटी में 199 अब भी सक्रिय

जम्मू- कश्मीर में TRF कमांडर सहित 3 आतंकियों को सुरक्षा बलों ने ढेर किया है. इसके साथ ही जम्मू कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन और उसमें मारे गए आतंकियों का आंकड़ा डेढ़ सौ के पार हो चुका है. खुफ़िया इनपुट्स के मुताबिक इस साल अब तक सुरक्षा बलों ने 151 आतंकियों को अलग- अलग ऑपरेशन में मार गिराया है.

Jammu Kashmir Jammu Kashmir
स्टोरी हाइलाइट्स
  • घाटी में इस साले मारे गए 151 आतंकी
  • जम्मू-कश्मीर में 199 आतंकी अब भी सक्रिय

जम्मू- कश्मीर में आतंकियों का सफाया लगातार हो रहा है. कल TRF कमांडर सहित 3 आतंकियों को सुरक्षा बलों ने ढेर किया है. इसके साथ ही जम्मू कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन और उसमें मारे गए आतंकियों का आंकड़ा डेढ़ सौ के पार हो चुका है. खुफ़िया इनपुट्स के मुताबिक इस साल अब तक सुरक्षा बलों ने 151 आतंकियों को अलग- अलग ऑपरेशन में मार गिराया है. सूत्रों ने बताया कि जो आतंकी मारे गए है उनमें से सबसे ज्यादा 86 आतंकी लश्कर ए तैयबा के हैं.

नाम बदलकर सिविलियन को निशाना बना रहे आतंकी

इस समय लश्कर के आतंकी नाम बदलकर भी सुरक्षा बलों और सिविलियन को निशाना बना रहे हैं. इस साल जैश के 11 आतंकी भी ढेर हुए है. हिजबुल मुजाहिदीन के 26, अल बदर के 13, अंसार गजवात उल हिन्द के 3 आतंकी मारे गए हैं और 9 आतंकी ऐसे हैं जिनकी पहचान नही हो सकी है. आतंकियों के खिलाफ जितनी तेजी से ऑपरेशन हुये है तो बड़े आतंकी कमांडर उसी क्रम में आतंक की भर्ती करने में भी जुटे हैं. सूत्रों ने बताया है कि घाटी में अब भी 199 आतंकी सक्रिय हैं, जिसमें 110 लोकल और 89 विदेशी आतंकी शामिल हैं. इन आतंकियों के सफाये का प्लान सुरक्षा बल तैयार कर रहे हैं. सूत्रों ने ये बताया है कि आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन में 35 जवान शहीद हुये हैं और 82 जवान घायल हुए हैं, पर देश के वीर जवानों ने आतंकियों को मुंहतोड़ जवाब दिया है.

पाक की घुसपैठ की अंडर वाटर चाल

उधर खुफिया सूत्रों ने आजतक को यह जानकारी दी है कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ने इस वक्त जम्मू और LOC की कई नदियों में पानी के रास्ते आने का प्लान तैयार किया है. जम्मू और LOC के नज़दीक में 14 छोटे- बड़े नाले और 3 बड़ी नदियां है, जहां से आतंकी घुसपैठ कर सकते है. सूत्रों के मुताबिक बरसात में जम्मू की बसंतर नदी में काफी पानी आ गया था. हालांकि अब इन रास्तों के इस्तेमाल पाकिस्तान के आतंकी कर सकते हैं. एजेंसियों को इस बात का खतरा है कि आतंकी इन नदियों का इस्तेमाल घुसपैठ के लिए कर सकते हैं. यही वजह है कि बीएसफ ने नदी और नालों के इलाके में अलर्ट बढ़ा दिया है. साथ ही इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस को भी बढ़ा दिया है.

नए अंडर वाटर वेसेल के जरिये घुसपैठ का प्लान

खुफिया एजेंसियों के सूत्रों से यह जानकारी दी है कि पाकिस्तान ने आतंकियों के घुसपैठ के लिए एक अलग तरीके का प्लान तैयार किया है. पाकिस्तान ने कई अलग देशों में मौजूद अंडर वाटर मूववमेंट करने वाले यंत्र की खरीददारी करने की तैयारी की है. अंडर वाटर मूवमेंट करने वाले वेसेल का इस्तेमाल छोटी नदियों में किया जा सकता है. ऐसे अंडर वाटर वेसेल कुछ किलोमीटर तक 4 से 5 लोगों को बैठकर गहराई में ले जाकर आसानी से ऑपरेट कर सकते हैं. सूत्रों के  मुताबिक़ पाकिस्तान, ISI और आर्मी की अपनी स्पेशल फोर्स को मजबूत करने के लिए इन उपकरणों को खरीद रहा हैं, पर इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि  इसका  इस्तेमाल आतंकियों को भारत में घुसपैठ करने के लिए किया जा सकता है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×