scorecardresearch
 

कुलगाम में 5 आतंकी ढेर, LG मनोज सिन्हा बोले- दो साल में कश्मीर आतंक मुक्त होगा

जम्मू कश्मीर में सेना का आंतक पर तोबड़तोड़ प्रहार जारी है. अब कुलगाम में सेना ने बड़ी कार्रवाई करते हुए पांच आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया है. एनकाउंटर और ताबड़तोड़ फायरिंग के बाद सेना को ये कामयाबी मिली है. कुलगाम के पॉमबे में तीन और गोपालपुरा में दो आतंकी मारे गए हैं.

TRF कमांडर समेत पांच आतंकी मारे गए TRF कमांडर समेत पांच आतंकी मारे गए
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कुलगाम में सेना का बड़ा ऑपरेशन
  • अब तक चार आतंकी मारे गए, मुठभेड़ जारी

जम्मू कश्मीर में सेना का आंतक पर तोबड़तोड़ प्रहार जारी है. अब कुलगाम में सेना ने बड़ी कार्रवाई करते हुए पांच आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया है. एनकाउंटर और ताबड़तोड़ फायरिंग के बाद सेना को ये कामयाबी मिली है. कुलगाम के पॉमबे में तीन और गोपालपुरा में दो आतंकी मारे गए हैं.

मारे गए पांच आतंकी

बताया जा रहा है कि सुरक्षाबलों ने एक गुप्त जानकारी के आधार पर अपने ऑपरेशन को अंजाम दिया था और फिर कुलगाम के पॉमबे इलाके में तीन आतंकियों का सफाया कर दिया. सेना ने चारों तरफ से इलाके को घेर लिया था और उन्हें भागने का एक भी मौका नहीं दिया गया. सुरक्षाबलों ने सुरक्षा के लिहाज से पूरे इलाके में आवाजाही पर भी रोक लगा दी और ट्रैफिक को बिल्कुक सीमित कर दिया गया .

इसके अलावा कुलगाम के ही गोपालपुरा इलाके में भी आतंकियों संग मुठभेड़ जारी है. वहां भी दो आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया गया है. ऐसे में सेना एक साथ दो जगहों पर एनकाउंटर को अंजाम दे रही है. मारे गए आतंकियों के नाम टॉप कमांडर अफाक सिकंदर, शकीर, हैदर और इब्राहिम शामिल है.

जानकारी के लिए बता दें कि पिछले कई दिनों से सुरक्षाबलोंं द्वारा आतंकियों का सफाया किया जा रहा है. हाल ही में श्रीनगर के हैदरपोरा इलाके में भी सेना और आतंकियों के बीच जोरदार मुठभेड़ हुई थी. उस एनकाउंटर में दो आतंकी मारे गए थे. इसके अलावा आतंकियों की मदद करने वाले दो और लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया था.

आतंकी हमले बढ़े, सेना का प्रहार जारी

पिछले दो महीने से लगातार घाटी में आतंकियों ने अपने हमले तेज कर दिए हैं. सरकार जरूर कड़े फैसले ले रही है, लेकिन आतंकी भी लोगों के मन में डर पैदा करने का काम कर रहे हैं. कभी बाहरी मजदूरों को निशाना बनाया जा रहा है तो कभी आम नागरिकों को भी गोली का शिकार बनाया जा रहा है. इस वजह से कई सालों बाद फिर घाटी में पलायन का दौर भी देखने को मिल रहा है. अब उन्हीं परिस्थिति के बीच सेना भी आतंक पर अपना प्रहार जारी रख रही है. हर हमले का मुंहतोड़ जवाब दिया जा रहा है और आतंकियों की नापाक साजिश को पूरा होने से रोका जा रहा है.

इस बीच एक कार्यक्रम में मनोज सिन्हा ने कहा है कि कुछ लोग घाटी में माहौल खराब करने का काम करते हैं. उन्होंने सभी को आश्वासन दे दिया कि आने वाले दो सालों में घाटी को आतंक मुक्त कर दिया जाएगा.

कश्मीर पर हाई लेवल मीटिंग

अब सेना के ऑपरेशन के बीच सरकार भी अपने स्तर पर लगातार बैठकें कर रही है. अब खबर है कि आज फिर सरकार की एक हाई लेवल मीटिंग हुई थी. इस बैठक में गृह सचिव, जम्मू कश्मीर के DGP, NIA/ CRPF के डीजी, BSF बीके डीजी सहित IB और गृह मंत्रालय के अधिकारी शामिल थे. सूत्रों के मुताबिक अलगाववादी संगठनों की तर्ज़ पर ओवर ग्राउंड वर्कर (OGW) पर बड़ा शिकंजा कसने का प्लान तैयार किया गया है. अब ये सब इसलिए किया जा रहा है क्योंकि NIA ने हाल ही में OGW के खिलाफ 6 नवंबर को एक और केस दर्ज किया है जिसमें ये पता चला है कि कई ओवर ग्राउंड वर्कर(OGW) के दूसरे राज्यों में भी संपर्क हैं. NIA अब पैन इंडिया आतंकियों के सहयोगी(OGW) पर शिकंजा कसेगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×