scorecardresearch
 

कश्मीर में चिल्लई कलां से पहले कड़ाके की ठंड, जम गया पानी

चिल्लई कलां हर साल 21 दिसंबर को शुरू होता है और 30 जनवरी को समाप्त होता है.

फोटो-अशरफ वानी फोटो-अशरफ वानी

कश्मीर में शुक्रवार से साल का सबसे ठंडा मौसम चिल्लई कलां शुरू होगा. 40 दिन तक चलने वाले इस मौसम को साल का सबसे ठंडा मौसम माना जाता है.

चिल्लाई कलां के दौरान यहां नदियां, नाले और तालाब सब कुछ जम जाते हैं. कश्मीर में लोग कड़ाके की ठंड वाले इस मौसम के लिए सालभर तैयारियों में जुटे रहते हैं. इस साल कश्मीर में समय से पहले ही नवंबर के पहले हफ्ते में हुई बर्फबारी के बाद ठंड का मौसम शुरू हो गया है लेकिन चिल्लई कलां में यह ठंड और बढ़ेगी.

कश्मीर के दूरदराज इलाकों में पानी के पाइप जम जाने से पहले ही लोग पीने के पानी की कमी से जूझ रहे हैं. साथ ही बिजली की कटौती ने भी लोगों को परेशान कर रखा है. कश्मीर के अधिकतर इलाकों में रात का तापमान माइनस से नीचे जा रहा है और आने वाले दिनों में यह पारा और गिरेगा. चिल्लई कलां हर साल 21 दिसंबर को शुरू होता है और 30 जनवरी को समाप्त होता है. घाटी के झील-तालाबों में बर्फ जमनी शुरू हो गई है और नलों के आसपास आग जलाकर बर्फ के रूप में जमा पानी निकाला जा रहा है.

मौसम विभाग के अधिकारियों ने बताया कि पिछले 24 घंटों में रात के तापमान में गिरावट आई है. लेह का तापमान शून्य से 14.7 डिग्री नीचे, श्रीनगर का शून्य से 4.9 डिग्री नीचे, पहलगाम का शून्य से 6.8 डिग्री नीचे और गुलमर्ग का शून्य से 5.4 डिग्री नीचे रहा. जम्मू में न्यूनतम तापमान 6.1 डिग्री, कटरा में 6.2 डिग्री, बटोटे में 1.6 डिग्री, बनिहाल में शून्य से 1.5 डिग्री नीचे और भदरवाह में 0.3 डिग्री नीचे रहा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें