scorecardresearch
 

ED ने 5वें दिन राहुल गांधी से 11 घंटे से ज्यादा पूछताछ की, पांच दिनों में 54 घंटे हुए सवाल-जवाब

13 जून से राहुल गांधी ने ईडी ने पूछताछ शुरू की थी. पिछले सप्ताह लगातार तीन दिनों तक वे ईडी ऑफिस पहुंचे थे. बता दें कि ये जांच इंडियन प्राइवेट लिमिटेड में कथित वित्तीय अनियमितताओं से संबंधित है, जो नेशनल हेराल्ड अखबार का मालिक है.

X
ईडी के बुलाए जाने पर पूछताछ के लिए पहुंचे राहुल गांधी. ईडी के बुलाए जाने पर पूछताछ के लिए पहुंचे राहुल गांधी.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • देर रात 11:30 बजे ईडी के ऑफिस से निकले राहुल
  • ईडी ने पूछताछ के लिए आज सोनिया गांधी को बुलाया

कांग्रेस नेता राहुल गांधी से प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने नेशनल हेराल्ड मामले में पांचवें दिन मंगलवार को 11 घंटे से अधिक समय तक पूछताछ की. केरल के वायनाड के कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने ईडी कार्यालय में पांच दौर की हुई पूछताछ में कुल 54 घंटे बिताए और जांचकर्ताओं ने उनसे कई सत्रों में पूछताछ की और धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) के तहत उनका बयान दर्ज किया.

फिलहाल, राहुल गांधी को पूछताछ के लिए नया समन जारी नहीं किया गया है. अंदाजा लगाया जा रहा है कि कम से कम अभी के लिए राहुल गांधी से पूछताछ पूरी कर ली गई है.

मंगलवार सुबह 11.30 बजे राहुल गांधी से पूछताछ शुरू हुई. शाम करीब 8 बजे राहुल गांधी ने आधे घंटे का ब्रेक लिया. आखिर में रात 11:30 बजे वे एजेंसी कार्यालय से निकले.

सूत्रों के मुताबिक, राहुल गांधी से ईडी ये समझना चाहता था कि कांग्रेस पार्टी द्वारा एजेएल को ऋण कैसे दिया गया था और क्या इस एजेएल-कांग्रेस-यंग इंडियन सौदे में कंपनी अधिनियम और एंटी-मनी लॉन्ड्रिंग कानून के प्रावधानों का उल्लंघन किया गया था. सोनिया गांधी और राहुल गांधी यंग इंडियन के प्रवर्तकों और बहुसंख्यक शेयरधारकों में से हैं. राहुल की तरह कांग्रेस अध्यक्ष के पास भी 38 फीसदी हिस्सेदारी है. ईडी ने इस मामले में कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और पवन बंसल से अप्रैल में पूछताछ की थी. 

एजेंसी ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को भी मामले में पूछताछ के लिए आज तलब किया है. सोनिया गांधी को सोमवार को दिल्ली के एक निजी अस्पताल से छुट्टी दे दी गई था, जहां उन्हें कोरोनोवायरस से संबंधित परेशानियों के बाद भर्ती किया गया था. फिलहाल, डॉक्टरों ने सोनिया गांधी को घर पर आराम करने की सलाह दी है. उधर, कांग्रेस ने केंद्र पर जांच एजेंसियों का दुरुपयोग कर विपक्षी नेताओं को निशाना बनाने का आरोप लगाया है और पूरी कार्रवाई को 'राजनीतिक प्रतिशोध' करार दिया है.

ये भी पढ़ें

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें