scorecardresearch
 

दिल्ली के CM को सुरक्षा नहीं दे सकते तो इस्तीफा दें PM मोदी - केजरीवाल

आप विधायकों ने सदन में कहा कि शहीद होने की हालत में दिल्ली पुलिस को दी जाने वाली एक करोड़ रुपये की सम्मान राशि योजना को खत्म किया जाए, लेकिन सीएम ने विधायकों की इस मांग से असहमति जताई. सीएम ने कहा कि उन पर जो हमले हो रहे हैं और उसके बाद पुलिस का जो रवैया है, उसके लिए दिल्ली पुलिस को दोष देना ठीक नहीं है.

फोटो-Twitter/@AamAadmiParty फोटो-Twitter/@AamAadmiParty

दिल्ली विधानसभा के विशेष सत्र के पहले दिन मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर मिर्ची अटैक पर जमकर चर्चा हुई. दिल्ली सरकार के मंत्री सत्येंद्र जैन ने सदन में दिल्ली की बिगड़ती कानून व्यवस्था पर चिंता जताई और एक प्रस्ताव के जरिए केंद्र सरकार से दिल्ली पुलिस को दिल्ली सरकार के अधीन करने की मांग की. वहीं, दिल्ली के सीएम ने कहा है कि अगर पीएम मोदी दिल्ली के सीएम को सुरक्षा नहीं दे सकते तो उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए.

सीएम अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली विधानसभा में कहा कि दिल्ली पुलिस एक संस्था है और पुलिस को अपने सम्मान की रक्षा करनी चाहिए. आम आदमी पार्टी विधायकों ने सीएम पर हो रहे हमलों और उसके बाद दिल्ली पुलिस की ओर से कोई कार्रवाई न किए जाने के मसले को सदन में उठाया.

आप विधायकों ने सदन में कहा कि शहीद होने की हालत में दिल्ली पुलिस को दी जाने वाली एक करोड़ रुपये की सम्मान राशि योजना को खत्म किया जाए, लेकिन सीएम ने विधायकों की इस मांग से असहमति जताई. सीएम ने कहा कि उन पर जो हमले हो रहे हैं और उसके बाद पुलिस का जो रवैया है, उसके लिए दिल्ली पुलिस को दोष देना ठीक नहीं है, बल्कि इन सबके पीछे बीजेपी की गंदी राजनीति है.

केजरीवाल ने कहा कि बीजेपी दिल्ली पुलिस को मोहरा बना रही है, लेकिन दिल्ली पुलिस को अपने साथियों की शहादत का सम्मान करना चाहिए. केजरीवाल ने कहा कि वे हमेशा दिल्ली पुलिस के साथ रहेंगे, लेकिन मोदी कभी पुलिस वालों के साथ नहीं होंगे.

केजरीवाल ने कहा कि ड्यूटी पर शहीद होने वाले जिन 18 शहीदों को एक करोड़ रुपये की सम्मान राशि दी जा रही है, उनमें से 11 दिल्ली पुलिस के सिपाही हैं. केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली पुलिस को चुनी हुई सरकार के दायरे में आना चाहिए ताकि दिल्ली की कानून-व्यवस्था को ठीक किया जा सके और पुलिस सरकार के प्रति जवाबदेह हो. उन्होंने कहा कि दिल्ली में आप सरकार से पहले स्कूल, अस्पतालों की बुरी हालत थी और लोग टीचर्स और डॉक्टरों को कोसते थे, लेकिन आज वही टीचर्स और डॉक्टर हैं, जिनके कारण हालात बदल गए हैं. केजरीवाल ने कहा कि अगर दिल्ली पुलिस भी सरकार के दायरे में हो तो यही पुलिसकर्मी दिल्ली के लोगों की रक्षा करेंगे.

सीएम ने कहा कि पिछले तीन साल में उन पर चार बार हमले हुए हैं और एक भी मामले में चार्जशीट तक दाखिल नहीं हुई. केजरीवाल ने कहा, "सवाल यह है कि ये हमले क्यों हुए? दिल्ली की लोगों ने यह गुस्ताखी कर दी कि उन्होंने एक आम आदमी को सीएम बना दिया और यही कारण है कि बीजेपी अब दिल्ली के लोगों से बदला ले रही है. बीजेपी के ये हमले सीधे दिल्ली की जनता पर हैं. चारों हमले बीजेपी ने दिल्ली की जनता पर करवाए हैं."

केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सचिवालय में हाल ही में हुए हमले के बाद केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने उन्हें फोन किया और उन्होंने गृह मंत्री को यही कहा कि या तो इन हमलों में केंद्र का हाथ है या फिर केंद्र दिल्ली के सीएम को सुरक्षा देने में फेल हुए हैं. सीएम ने कहा कि दिल्ली की पुलिस सीधे केंद्र के अधीन है और अगर पीएम मोदी दिल्ली के सीएम को सुरक्षा नहीं दे सकते तो पीएम को इस्तीफा दे देना चाहिए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें