scorecardresearch
 

दिल्ली: अमर कॉलोनी में सीलिंग से व्यापारी नाराज, विरोध में दिन भर बंद रही दुकानें

रविवार को अमर कॉलोनी में दूर दराज के राज्यों से आये व्यापारियों को भारी नुकसान झेलना पड़ रहा है. जालंधर, रोहतक, हाथरस से आये व्यापारियों का जमावड़ा आधी रात को ही होने लगा लेकिन सीलिंग और विरोध प्रदर्शन की वजह से सभी व्यापारी खाली हाथ लौटने के लिए मजबूर हो गए. रविवार को अमर कॉलोनी का बाजार सुबह 7 बजे खुल जाता है.

विरोध कर रहे व्यापारी विरोध कर रहे व्यापारी

देश की राजधानी में सीलिंग ने व्यापारियों की आर्थिक मुसीबत बढ़ा दी है. दिल्ली के अमर कॉलोनी में 500 से ज्यादा दुकानें सील होने के बाद व्यापारियों ने सीलिंग के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. रविवार की सुबह से लेकर रात तक महिलाओं, बच्चों और बुजुर्गों ने काले झंडे लेकर 'काला दिवस' मनाया. सीलिंग के विरोध में व्यापारियों ने तमाम दुकानें बंद रखने का ऐलान किया है.

रविवार को अमर कॉलोनी में दूर दराज के राज्यों से आये व्यापारियों को भारी नुकसान झेलना पड़ रहा है. जालंधर, रोहतक, हाथरस से आये व्यापारियों का जमावड़ा आधी रात को ही होने लगा लेकिन सीलिंग और विरोध प्रदर्शन की वजह से सभी व्यापारी खाली हाथ लौटने के लिए मजबूर हो गए. रविवार को अमर कॉलोनी का बाजार सुबह 7 बजे खुल जाता है.

बता दें कि दिल्ली की अमर कॉलोनी कपड़े, लेडीज शूट के लिए मशहूर है, यहां 1000 से ज्यादा दुकानें हैं. अन्य राज्यों से आये व्यापारियों का कहना है कि उनकी दुकान में माल खत्म हो चुका है और इतना खर्चा करके वो दिल्ली आते हैं लेकिन अब खाली हाथ जाने से अगले कई हफ्तों का नुकसान झेलना होगा.

अमर कॉलोनी बाजार में पिछले 18 साल से लेडीज शूट का व्यापार कर रहे मनदीप सिंह कोहली प्रदर्शन के दौरान बातचीत करते हुए भावुक हो गए और रोने लगे. बातचीत के दौरान मनदीप ने अपने बच्चे के हाथ की लिखी छोटी सी चिट्ठी भी दिखाई और बताया कि वो अपने बच्चे की स्कूल फीस नहीं दे पा रहे हैं.

दुकान में कर्मचारी के तौर पर काम करने वाले अमर नाम के शख्स ने कहा कि 'मैं अमर कॉलोनी में 25 साल से काम कर रहा हूं, मेरे 4 बच्चे हैं और 500 रुपए कमा कर रोजाना घर ले जाता हूं. लेकिन पिछले 3 दिन से आने-जाने के लिए किराए का पैसा भी मेरे पास नहीं है. कांग्रेस, बीजेपी और आम आदमी पार्टी से निवेदन है कि हमारी मदद करें. अमर कॉलोनी बाजार में 85% कर्मचारी काम करते हैं, हाल उतना बुरा है कि 3 दिन से रोजी रोटी नहीं मिला. सभी नेताओं से निवेदन है कि हमें सिर्फ 2 रोटी दिलवा दो.'

स्कूली छात्रों ने व्यापारियों के विरोध प्रदर्शन में शामिल होकर अपना दर्द बयां किया. दसवीं में पढ़ने वाली रिया ने कहा 'हमारे एग्जाम चल रहे हैं. बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का नारा दिया जाता है लेकिन दुकानें बंद हो जाएंगी, रोजगार नहीं मिलेगा तो स्कूल की फीस कहां से भरी जाएगी. रमन ने कहा 'एग्जाम चल रहे हैं लेकिन ट्यूशन ही सील कर दिया गया है तो पढ़ाई कैसे करेंगे. हमारे घर में पेरेंट्स इतने तनाव में हैं. टेंशन में हम लोग पढ़ नहीं पा रहे हैं.'

अमर कॉलोनी में व्यपारियों के बीच दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष अजय माकन और आम आदमी पार्टी के विधायक मदनलाल भी पहुंचे. मदनलाल ने व्यपारियों से अपील की है कि वो सड़क से लेकर संसद तक एक मार्च निकालें जिसमें आम आदमी पार्टी उनका साथ देगी.

अजय माकन ने याद दिलाया कि 2007 में सत्ता के दौरान कांग्रेस ने नया मास्टरप्लान तैयार किया था. माकन ने अरविंद केजरीवाल को सर्वदलीय बैठक बुलाने के लिए धन्यवाद भी किया और बीजेपी से इस बैठक में शामिल होने का अनुरोध किया. इसके अलावा व्यपारियों को किन्नर समाज का भी समर्थन मिला है. धरना स्थल पर पहुंचे किन्नरों ने जमकर बीजेपी, एमसीडी के खिलाफ नारेबाजी की.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें