scorecardresearch
 

बिहार में शराबबंदी के 1 साल पूरे, देखें क्या रहा असर...

बिहार प्रदेश में शराबबंदी के एक साल हुए पूरे. इस दौरान प्रदेश भर से देश में निर्मित शराब (IMFL) 5,14,639 लीटर, बीयर 11,371 लीटर और देसी शराब 3,10,292 लीटर हुई जब्त.

बिहार प्रदेश शराबबंदी बिहार प्रदेश शराबबंदी

बिहार प्रदेश में शराबबंदी के एक साल पूरे हो गए हैं. पूरे प्रदेश में अब तक देश में निर्मित शराब (IMFL) 5,14,639 लीटर, बीयर 11,371 लीटर और देसी शराब 3,10,292 लीटर जब्त की जा चुकी है. गौरतलब है कि बिहार में बीते साल 5 अप्रैल की तारीख से ही शराबबंदी लागू की गई थी. आबकारी और मद्य-निषेध विभाग ने पुलिस की मदद से शराब पर सख्त निगरानी बरती है.

साल 2016 के भीतर नए मद्य-निषेध अधिनियम के तहत कुल 44,594 लोगों को गिरफ्तार भी किया गया. इनमें से जहां 20,149 लोगों को आबकारी विभाग ने गिरफ्तार किया. वहीं पुलिस ने 24,445 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया. आबकारी विभाग और पुलिस ने साथ मिलकर कुल 2,16,595 छापे मारे और कुल 40,078 केस दर्ज किए.

सरकारी आकड़ों पर नजर डालें तो आबकारी विभाग ने जहां 1,07,801.24 लीटर (IMFL) जब्त किया. वहीं पुलिस ने 5,14,639.23 लीटर विदेशी शराब अलग-अलग जगहों से जब्त किए. हालांकि पूरे प्रदेश में शराबबंदी के बीच ताड़ी (ताड़ के पेड़ से निकाला जाने वाला खमीरयुक्त जूस) पर किन्हीं निषिद्ध इलाकों में बेचने के अलावा कोई रोक नहीं थी. हालांकि इस दौरान प्रदेश भर से 10,217 लीटर ताड़ी भी जब्त हुई. इसके बारे में अधिक जानकारी देते हुए डिपार्टमेंट ने कहा कि नए साल के शुरुआती दो दिनों में अप्रैल 1 से अप्रैल 2 के बीच आबकारी विभाग और पुलिस ने कुल 2127 छापे मारे. इस दौरान जहां उन्होंने 439 लोगों को गिरफ्त में लिया. वहीं 10,719.38 लीटर (IMFL) और 2823.35 लीटर देसी शराब जब्त की है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें