scorecardresearch
 

UP में बूचड़खाने और बिहार में शराबबंदी, चांदी काट रहे नेपाल के कारोबारी

उत्तरप्रदेश में भले ही बूचड़खाने बंद हो गए हों लेकिन मांस के शौकीनों के लिए नेपाल एक अच्छा बाजार जरूर बन गया है. नेपाल में धडल्ले से अवैध बूचड़ खाने खुल रहें हैं क्योंकि उत्तरप्रदेश में बीफ की भारी मांग हो रही है.

प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

उत्तरप्रदेश में भले ही बूचड़खाने बंद हो गए हों लेकिन मांस के शौकीनों के लिए नेपाल एक अच्छा बाजार जरूर बन गया है. नेपाल में धडल्ले से अवैध बूचड़ खाने खुल रहें हैं क्योंकि उत्तरप्रदेश में बीफ की भारी मांग हो रही है. योगी सरकार ने कानूनी रूप से उत्तरप्रदेश में अवैध बूचड़खानों पर प्रतिबंध तो लगा दिया है लेकिन नेपाल से उत्तरप्रदेश के सीमाई इलाकों में व्यापक रूप से मांस की तस्करी हो रही है.

नेपाल में बड़े पैमाने पर रंगा की बिक्री खुलेआम होती है. रंगा भैसा की एक प्रजाति है. नेपाल के अत्याधुनिक बूचड़खानों में आधुनिक तरीके से रंगा की कटाई और उसकी फिनिंशिग होती है फिर इसे अच्छे से पैक कर इसे डीप फ्रीजर में रखा जाता है और उसके बाद इसे उत्तरप्रदेश भेजा जा रहा है. प्लास्टिक के पैकेट में पैक रंगा के मांस को एक मशीन के द्वारा कीमा बनाया जाता है उसमें कुछ केमिकल का भी इस्तेमाल होता है ताकि यह खराब न हो. फिर इसकी पैकिंग कर तस्करी के रूप में उत्तरप्रदेश ले जाया जा रहा है.

ऐसे ही बूचड़खाने चलाने वाले सुमन कुमार का कहना है कि उत्तरप्रदेश में बूचड़खाने बंद होने के बाद से नेपाल में मांस की मांग बढ़ गई है. उत्तरप्रदेश से बड़ी संख्या में मालवाहक ट्रक भी आते हैं उससे भी इसकी तस्करी हो रही है. उत्तरप्रदेश के सीमाई इलाकों में जमकर इसकी तस्करी हो रही है. भारत के सोनौली बॉर्डर और उत्तरप्रदेश के बहराईच से सटे नेपाली इलाकों से रंगा मांस की आपूर्ति हो रही है. रंगा का स्वाद भी बीफ जैसा ही होता है. नेपाल चूंकि एक तरह से हिन्दू राष्ट्र है इसलिए वहां गाय को काटा नहीं जाता है लेकिन चोरी-छिपे बीफ भी मिल जाता है. लेकिन ज्यादतर लोग रंगा के मांस का ही सेवन करते हैं.

वहीं दूसरी ओर उत्तरप्रदेश के बूचड़खाने बंद होने से मवेशियों की खपत भी बंद हो गई है. ऐसे में इस धंधे से जुड़े लोग अपने मवेशियों को नेपाल में इस्तेमाल कर रहे हैं. खुली सीमा होने के कारण उन्हें मवेशियों को नेपाल भेजने में कोई दिक्कत नहीं है. चारा के बहाने मवेशियों को नेपाल पहुंचा दिया जाता है जहां उनके मवेशियों का इस्तेमाल मांस के व्यापार में हो रहा है. नेपाल के बूचड़खानों में आधुनिक मशीनों के बदौलत उसे इस प्रकार काटा जाता है कि पता चलना मुश्किल है कि यह बीफ है या फिर रंगा का मांस.

भारत नेपाल सीमा पर तैनात एसएसबी के 47वीं बटालियन के कमांडेन्ट सोनम छेरिंग भी मानते हैं कि उत्तरप्रदेश में बूचड़खाने बंद होने से मवेशियों को नेपाल की तरफ जाते हुए देखा जा सकता है. एसएसबी ने रक्सौल बॉर्डर पर 80 मवेशियों को जब्त किया है जिसे नेपाल अवैध तरीके से ले जाया जा रहा था. ये तो बिहार और नेपाल की सीमा की बात है लेकिन उत्तरप्रदेश से लगे नेपाल के बॉर्डर पर यह संख्या यहां से कई गुणा ज्यादा है.

इस तरह देखा जाए तो उत्तरप्रदेश में बूचड़खाने बंद होने से नेपाल में मांस व्यापारियों की ठीक उसी तरह से चांदी हो रही है जैसे बिहार में शराब बंद होने से नेपाल के शराब कारोबारी खुश हैं. बिहार में शराब बंदी से नेपाल के शराब करोबारियों का व्यापार 30 से 40 प्रतिशत तक बढ़ गया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें