scorecardresearch
 

बिहार

जेडीयू में शामिल हुए गुप्तेश्वर पांडेय

बिहार के पूर्व DGP गुप्तेश्वर पांडेय की सियासी पारी शुरू, जेडीयू में हुए शामिल

27 सितंबर 2020

बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय बिहार चुनाव से पहले जनता दल यूनाइटेड में शामिल हो गए हैं. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की मौजूदगी में गुप्तेश्वर पांडेय ने जेडीयू की सदस्या हासिल की.

पटना बीजेपी ऑफिस पर हुआ हंगामा (फाइल फोटो-पीटीआई)

टिकट को लेकर पटना BJP ऑफिस में हंगामा, डिप्टी CM की गाड़ी घेरी

27 सितंबर 2020

हंगामा करने वाले बीजेपी कार्यकर्ताओं ने कहा कि वर्तमान विधायक और मंत्री विजय सिन्हा अपने क्षेत्र में उम्मीदों पर खड़े नहीं उतर रहे हैं. इसलिए वहां से कुमारी बबीता को ही टिकट दिया जाए. कार्यकर्ताओं ने पार्टी कार्यालय में विजय सिन्हा के खिलाफ जमकर नारे भी लगाए.

RJD नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी

अब्दुल बारी सिद्दीकी: कर्पूरी ठाकुर सरकार में मंत्री रहे, अब लालू के सबसे खास

27 सितंबर 2020

साल 1977 में अपना पहला ही विधानसभा चुनाव जीतने के बाद अब्दुल बारी सिद्दीकी को कर्पूरी ठाकुर की सरकार में संसदीय कार्यमंत्री की जिम्मेदारी सौंपी गई थी. हालांकि इसके बाद 1980 से लेकर 1990 तक लगातार तीन चुनावों में सिद्दीकी को हार का सामना करना पड़ा.

जीरादेई से 2015 में जेडीयू विजेता (सांकेतिक तस्वीर- पीटीआई)

जीरादेई विधानसभा सीट: क्या जेडीयू फिर से दर्ज कर पाएगा जीत?

27 सितंबर 2020

साल 2015 के विधानसभा चुनाव में जीरादेई विधानसभा सीट से जेडीयू के रमेश सिंह कुशवाहा ने 6091 वोटों से जीत हासिल की थी. रमेश सिंह कुशवाहा ने बीजेपी की आशा देवी को हराया था.

गोपालगंज से 2015 में बीजेपी विजेता (सांकेतिक तस्वीर)

गोपालगंज विधानसभा सीट: बीजेपी के गढ़ में क्या विपक्षी दल लगा पाएंगे सेंध?

27 सितंबर 2020

साल 2015 के विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के सुभाष सिंह ने राष्ट्रीय जनता दल के रियाजुल हक उर्फ राजू को गोपालगंज सीट से एक कड़े मुकाबले में 5074 वोटों से हराया था.

Weather: बिहार में बारिश से बिगड़े हालात, असम में बाढ़ का कहर

27 सितंबर 2020

बिहार में भारी बारिश ने एक बार फिर कहर बरपा दिया है. कटिहार में बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए हैं. कई इलाकों में जलजमाव की स्थिति पैदा हो गई. उधर, असम में भी बाढ़ के हालात गंभीर हैं. बारिश के नए दौर की वजह से हजारों लोगों का जनजीवन प्रभावित हुआ है. असम के 5 जिलों में सबसे ज्यादा कहर टूटा है. इन जिलों में सैकड़ों हेक्टेयर में तैयार फसल बाढ़ की वजह से बर्बाद हो गई है. देखें ताजा हालात.

लड़की को बंधक बनाकर जिस्मफरोशी करा रहे थे पति-पत्नी, गिरफ्तार

27 सितंबर 2020

पुलिस ने हाजीपुर के एक पॉश इलाके में चल रहे सेक्स रैकेट का भंड़भोड़ किया है. इस मामले में पुलिस ने पति और पत्नी को गिरफ्तार किया है. पुलिस का कहना है कि इस सेक्स रैकेट के खुलासे के बाद कई बड़े लोगों के नाम इससे जुड़े हो सकते हैं.

क्या तरारी विधानसभा की जीत का रिकॉर्ड टूटेगा इस बार (सांकेतिक-पीटीआई)

बिहार चुनावः वो सीट जहां 2015 में बना था रिकॉर्ड

27 सितंबर 2020

बिहार में इस बार 3 चरणों में चुनाव में होंगे और 10 नवंबर को परिणाम आएंगे. 5 साल पहले इसी समय बिहार में चुनाव प्रचार का जोर था और सभी राजनीति दल अपने सहयोगी दलों के साथ चुनाव मैदान में उतरने की तैयारी में जुटे थे. 243 विधानसभा सीटों पर चुनाव के बाद जब 8 नवंबर 2015 को चुनाव के नतीजे आए तो सबसे ज्यादा चौंकाने वाला नतीज तरारी सीट का रहा.

पटना के जिलाधिकारी ने रानीतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की

बिहार: कोरोना काल में नामांकन के भी नए नियम, दो वाहन की परमिशन

27 सितंबर 2020

किसी भी परिस्थिति में सरकारी वाहन का उपयोग चुनाव कैंपेन में नहीं किया जा सकेगा. धार्मिक स्थल का उपयोग चुनाव कार्य के लिए नहीं किया जाना है. भाषण के दौरान किसी पर व्यक्तिगत आक्षेप नहीं करना है.

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

नीतीश कुमार का मजबूत दुर्ग है नालंदा, क्या करेंगे क्लीन स्वीप?

27 सितंबर 2020

2015 के विधानसभा चुनाव में पांच सीटों पर जेडीयू को जीत मिली थी. इनमें नालंदा, हरनौत, राजगीर, अस्थावां और इस्लामपुर सीट पर जेडीयू ने जीत का परचम लहराया था. जबकि एक हिलसा सीट पर राजद को जीत मिली थी और बिहारशरीफ सीट भाजपा के खाते में गई थी. नालंदा विधानसभा सीट पर बिहार सरकार में मंत्री श्रवण कुमार 6 बार से चुनाव जीत रहे हैं.

बिहार: गोदाम में सड़ रहा है गेहूं, सरकार की योजना पर लगा ग्रहण

26 सितंबर 2020

बिहार में लगातार बारिश हो रही है, इस बीच 24.3 टन गेहूं की एक रैक रक्सौल रेलवे माल गोदाम लाई गई है. बारिश से बचाव की व्यवस्था न होने के कारण ये गेहूं भीग गया है. वहीं ठेकेदार द्वारा भी इस भीगे गेहूं को तेजी से सरकारी बोरों में भरवाकर गंतव्य की ओर पहुंचाने का कार्य शुरू कर दिया है. बोरों में भरा भीगा गेहूं कब तक सुरक्षित रहेगा.