scorecardresearch
 

लालू-राबड़ी की सालगिरह पर बधाइयों का तांता, ‘महारानी’ को लेकर सुर्खियों में है राजनीतिक जोड़ी

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव और राबड़ी देवी की आज शादी की सालगिरह है. हर ओर से बधाई दी जा रही है. इस बार ये राजनीतिक जोड़ी एक खास वजह से चर्चा में भी है, हाल ही में एक वेब सीरीज में बिहार की राजनीति को दिखाया गया और कहानी लालू-राबड़ी के किरदार के इर्द-गिर्द ही है.

X
लालू यादव और राबड़ी देवी की शादी की सालगिरह आज (फोटो: Twitter)
लालू यादव और राबड़ी देवी की शादी की सालगिरह आज (फोटो: Twitter)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • लालू-राबड़ी की शादी की सालगिरह आज
  • जीतनराम मांझी समेत कई नेताओं ने दी बधाई
  • महारानी सीरीज के कारण सुर्खियों में है बिहार की राजनीति

राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के प्रमुख लालू प्रसाद यादव और बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी आज अपनी शादी की 48वीं सालगिरह मना रहे हैं. सोशल मीडिया पर बिहार के इन दोनों नेताओं को बधाई दी जा रही है और समर्थक जश्न मना रहे हैं. इस बार सालगिरह का ये मौका तब आया है जब एक वेब सीरीज़ को लेकर बिहार की राजनीति और खासकर लालू परिवार की राजनीति सुर्खियों में है. 

लालू-राबड़ी को बधाइयों का लगा तांता
बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने ट्विटर के जरिए लालू-राबड़ी को बधाई दी. उन्होंने लिखा कि राजद सुप्रीमो लालू यादव और बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी जी को शादी की 48वीं सालगिरह की शुभकामनाएं. आप हमेशा स्वास्थ्य और खुशहाल रहकर जनता की सेवा करें ईश्वर से यही कामना है. जीतन राम मांझी के अलावा राजद और बिहार के कई अन्य नेताओं ने भी दोनों की बधाई दी. 


बिहार में हमेशा ट्रेंडिंग है लालू-राबड़ी की जोड़ी...
छात्र राजनीति के जरिए पहले बिहार और फिर केंद्र की राजनीति में छाने वाले लालू यादव की अरेंज मैरिज हुई थी. 1 जून 1973 को दोनों की शादी हुई थी. उम्र में लालू यादव, राबड़ी देवी से सात साल बड़े हैं. दोनों की शादी बेहद कम उम्र में हो गई थी, लेकिन शादी के शुरुआती दौर में ही कुछ ऐसा हुआ कि दोनों एक दूसरे से दूर हुए. 

दरअसल, 1975-76 के दौर में जब छात्र आंदोलन और इमरजेंसी का वक्त चल रहा था, तब लालू छात्र राजनीति में काफी एक्टिव थे. उसी दौर में उन्हें जेल भी हो गई थी, तब लालू यादव जेल से ही राबड़ी देवी को चिट्ठी लिखा करते थे. लंबे वक्त के बाद राबड़ी देवी ने इसका जिक्र किया था. बता दें कि लालू यादव और राबड़ी देवी के कुल नौ बच्चे हैं, जिनमें दो लड़के (तेजस्वी, तेजप्रताप) और बाकी सात लड़कियां हैं. 

राबड़ी को मुख्यमंत्री बनाने पर हुआ था बवाल...
शुरुआती दौर में राबड़ी देवी राजनीति से दूर ही रहीं, लेकिन 90 के दशक के आखिर में जब लालू यादव पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे तो सबकुछ बदल गया. लालू यादव ने अपनी किताब में भी इस घटना का जिक्र किया है तब 1997 में उन्होंने अपने घर पर ही एक बैठक बुलाई थी, विधायकों को इकट्ठा किया और राबड़ी देवी को मुख्यमंत्री बनाने की बात कह दी. 

चारा घोटाले की आंच ऐसी फैली की लालू यादव की कुर्सी चली गई और राबड़ी उस कुर्सी पर विराजमान हो गईं. तब इस तरह सिर्फ एक मुख्यमंत्री की पत्नी होना ही किसी पद के लिए काफी रहा, जिसपर काफी बवाल भी हुआ. लालू की गैर-मौजूदगी में राबड़ी देवी ने ही बिहार की कमान संभाली और उसके बाद वह सक्रिय रूप से राजनीति में शामिल हो गईं.

सोनी लिव की ‘महारानी’ पर जमकर हो रहा है विवाद...
लालू यादव और राबड़ी देवी की सालगिरह उस वक्त में आई है, जब दोनों की राजनीति इन दिनों डिजिटल मीडिया में सुर्खियां बटोर रही हैं. दरअसल, सोनी लिव पर हाल ही में एक वेब सीरीज़ ‘महारानी’ में मुख्य किरदार हुमा कुरैशी निभा रही हैं, लेकिन हर कोई इसे राबड़ी देवी से प्रेरित किरदार ही बता रहा है. 

वेब सीरीज़ में बिहार की राजनीति के 1990 के दशक की राजनीति को दिखाया गया है. उसी तरह एक घोटाला होता है और घर की महिला एक दिन मुख्यमंत्री बन जाती हैं. पूरे किरदार को राबड़ी देवी के इर्द-गिर्द ही बुना गया है. हालांकि, मेकर्स ने बार-बार इससे इनकार किया है. 

महारानी वेब सीरीज में हुमा कुरैशी (फोटो: Twitter)


सीरीज़ में एक डायलॉग भी है, जो वायरल हुआ था जिसमें महारानी का किरदार कहता है ‘हमसे पांच सौ गोबर का गोयठा ठोंका लीजिए, लेकिन एक दिन में इतनी फाइल पर अंगूठा नहीं लगा सकती’. लालू यादव और राबड़ी देवी की बेटी रोहिणी आचार्य ने भी इस वेबसीरीज को लेकर ट्वीट किया था और जिस तरह किरदारों को दिखाया गया है, उसपर आपत्ति जताई थी. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें