scorecardresearch
 

36 साल पहले 5000 में लालू यादव ने खरीदी थी ये जीप, कई बार धक्के मारने की आई नौबत

भारतीय सेना द्वारा नीलाम किया गया वो जीप उन्हें बेहद सस्ते में मिल गया था. उस ज़माने में ये जीप BHQ5558 लालू यादव को 5 हज़ार में मिली थी. लालू यादव जीप खरीदने के लिए खुद ऑक्शन नीलामी में हिस्सा लेने पश्चिम बंगाल के पानापुर गए थे.

लालू ने दशकों बाद चलाई जीप लालू ने दशकों बाद चलाई जीप
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 36 साल पहले लालू ने खरीदी थी अपनी पहली जीप
  • जीप से ही विधानसभा जाते थे लालू, है विशेष लगाव

राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव का एक वीडियो आज सोशल मीडिया पर छाया हुआ है जिसमें वो पटना की सड़कों पर जीप चलाते हुए नजर आ रहे हैं. जीप से लालू यादव का प्यार कोई नया नहीं है. वो अपने जवानी के दिनों से जीप चलाना बेहद पसंद करते हैं.

बुधवार को दशकों बाद एक बार फिर उन्होंने अपनी पहली खरीदी हुई जीप की स्टेयरिंग थामी और पटना की सड़कों पर घूमने निकल गए.  लालू यादव जिस जीप को चला रहे थे उसे उन्होंने 1985 में उस वक्त खरीदा था जब वो विधायक चुने गए थे. 

भारतीय सेना द्वारा नीलाम की गई वो जीप उन्हें बेहद सस्ते में मिल गयी थी. उस ज़माने में ये जीप BHQ5558 लालू यादव को 5 हज़ार रुपये में मिली थी. लालू यादव जीप खरीदने के लिए खुद नीलामी में हिस्सा लेने पश्चिम बंगाल के पानापुर गए थे.

शुरू में जीप ने उन्हें काफी परेशान किया था और यह रास्ते में ही बंद हो जाती थी. उनके पुराने सहयोगी श्याम रजक ने जीप का एक किस्सा सुनाया. उन्होंने बताया कि एक बार लालू प्रसाद की बेटी मीसा बीमार पड़ गई थी. जीप चलाकर लालू यादव खुद डॉक्टर के पास जा रहे थे लेकिन जीप रास्ते में बंद हो गई तब उन्होंने अन्य लोगों के साथ मिलकर जीप को ठेल कर स्टार्ट किया था.

लालू प्रसाद को जीप चलाने का शौक बहुत पहले से रहा है. 1990 में मुख्यमंत्री बनने से पहले वो पहले अक्सर खुद जीप चलकर विधानसभा जाते थे.  उस ज़माने में बहुत कम विधायकों के पास अपनी गाड़ी हुआ करती थी.

एक बार जब शिवनंदन पासवान विधानसभा के उपाध्यक्ष थे तब उन्होंने आसान पर बैठ कर  लालू को एक नोट लिखा कि कर्पूरी जी को लाने के लिये आपकी जीप चाहिये. उसी नोट पर लालू यादव ने लिखा जीप में तेल ही नहीं है.

कर्पूरी ठाकुर दो बार बिहार के मुख्यमंत्री रहे लेकिन उनके पास अपनी गाड़ी नहीं थी. 1988 में अपनी मौत से कुछ महीने पहले उन्होंने गाड़ी खरीदी थी.  लालू प्रसाद को अपनी जीप से बेहद लगाव रहा है.

पिछली बार जब वो पटना आये थे तभी उन्होंने अपनी  जीप के बारे में पूछा था. तब जीप खराब थी. दुबारा जब कोर्ट में पेशी के लिये पटना आये तब भी उन्होंने जीप के बारे में पूछा तब वो ठीक होने के लिए गई हुई थी.

मंगलवार शाम से ही लालू यादव जीप चलाने की ज़िद कर रहे थे लेकिन जीप गैराज से जब बनकर आई तब तक शाम हो चुकी थी. इसी वजह से बुधवार को सुबह ही उन्होंने जीप चलाकर अपनी इच्छा पूरी कर ली.

लालू यादव पहले भी काफी तेज गति से जीप चलाते थे. जानकार बताते है कि  कभी कभी जीप में बैठे कर्पूरी ठाकुर डर जाते थे और कहते थे कि लालू जीप तो अच्छा चलाते हो लेकिन धीरे चलाया करो. बुधवार को भी लालू ने लोगों के कहने पर जीप धीरे चलाई.

लालू प्रसाद यादव ने जीप चलाकर शायद ये संदेश देने की कोशिश  कि है कि वो चाहे बीमार हो लेकिन पार्टी हो या राजनीति स्टेयरिंग अभी तक उन्हीं के हाथ में है.

ये भी पढ़ें:

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें