scorecardresearch
 

सोनिया गांधी ने लालू से की फोन पर बात, महागठबंधन में कड़वाहट के बाद दोस्ती की कवायद?

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने लालू प्रसाद यादव से फोन पर बात की है. दोनों के बीच क्या बात हुई, इसे लेकर अभी कोई ज्यादा जानकारी सामने नहीं आई है. लेकिन माना जा रहा है कि बिहार कांग्रेस के प्रभारी भक्त चरण दास पर की गई लालू की टिप्पणी को लेकर ही दोनों के बीच बात हुई होगी.

लालू यादव और सोनिया गांधी के बीच आज सुबह बात हुई है. (फाइल फोटो) लालू यादव और सोनिया गांधी के बीच आज सुबह बात हुई है. (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • लालू प्रसाद यादव की टिप्पणी से मचा है बवाल
  • बिहार कांग्रेस के प्रभारी को बताया था भकचोन्हर
  • कांग्रेस ने भी की थी शब्द वापस लेने की मांग

बिहार कांग्रेस प्रभारी भक्त चरण दास पर लालू यादव की टिप्पणी से मामला गरमाता जा रहा है. विपक्ष भी लालू यादव की टिप्पणी पर हमलावर हो गया है और उन्हें 'दलित विरोधी' ठहराया है. इसी विवाद के बीच कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने लालू यादव से फोन पर बात की है.

दरअसल, कुछ दिन पहले लालू यादव ने दिल्ली से पटना के लिए निकलते समय भक्त चरण दास को 'भकचोन्हर' बोल दिया था. इस टिप्पणी के बाद से महागठबंधन में कड़वाहट आने की बातें सामने आ रही थीं. कांग्रेस ने भी लालू यादव से शब्द वापस लेने की मांग की थी. इस बीच सोनिया गांधी का लालू यादव से फोन पर बात करने महागठबंधन में आ रही कड़वाहट को दूर करने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है. 

हालांकि, दोनों के बीच क्या बात हुई, इसे लेकर अभी कोई जानकारी सामने नहीं आई है. लेकिन माना जा रहा है कि भक्त चरण दास पर की गई टिप्पणी को लेकर ही सोनिया ने लालू से बात की होगी.

वहीं, इस पर कांग्रेस भी हमलावर हो गई थी और लालू यादव से शब्द वापस लेने की मांग की थी. बिहार प्रदेश के कार्यकारिणी अध्यक्ष अनिल शर्मा ने इस टिप्पणी की निंदा करते हुए कहा था कि कांग्रेस ने ही राबड़ी देवी को मुख्यमंत्री बनाया था, ये बात आरजेडी को नहीं भूलनी चाहिए. टिप्पणी पर भक्त चरण दास ने कहा था कि भगवान उन्हें मानसिक और शारीरिक स्वस्थ रखे.

कांग्रेस नेता और पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार ने लालू यादव की टिप्पणी पर आपत्ति जताई थी. उन्होंने कहा था कि एक सम्मानित नेता ने इस तरह के शब्दों का इस्तेमाल कर देश और बिहार के दलित समुदाय के सम्मान को ठेस पहुंचाई है. उन्होंने तो ये भी कहा था कि इसे एससी-एसटी एक्ट के तहत अपराध माना जाना चाहिए. 

जदयू नेता और बिहार सरकार में मंत्री अशोक चौधरी ने भी इसे अनुसूचित जाति का अपमान बताया था. उन्होंने ये भी कहा था कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद अनुसूचित जाति के हैं, इसलिए आरजेडी ने उनके कार्यक्रम का बहिष्कार किया था. वहीं, पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने लालू यादव से सवाल पूछते हुए कहा था कि वो दलित समुदाय से इतनी नफरत क्यों करते हैं? उन्होंने कहा था कि भक्त चरण दास दलित समुदाय से आते हैं, इसलिए आप उन्हें अपमानित करेंगे.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×