scorecardresearch
 

बिहार: जेडीयू ने CM मांझी समर्थक तीन मंत्रियों से मांगा इस्तीफा

बिहार में जनता दल यूनाइटेड ने अपनी ही पार्टी के तीन मंत्रियों से इस्तीफा मांगा है. पार्टी ने नरेंद्र सिंह, नीतीश मिश्रा और वृषण पटेल को इस्तीफा देने को कहा है. दरअसल, ये तीनों मंत्री सीएम जीतन राम मांझी के समर्थक हैं. ये चाहते हैं कि मांझी सीएम बने रहें और आने वाले चुनाव में भी उन्हें ही मुख्यमंत्री प्रोजेक्ट किया जाए.

बिहार में जनता दल यूनाइटेड ने अपनी ही पार्टी के तीन मंत्रियों से इस्तीफा मांगा है. पार्टी ने नरेंद्र सिंह, नीतीश मिश्रा और वृषण पटेल को इस्तीफा देने को कहा है. दरअसल, ये तीनों मंत्री सीएम जीतनराम मांझी के समर्थक हैं. ये चाहते हैं कि मांझी सीएम बने रहें और आने वाले चुनाव में भी उन्हें ही मुख्यमंत्री प्रोजेक्ट किया जाए.

मांझी ने मांगा मोदी से मुलाकात का वक्त, JDU भड़की

गौरतलब है कि बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और जीतनराम मांझी के बीच रिश्तों पहले जैसे मधुर नहीं रहे. बिगड़ते रिश्तों के बीच अक्सर ही यह खबर आती है कि मांझी को किसी भी वक्त सीएम पद से हटाया जा सकता है. हालांकि नीतीश सार्वजनिक तौर पर इन खबरों का खंडन करते रहे हैं. लेकिन तीन मंत्रियों की ताजा बगावत ने एक बार फिर जेडीयू के अंतर्कलह को सुर्खियों में ला दिया है.

नीतीश विरोधी खेमे के ये मंत्री मांझी को बचाने के अलावा जेडीयू-आरजेडी विलय अभियान की भी हवा निकालने में जुट गए हैं. नरेन्द्र सिंह, वृषण पटेल और नीतीश मिश्रा ने मांझी नहीं हटने देने का दावा किया, साथ ही अगले सीएम के तौर पर भी मांझी को ही प्रोजेक्ट करने की बात कही.

नरेंद्र सिंह तो एक कदम और आगे चल गए. उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी का गुणगान किया. साथ ही इशारा भी दिया कि मांझी को बचाने के लिए बीजेपी से सांठ-गांठ करने को तैयार हैं.

बिहार के कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह ने 'आज तक' से कहा, 'मांझी को हटाना जहर खाने जैसा होगा. मांझी इस कार्यकाल में नहीं हटेंगे साथ ही अगला मुख्यमंत्री विधायक दल तय करेगा. नीतीश के नेतृत्व में लड़ने का मतलब मुख्यमंत्री बनाना नहीं है.'

वहीं, शिक्षा मंत्री वृषण पटेल ने चेतावनी दी है कि अगर मांझी हटाए गए तो मोदी के अश्वमेघ यज्ञ का घोड़ा बिहार में कोई नहीं रोक पाएगा. उनकी मांग है कि बिहार का अगला सीएम भी महादलित ही हो. ग्रामीण विकास मंत्री नीतीश मिश्रा की मानें तो पार्टी में कई विधायक जेडीयू-आरजेडी का विलय के पक्ष में नहीं हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें