scorecardresearch
 

मांझी को हटाने की अटकलों पर नीतीश ने विराम लगाया

तीन दिनों तक दिल्ली में जनता परिवार के महाविलय पर मंथन के बाद पटना लौटे नीतीश कुमार ने साफ कर दिया कि बिहार के मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी को नहीं हटाया जाएगा. पटना पहुंचते ही नीतीश ने कहा कि वो तो जेडीयू और आरजेडी के विलय की बात करने दिल्ली गए थे लेकिन विलय की कोशिश को डिरेल करने के लिए मांझी को हटाने की बात साजिशन फैलाई गई.

तीन दिनों तक दिल्ली में जनता परिवार के महाविलय पर मंथन के बाद पटना लौटे नीतीश कुमार ने साफ कर दिया कि बिहार के मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी को नहीं हटाया जाएगा. पटना पहुंचते ही नीतीश ने कहा कि वो तो जेडीयू और आरजेडी के विलय की बात करने दिल्ली गए थे लेकिन विलय की कोशिश को डिरेल करने के लिए मांझी को हटाने की बात साजिशन फैलाई गई.

हालांकि ये पूरा विवाद नीतीश कुमार के ही बयान से शुरू हुआ था जब दिल्ली जाते वक्त उन्होंने मांझी के मुख्यमंत्री बने रहने की गारंटी देने से मना कर दिया था. गौरतलब है कि मांझी को हटाने की खबरों के कारण जेडीयू में दो फाड़ की स्थिति बन गई थी और इस विवाद के बाद मांझी और भी मजबूत होकर उभरे थे.

विलय की जल्दबाजी में नीतीश कुमार ने 17 जनवरी से शुरू होने वाले अपने संपर्क यात्रा के सभी कार्यक्रमों को भी रद्द कर दिया. 17 जनवरी से नीतीश कुमार जिलेवार संपर्क सभाएं करने वाले थे जो 15 फरवरी को पटना के गांधी मैदान में होने वाली कार्यकर्ता रैली के साथ खत्म होनी थी लेकिन दिल्ली में विलय की बातचीत के बाद तेजी से बदले घटनाक्रम के बाद नीतीश ने अपने राजनीतिक दौरे रद्द कर दिए हैं. खबरों के मुताबिक नीतीश का अगला कार्यक्रम अब विलय के बाद लालू प्रसाद यादव के साथ ही होगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें